scriptkarauli news | करौली जिले के 13 में से 8 बांधों के पेटे पूरी तरह सूखे, 5 बांधों में भी पानी की कम ही हुई आवक | Patrika News

करौली जिले के 13 में से 8 बांधों के पेटे पूरी तरह सूखे, 5 बांधों में भी पानी की कम ही हुई आवक

करौली. मानसून के दौर में प्रदेश के दूसरे हिस्सों में भले ही झमाझम बारिश के दौर के चलते बांध-तालाब छलक उठे हों, लेकिन करौली जिले के बांध-तालाब पानी को तरस रहे हैं।

करौली

Published: July 21, 2022 11:32:57 am

करौली. मानसून के दौर में प्रदेश के दूसरे हिस्सों में भले ही झमाझम बारिश के दौर के चलते बांध-तालाब छलक उठे हों, लेकिन करौली जिले के बांध-तालाब पानी को तरस रहे हैं। स्थिति यह है कि जल संसाधन विभाग के अधीन 13 बांधों में से 8 बांध तो पूरी तरह रीते पड़े हैं, जबकि शेष अन्य 5 बांधों में भी इस बार अभी तक पर्याप्त पानी नहीं आया है। मानसून का एक माह का दौर गुजर चुका है। हालांकि जल संसाधन विभाग के आंकड़ों के अनुसार इस अवधि में बारिश की तुलना की जाए तो गत वर्ष के मुकाबले अधिक बारिश हो चुकी है, लेकिन जहां बांध-तालाबों को पानी की दरकार बनी हुई, वहीं दूसरी ओर दिन-प्रतिदिन बढ़ रही उमसभरी तेज गर्मी भी लोगों को व्याकुल कर रही है।
करौली जिले के 13 में से 8 बांधों के पेटे पूरी तरह सूखे, 5 बांधों में भी पानी की कम ही हुई आवक
करौली जिले के 13 में से 8 बांधों के पेटे पूरी तरह सूखे, 5 बांधों में भी पानी की कम ही हुई आवक
जल संसाधन विभाग की ओर से 15 जून से मानसून की सक्रियता मानी जाती है। इस प्रकार मानसून का एक माह का दौर निकल चुका है, लेकिन बांध-तालाबों को अभी पूरी तरह पानी का इंतजार बना हुआ है। सावन माह का भी एक सप्ताह गुजरने के बाद बारिश का टोटा बना हुआ है। जबकि जल संसाधन विभाग के आंकड़ों के अनुसार जिले में अब तक 190 एमएम से अधिक बारिश दर्ज हो चुकी है, जो गत वर्ष से अब तक 58 एमएम से अधिक है।
पांचना में महज 40 सेंटीमीटर पानी आया
इस बार जिले में अब तक मानसून के पूरी तरह सक्रिय नहीं हो पाने से किसी भी बांध-तालाब में पानी नहीं आ सका है। स्थिति यह है कि जिले का एक भी बांध अपनी भराव क्षमता तो दूर उसके आसपास तक नहीं पहुंच सका है। पांचना बांध में एक माह की अवधि में महज 40 सेंटीमीटर पानी ही आ सका हे। अपनी कुल भराव क्षमता से अभी बांध में पानी की बहुत दरकार है। 258.62 मीटर की कुल भराव क्षमता के पांचना बांध का गेज 15 जून को 254.80 मीटर पर था, जो अब 255.20 मीटर पर है।

सभी बांधों से नहीं होती सिंचाई
हालांकि जिले के सभी बांधों से सिंचाई नहीं होती है, लेकिन जिन बांधों से सिंचाई के लिए पानी छोड़ा जाता है, उनसे प्रतिवर्ष किसान उम्मीद लगाए रहते हैं। लोगों और किसानों का कहना है कि यदि मानसून मेहरबान नहीं हुआ तो फसल के लिए पानी का संकट हो सकता है। साथ ही क्षेत्र का भू-जल स्तर भी प्रभावित होगा। ऐसे में लोग इन्द्रदेव से अच्छी बारिश की कामना कर रहे हैं।
इन बांधों में पेटा रीता
जिले के बांधवा, बैरूण्डा, विशनसमंद, मोहनपुरा, न्यूटेंक महस्वा, फतेहसागर, भूमेन्द्र सागर, खिरखिड़ी बांध ऐसे हैं, जिनका पेटा पूरी तरह रीता पड़ा है। हालांकि इनमें से कुछ बांध तो ऐसे हैं, जिनमें वर्षों से पानी ही नहीं पहुंचा।

बांध कुल गेज वर्तमान गेज
पांचना 258.62 255.20
कालीसिल 25 18.17
जगर 30 8.16
मामचारी 19 8.33
बांधवा 12 -
बैरुण्डा 12 -
नींदर 17 8
विशनसमंद 26 -
मोहनपुरा 16 -
न्यूटैंक महस्वा 8 -
फतेहसागर 16 -
भूमेन्द्रसागर 16 -
खिरखिड़ी 19.6 -
(गेज पांचना मीटर में अन्य फीट में)

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

Monsoon Alert : राजस्थान के आधे जिलों में कमजोर पड़ेगा मानसून, दो संभागों में ही भारी बारिश का अलर्टमुस्कुराए बांध: प्रदेश के बांधों में पानी की आवक जारी, बीसलपुर बांध के जलस्तर में छह सेंटीमीटर की हुई बढ़ोतरीराजस्थान में राशन की दुकानों पर अब गार्ड सिस्टम, मिलेगी ये सुविधाधन दायक मानी जाती हैं ये 5 अंगूठियां, लेकिन इस तरह से पहनने पर हो सकता है नुकसानस्वप्न शास्त्र: सपने में खुद को बार-बार ऊंचाई से गिरते देखना नहीं है बेवजह, जानें क्या है इसका मतलबराखी पर बेटियों को तोहफे में देना चाहता था भाई, बेटे की लालसा में दूसरे का बच्चा चुरा एक पिता बना किडनैपरबंटी-बबली ने मकान मालिक को लगाई 8 लाख रुपए की चपत, बलात्कार के केस में फंसाने की दी थी धमकीराजस्थान में ईडी की एन्ट्री, शेयर ब्रोकर को किया गिरफ्तार, पैसे लगाए बिना करोड़ों की दौलत

बड़ी खबरें

बिहारः मंत्रियों में विभागों का बंटवारा, गृह मंत्रालय नीतीश के पास, तेजस्वी के पास 4 विभाग, तेज प्रताप का घटा कद, देखें Listबिहार कैबिनेट में अगड़ी जातियों का दबदबा खत्म, भूमिहार से 2 तो ब्राह्मण से मात्र 1 मंत्री, यादव से सबसे अधिक 8 मंत्रीगुजरात में कांग्रेस को बड़ा झटका, 6 MLA बीजेपी में हो सकते हैं शामिलTarget Killing In Kashmir: 'मोदी सरकार कश्मीरी पंडितों की हिफाजत करने में हुई फेल', AIMIM चीफ असदुद्दीन ओवैसीJammu-Kashmir: शोपियां में नाम पूछकर आतंकियों ने कश्मीरी पंडितों पर बरसाईं गोलियां, एक की मौत, लश्कर फ्रंट ने ली जिम्मेदारीशर्मनाक हरकत : शव को अस्पताल ले जाने मांगी मदद, तो नगर पंचायत ने भेज दी कचरा गाड़ीJammu-Kashmir: पहलगाम में 39 ITBP जवानों को ले जा रही बस खाई में गिरी, 7 जवान शहीद, अमित शाह ने जताया दुखKejriwal Press Conference: केजरीवाल ने बताया कैसे बनेगा देश का हर गरीब अमीर, इन 4 बड़े कामों पर दिया जोर
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.