48 करोड़ की सीवरेज लाइन हैण्डओवर होने से पहले लीकेज

करौली. स्थानीय नगरपरिषद क्षेत्र में (Municipal Council Karauli) 48 करोड़ रुपए की लागत से डाली गई सीवरेज लाइन हैण्डओवर होने से पहले ही लीकेज हो गई है। जिससे करौली शहर की अधिकतर कॉलोनियों में मलबा सड़क पर आने से सडांध फैल गई है।

Vinod Sharma

February, 1512:39 PM

करौली. स्थानीय नगरपरिषद क्षेत्र में (Municipal Council Karauli) 48 करोड़ रुपए की लागत से डाली गई सीवरेज लाइन हैण्डओवर होने से पहले ही लीकेज हो गई है। जिससे करौली शहर की अधिकतर कॉलोनियों में मलबा सड़क पर आने से सडांध फैल गई है। करौली शहर को स्वच्छ बनाने के लिए राज्य सरकार ने वर्ष 2013 में आरयूडीआईपी के माध्यम से ४८ करोड़ रुपए मंजूर कर ३२ किलोमीटर की सीवरेज लाइन डाली थी। इसका निर्माण कार्य शुरू से अव्यवस्थित रहा, जिससे निर्माण अवधि २०१६ की तुलना में २०१८ में निर्माण कार्य हुआ। आरयूडीआईपी का अधिशासी अभियंता कार्यालय भी करौली में बंद कर दिया गया, तब आरयूडीआईपी के अधिकारियों ने ठेकेदार के कर्मचारियों को छोड़ नगरपरिषद से कहा कि कनेक्शन की प्रक्रिया पूरी होने के बाद सीवरेज लाइन का फ्लो टेस्ट करा दिया जाएगा, फिर हैण्डओवर किया जाएगा। लेकिन अभी तक लाइनों का फ्लो टेस्ट नहीं हुआ। इस कारण नगरपरिषद ने इसे हैण्डओवर भी नहीं लिया।
जगह-जगह से ओवरफ्लो चैम्बर
हैण्डओवर होने से पहले ही सीवरेज लाइन लीकेज हो गई है व चैम्बर ओवरफ्लो हैं। करौली की गौमती कॉलोनी के लोगों ने बताया कि एक महीने से चैम्बर ओवरफ्लो है, सीवरेज सड़क पर बहता है। सुभाषनगर, तीन बड़, शिकारगंज, कॉलेज के समीप व कॉलेज के समीप लम्बे समय से लाइन ब्लाकेज है। इस कारण उक्त कॉलोनियों में गंदगी से सडांध फैली हुई है। इस कारण बीमारी फैलने की आशंका भी सामने आ रही है। लोगों ने बताया कि गंदगी की वजह से रहना दुश्वार हो गया है।
सरकार के पास पहुंचा मामला
सीवरेज लाइन के हैण्डओवर नहीं होने से करौली में हो रही अव्यवस्था का मामला अब राज्य सरकार के स्तर पर भी पहुंचा। इस संबंध में जिला कलक्टर ने पत्र लिख स्वायतशासन विभाग के अधिकारियों से लाइन की फ्लो टेस्ट कराने को कहा। सूत्रों ने बताया कि नगरपरिषद के अधिकारियों ने आरयूडीआईपी से सम्पर्क साधा था, लेकिन उन्होंने संतोषजनक जवाब नहीं दिया। इसके बाद परिषद ने जिला कलक्टर के मार्फत पत्र भिजवाया है।
यह हो रही परेशानी
हैण्डओवर नहीं होने से नगरपरिषद के कर्मचारियों को पता नहीं है कि लाइन कहां-कहां पर है, जिससे समस्या आने पर उसका समाधान नहीं हो रहा है। कर्मचारियों को प्रशिक्षण नहीं दिया गया है। लोग भी कूड़ा-करकट भी पानी के साथ लाइनों में भेज रहे हैं।

हैण्डओवर की मांग की है
सीवरेज लाइन अभी तक हैण्डओवर नहीं हुई है, जिससे कामकाज में परेशानी आ रही है। आमजन परेशान नहीं हो। इस कारण कुछ कार्य कर रहे हैं। आरयूडीआईपी को पत्र भेज हैण्डओवर की मांग की है।
शिम्भुलाल मीना आयुक्त नगरपरिषद करौली।

vinod sharma
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned