scriptkarauli news | कैलादेवी अभयारण्य क्षेत्र में आएंगे डेढ़ सौ चीतल, भरतपुर से चीतल लाने की उच्च स्तर से मिली अनुमति | Patrika News

कैलादेवी अभयारण्य क्षेत्र में आएंगे डेढ़ सौ चीतल, भरतपुर से चीतल लाने की उच्च स्तर से मिली अनुमति

करौली. प्रदेश के अन्य अभयारण्य क्षेत्रों की भांति कैलादेवी वन्य जीव अभयारण्य को पर्यटन मानचित्र पर पहचान दिलाने की खातिर कैलादेवी अभयारण्य क्षेत्र में पर्यटन शुरू करने के लिए तीन सफारी रूटों के लिए मिली स्वीकृति के बाद अब अभयारण्य क्षेत्र में चीतल लाने की तैयारियां चल चल रही हैं।

करौली

Published: April 29, 2022 12:06:38 pm

दिनेश शर्मा
करौली. प्रदेश के अन्य अभयारण्य क्षेत्रों की भांति कैलादेवी वन्य जीव अभयारण्य को पर्यटन मानचित्र पर पहचान दिलाने की खातिर कैलादेवी अभयारण्य क्षेत्र में पर्यटन शुरू करने के लिए तीन सफारी रूटों के लिए मिली स्वीकृति के बाद अब अभयारण्य क्षेत्र में चीतल लाने की तैयारियां चल चल रही हैं। केन्द्र स्तर से 150 चीतल कैलादेवी अभयारण्य क्षेत्र में लाने की अनुमति मिल चुकी है। यह चीतल भरतपुर के केवलादेव अभयारण्य क्षेत्र से लाकर कैलादेवी अभयारण्य क्षेत्र में छोड़े जाएंगे।
कैलादेवी अभयारण्य क्षेत्र में आएंगे डेढ़ सौ चीतल, भरतपुर से चीतल लाने की उच्च स्तर से मिली अनुमति
कैलादेवी अभयारण्य क्षेत्र में आएंगे डेढ़ सौ चीतल, भरतपुर से चीतल लाने की उच्च स्तर से मिली अनुमति
अभयारण्य क्षेत्र को विकसित करने की दिशा में यह कवायद चल रही है। हालांकि अब अगर समय पर वन विभाग को बजट उपलब्ध हो जाता है तो आगामी वर्षों में अभयारण्य क्षेत्र का विकास होगा। वहीं बाघों का यहां ठहराव बढ़ सकेगा, जिससे अभयारण्य क्षेत्र में अब देशी-विदेशी सैलानी भ्रमण करते नजर आएंगे।
गौरतलब है कि सवाईमाधोपुर के रणथम्भौर नेशनल पार्क से जुड़ा रणथम्भौर बाघ परियोजना (द्वितीय) कैलादेवी अभयारण्य क्षेत्र 774 वर्ग किलोमीटर क्षेत्र में फैला है। जो वन्य जीवों के लिए हर प्रकार से अनुकूल माना जाता है। कैलादेवी अभयारण्य को विकसित करने के लिए केन्द्र सरकार ने टाइगर हैबिटेट जोन घोषित किया था। कैलादेवी अभयारण्य क्षेत्र बाघों के लिए हर दृष्टि से अनुकूल है। रणथम्भौर अभयारण्य को कॉरिडोर बनाकर टाइगर हेबिटेट जोन विकसित करने की भी मंशा इसी उद्देश्य से थी, लेकिन लम्बे समय तक इस ओर अधिक ध्यान नहीं दिया गया। गत वर्ष सफारी रूटों की अनुमति और अब इसी दिशा में चीतल लाने की अनुमति मिलने से उम्मीद है कि अभयारण्य क्षेत्र का विकास हो सकेगा।
तीन सफारी रूटोंकी पहले मिल चुकी है अनुमति
वन विभाग सूत्रों के अनुसार कैलादेवी वन्य जीव अभयारण्य क्षेत्र में तीन सफारी रूटों पर पर्यटन शुरू करने की गत वर्ष स्वीकृति मिली थी, जिससे अभयारण्य क्षेत्र में पर्यटकों के आने और इसके विकसित होने की उम्मीद जागी। इसी कवायद के तहत अब केन्द्र सरकार स्तर से अभयारण्य क्षेत्र में डेढ़ सौ चीतल लाने की वन विभाग को अनुमति मिली है। गौरतलब है कि गत वर्ष प्रदेश के प्रधान मुख्य वन संरक्षक एवं मुख्य वन्यजीव प्रतिपालक की ओर से अभयारण्य क्षेत्र के खोड़ा का नाला से 45 है. एनक्लोजर से नींदर तालाब, बीरम की ग्वाड़ी से महेश्वरा धाम से आशाकी तथा कूरतकी ग्वाड़ी से बंका का नाला तक तीन सफारी रूट शुरू करने के आदेश जारी किए गए थे।
5 हैक्टेयर में एनक्लोजर बनाने की तैयारी
भरतपुर से चीतल लाने की अनुमति मिलने के बाद अब वन विभाग अधिकारी अभयारण्य क्षेत्र में एनक्लोजर बनाने की कवायद में जुटे हैं। चीतलों को पैंथर का शिकार होने से बचाने के उद्देश्य से एनक्लोजर बनाने की योजना है। विभागीय सूत्र बताते हैं कि एनक्लोजर निर्माण के लिए करीब एक करोड़ रुपए की जरुरत होगी, जिसके लिए विभाग की ओर से प्रस्ताव तैयार किए जा रहे हैं। करीब पांच हैक्टेयर क्षेत्रफल में एनक्लोजर बनाने की तैयारी है। इसके साथ ही अभयारण्य क्षेत्र में इन्फ्रास्ट्रेक्चर विकसित करने को भी बजट की आवश्यकता है। सरकार की ओर से समय पर बजट उपलब्ध होता है तो जल्द ही अभयारण्य क्षेत्र विकसित हो सकेगा। गौरतलब है कि अभयारण्य क्षेत्र में वर्तमान में बाघों का मुवमेंट बना हुआ है। साथ ही सांभार, चीतल, सियागोश, भेडि़ए सहित अन्य वन्यजीव भी हैं। रणथम्भौर में बाघों की बढ़ती संख्या के बीच पिछले वर्षों में कई बाघों ने कैलादेवी अभयारण्य क्षेत्र की ओर रुख किया है। वर्तमान में भी यहां टाइगरों का मुवमेंट बना हुआ है।

होटल व्यवसायियों की हो चुकी बैठक
तीन सफारी रूटों की अनुमति मिलने के बाद गत वर्ष अगस्त माह में तत्कालीन जिला कलक्टर सिद्धार्थ सिहाग ने अभयारण्य क्षेत्र को लेकर गहरी रुचि दर्शाई। उन्होंने यहां होटल व्यवसायियों की बैठक ली, जिसमें कई बड़े होटल व्यवसायी शामिल हुए थे। सिहाग ने उन्हें जिले की प्राकृतिक, ऐतिहासिक धरोहरों, कैलादेवी अभयारण्य क्षेत्र आदि से रू-ब-रू कराते हुए जिले में अपना व्यवसाय शुरू कर यूनिट स्थापित करने की बात कही थी। इस पर होटल व्यवसायियों ने भी अपने सुझाव देते हुए सहयोग का विश्वास दिलाया था।

इनका कहना है.........
कैलादेवी वन्य जीव अभयारण्य क्षेत्र में तीन सफारी रूटों पर पर्यटन शुरू करने की स्वीकृति गत वर्ष मिली थी। इसी क्रम में अब केन्द्र सरकार स्तर से भरतपुर केवलादेव अभयारण्य से डेढ़ सौ चीतल लाने की अनुमति मिल गई है, जिन्हें रखने के लिए अभयारण्य क्षेत्र में एनक्लोजर बनाया जाएगा, जिसके बजट के लिए प्रस्ताव राज्य सरकार को भिजवाए जा रहे हैं।
डॉ. रामानन्द भाकर, उपवन संरक्षक, रणथम्भौर बाघ परियोजना (द्वितीय) करौली

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

Weather. राजस्थान में आज 18 जिलों में होगी बरसात, येलो अलर्ट जारीसंस्कारी बहू साबित होती हैं इन राशियों की लड़कियां, ससुराल वालों का तुरंत जीत लेती हैं दिलशुक्र ग्रह जल्द मिथुन राशि में करेगा प्रवेश, इन राशि वालों का चमकेगा करियरउदयपुर से निकले कन्हैया के हत्या आरोपी तो प्रशासन ने शहर को दी ये खुश खबरी... झूम उठी झीलों की नगरीजयपुर संभाग के तीन जिलों मे बंद रहेगा इंटरनेट, यहां हुआ शुरूज्योतिष: धन और करियर की हर समस्या को दूर कर सकते हैं रोटी के ये 4 आसान उपायछात्र बनकर कक्षा में बैठ गए कलक्टर, शिक्षक से कहा- अब आप मुझे कोई भी एक विषय पढ़ाइएUdaipur Murder: जयपुर में एक लाख से ज्यादा हिन्दू करेंगे प्रदर्शन, यह रहेगा जुलूस का रूट

बड़ी खबरें

Delhi News Live Updates: दिल्ली विधानसभाः शुरू हुआ मानसून सत्र, दुर्गेश पाठक ने ली शपथSidhu Moose Wala Murder: दिल्ली पुलिस को बड़ी कामयाबी, सिद्धू मूसेवाला को नजदीक से गोली मारने वाला शूटर अंकित गिरफ्तारMaharashtra Politics: महाराष्ट्र में फ्लोर टेस्ट में एकनाथ शिंदे सरकार को मिला बहुमत, 164 विधायकों ने किया समर्थनपीएम मोदी आज जाएंगे आंध्र प्रदेश, अल्लुरी सीताराम राजू की प्रतिमा का करेंगे अनावरणहिमाचल प्रदेश के कुल्लू में बड़ा हादसा, सैंज घाटी में गिरी बस, बच्चों समेत 16 लोगों की मौतNCR के एरिया का दायरा कम करना चाहती है हरियाणा सरकार, विपक्ष के नेता भूपेंद्र सिंह हुड्डा जता चुके हैं विरोधसूरत फैमिली कोर्ट ने एक दिन में 303 मामलो का किया निपटारा, जज आरजी देवधारा ने कहा- यह एक दिन का रिकॉर्डDelhi News Live Updates: दिल्ली विधानसभाः शुरू हुआ मानसून सत्र, दुर्गेश पाठक ने ली शपथ
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.