करौली की बेटी ने चन्द्रशिला चोटी पर फहराया तिरंगा

करौली की बेटी ने चन्द्रशिला चोटी पर फहराया तिरंगा
माइनस ११ डिग्री तापमान में पहुंची चंद्रशिला चोटी पर

करौली। यहां नई सब्जी मण्डी के समीप की निवासी मनीषा राजपूत जिले की पहली
पर्वत रोहिणी बनी हैं। उन्होंने बीते दिनों अपने दल के साथ उत्तराखंड के चंद्रशिला और शिव मंदिर पर तिरंगा फहरा कर करौली का भी नाम रोशन कर दिया। मनीषा राजपूत, अंतरराष्ट्रीय साहसिक संस्था की सदस्य होने के साथ करौली जिले के सिविल डिफेंस की स्वयंसेवक भी है। साथ ही वह 6 वर्षों से स्काउटिंग में भी अपनी सहभागिता दे रही हैं।

By: Surendra

Published: 30 Dec 2020, 07:30 PM IST

करौली की बेटी ने चन्द्रशिला चोटी पर फहराया तिरंगा
माइनस 11 डिग्री तापमान में पहुंची चंद्रशिला चोटी पर

करौली। यहां नई सब्जी मण्डी के समीप की निवासी मनीषा राजपूत जिले की पहली
पर्वत रोहिणी बनी हैं। उन्होंने बीते दिनों अपने दल के साथ उत्तराखंड के चंद्रशिला और शिव मंदिर पर तिरंगा फहरा कर करौली का भी नाम रोशन कर दिया। मनीषा राजपूत, अंतरराष्ट्रीय साहसिक संस्था की सदस्य होने के साथ करौली जिले के सिविल डिफेंस की स्वयंसेवक भी है। साथ ही वह 6 वर्षों से स्काउटिंग में भी अपनी सहभागिता दे रही हैं।
मनीषा ने बताया कि चंद्रशिला की पर्वत चोटी की ऊंचाई 13 हजार 123 फीट है। यहां तक पहुंचने का मिशन उसने 3 दिन में पूरा किया। उसने यहां पर पहुंचने से एक दिन पहले 11 हजार 811 फीट ऊंचाई पर तुंगनाथ चोटी पर स्थित शिव मंदिर पर भी तिरंगा फहराया था। यह स्थान चंद्रशिला की राह में ही था। मनीषा के अनुसार उनके मिशन वाला पर्वत क्षेत्र पूरी तरह से बर्फीला है। तिरंगा लहराने वाले दिन इन चोटियों का तापमान माइनस 11 डिग्री था। मनीषा के साथ इस अभियान में संस्था के अध्यक्ष शहाबुद्दीन (जिला मुरादाबाद) प्रधानाचार्य अंकित कुमार शर्मा (यूपी सहारनपुर) सचिव जियाउल (जिला मुरादाबाद) कोऑर्डिनेटर पूनम पाल (जिला मुरादाबाद) भी साथ रहे थे। उल्लेखनीय है कि इससे पहले मनीषा राजपूत हरकीदून (उत्तराखंड) जैसे पर्वत पर भी कामयाबी से पहुंचकर तिरंगा फहरा चुकी है।

Surendra Bureau Incharge
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned