फडक़ा और सफेद लट कर रही बाजरा की फसल चौपट

Puffed and white bunched millet crop collapsed

बालियोंं को किया खोखला, किसान चितिंत

By: Anil dattatrey

Published: 10 Sep 2020, 12:07 PM IST

हिण्डौनसिटी. क्षेत्र के महूइब्राहिमपुर व तिघरिया सहित आसपास के कई गांवों में खेतों में लहरा रही बाजरा की फसल में फडक़ा कीट व सफेट लट का प्रकोप जोरों पर है। दिनों दिन बढ़ते कीट व लट के प्रकोप से किसानों की बाजरा की अच्छी पैदावार की उम्मीद टूटने लगी है। कटाई से एक पखवाड़ा पहले पककर तैयार हो रही फसल में कीट के प्रकोप से किसान चिंतित हैं। सफेद लट ने बाजरा की बालियों को चट कर खोखला कर दिया है। तिघरिया निवासी मंगल सिंह सूबेदार सहित दर्जनों किसानों ने बताया कि इस बार बाजरा की बंपर पैदावार की आस बंधी थी। लेकिन एक साथ दो रोगों के प्रकोप ने किसान को उम्मीद पर पानी फेर दिया है। आरोप है कि एक पखवाड़े बीतने के बाद भी कृषि विभाग की ओर से कीट और लट से बचाव का परामर्श नहीं मिलने से किसान परेशान हैं।करसौली क्षेत्र में भी लट का प्रकोपहिण्डौनसिटी. नगर परिषद क्षेत्र के वार्ड 38 सहित करसौली क्षेत्र के गांवों में भी बाजरा की फसल फडक़ा और सफद लट रोग की जद में है। बाजरा के कमोबेश हर पौधे में लट का प्रकोप देखने को मिल रहा है। पूर्व पार्षद दिनेश सैनी ने बताया कि सफेद लट ने बाजरा की बालियों को दाना चट कर खोखला कर दिया है। क्षेत्र के बैधवाड़ा, पटपरीकापुरा, बाघा का हनुमान, पिपरीवाला, खिजुरवाडा, गुलाला के पुरा, भंडारिया का पुरा, रापतिया का पुरा, जुगती का पुरा, बंधवाड़ा, प्रहलादकुंड, मेहंदीवाड़ा, कैमरी वालों का पुरा, बाढ़, करसोली, कारवाडी, नरसिंहपुरा, केराका पुरा में बाजरा की फसल में सफेद लट और फडका रोग लगा है। कृषि विभाग ने अभी तक किसानों की समस्या का समाधान नहीं किया है।

Anil dattatrey Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned