कलक्टर बोले: वर्कशॉप के लिए देखें भूमि और भिजवाएं प्रस्ताव

राजस्थान पत्रिका करौली डिपो के स्वतंत्र संचालन की मुहिम लाने लगी रंग
जिला कलक्टर ने रोडवेज स्टैण्ड का जायजा लेकर दिए दिशा-निर्देश
स्टैण्ड परिसर की व्यवस्थाओं में भी सुधार के निर्देश

By: Dinesh sharma

Published: 18 Jul 2021, 06:05 PM IST

करौली. जिला मुख्यालय के रोडवेज डिपो के स्वतंत्र संचालन को लेकर राजस्थान पत्रिका की ओर से चलाई जा रही मुहिम रंग लाने लगी है। डिपो के स्वतंत्र संचालन को लेकर शृंख्लाबद्ध खबरों के बाद जिला कलक्टर सिद्धार्थ सिहाग केन्द्रीय रोडवेज बस स्टैण्ड पहुंचे और पूरे परिसर का जायजा लिया। साथ ही रोडवेज के अधिकारी-कर्मचारियों से रोडवेज डिपो को लेकर विस्तृत चर्चा की। इस दौरान उन्होंने रोडवेज कार्मिकों से डिपो के लिए उस समय की गई व्यवस्थाओं व संचालन को लेकर जानकारी ली। इस पर कार्मिकों ने बताया कि करौली डिपो की स्वीकृति 2010-11 में हुई थी, जिसके बाद 2012 में डिपो का उद्घाटन भी हो गया। डिपो के लिए निर्माण कार्य भी हुआ। डीजल टैंक डाला गया। हालांकि डिपो के अनुसार उस समय वर्कशॉप का पूरा निर्माण नहीं हो सका। कार्मिकों ने बताया कि वर्कशॉप के लिए अधिक भूमि की आवश्यकता होगी। इस पर कलक्टर ने वर्कशॉप के लिए भूमि देखने और इस संबंध में अधिकारियों को प्रस्ताव बनाने के निर्देश दिए। इस मौके पर कलक्टर ने बस स्टैण्ड पर यात्रियों के लिए व्यवस्था, शौचालय, टिकट विंडो की व्यवस्थाओं का जांचा। साथ ही इन्दिरा रसोई का भी जायजा लिया।

इस दौरान उन्होंने रोडवेज स्टैण्ड के बाहर निजी बसों के खड़ा रहने को लेकर सामने आई समस्या को लेकर जिला परिवहन अधिकारी को दिशा-निर्देश दिए। इस दौरान अतिरिक्त जिला कलक्टर सुदर्शनसिंह तोमर, जिला परिवहन अधिकारी नरेश बसवाल, नगरपरिषद आयुक्त नरसीलाल मीना, रोडवेज के यातायात प्रबंधक गजानन्द जांगिड, बस स्टैण्ड प्रभारी शिवदयाल शर्मा, नवलकिशोर शर्मा, अशोक शर्मा, राजीव शर्मा, चेतन भारद्वाज, समाजसेवी बबलू शुक्ला आदि मौजूद रहे।
गौरतलब है कि करौली डिपो के स्वतंत्र संचालन की मांग जोर पकड़ रही है। राजस्थान पत्रिका की ओर से इसके लिए मुहिम चलाई जा रही है। वर्ष 2012 में डिपो का उद्घाटन होने के बाद से यह डिपो हिण्डौन डिपो के अधीन संचालित हो रहा है, जिससे क्षेत्र के बाशिंदे समुचित परिवहन सुविधाओं से वंचित हैं। वहीं कागजों में संचालित करौली डिपो को रोडवेज मुख्यालय जयपुर की ओर से इस वर्ष अप्रेल और मई माह में भरतपुर जोन में सर्वाधिक आय में अव्वल रहने पर जोनल डिपो ऑफ दी मन्थ घोषित किया गया है।

क्षतिग्रस्त दीवार की कराओ मरम्मत
बस स्टैण्ड परिसर में चार दीवारी के क्षतिग्रस्त होने को लेकर कलक्टर ने गंभीरता से लिया। उन्होंने दीवार की स्थिति का जायजा लिया। वहीं इन्दिरा रसोई के भवन के पीछे दीवार के टूटने और मिट्टी धंसने से आई समस्या को देखते हुए उसकी मरम्मत कराने के निर्देश दिए।

पीडब्ल्यूडी को भेजें पत्र
स्टेण्ड परिसर में बने सुलभ शौचालय की बदहाली और उसका उपयोग नहीं होने पर कलक्टर ने कार्मिकों से सवाल किए, जिस पर पता चला कि अभी सुलभ शौचालय हैण्डऑवर नहीं हुआ है और कुछ काम भी बकाया है। इस पर कलक्टर ने बकाया कार्यों के लिए पीडब्ल्यूडी को पत्र लिखने के निर्देश दिए।

इनका कहना है....
करौली डिपो के स्वतंत्र संचालन की क्रियान्विति को लेकर बस स्टैण्ड का निरीक्षण गया। कार्मिकों से इस संबंध में चर्चा कर डिपो के लिए पूर्व में हुई व्यवस्थाओं और वर्तमान स्थिति को लेकर चर्चा की गई। पिछले दिनों में समाचार पत्र व जनता के माध्यम से हमें इसका फीडबैक मिला है। निरीक्षण के दौरान यह देखा गया कि तत्काल क्या व्यवस्थाएं हो सकती है और किन व्यवस्थाओं को प्रक्रिया में शामिल किया जा सकता है। जल्द ही इस संबंध में आगे के प्रयास होंगे।
सिद्धार्थ सिहाग, जिला कलक्टर, करौली

Dinesh sharma Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned