राजस्थान: पुलिस-प्रशासन नहीं रोक पा रहे पेड़ों की कटाई, हरी—भरी मोटी लकडियों को ये कर रहे ट्रकों के जरिए सप्लाई

रोजाना वाहन थाने के सामने होकर गुजरते रहते हैं, सिपाही शायद आखों पर पट्टी बांध लेते हैं....

By: Vijay ram

Published: 16 May 2018, 05:08 PM IST

करौली.
राजस्थान में कई स्थानों पर पेड़ों की कटाई हो रही है, लेकिन पुलिस—प्रशासन की कार्रवाई नहीं होती। करौली में बालघाट की ग्राम पंचायत राजौली में बबूल के हरे पेड़ों की कटाई जोरों पर चल रही है।

 

वन विभाग की अनदेखी से कटाई नहीं रुक रही।ग्रामीणों ने बताया कि बबूल के पेड़ों से क्षेत्र में स्वच्छ वातावरण बना रहता है, लेकिन कटाई के कारण क्षेत्र उजाड़ नजर आ रहा है। लोगों ने बताया कि पेड़ों की काफी समय से कटाई चल रही है। इनकों रुकवाने की वन विभाग व प्रशासनिक अधिकारियों से कई बार मांग कर चुके हैं, लेकिन ध्यान नहीं दिया जा रहा।ग्रामीण रामस्वरूप व अन्य लोगों ने बताया कि पेड़ों की लकड़ी बाजार में बेची जा रही है, जिससे मोटी रकम मिलती है। लकडिय़ों को वाहनों में भरकर ले जाने वालों के खिलाफ पुलिसकर्मी भी कार्रवाई नहीं कर रहे। रोजाना वाहन थाने के सामने होकर गुजरते रहते हैं। ग्रामीणों ने कार्रवाई करने की मांग की है।

 

इधर, रोशनी से झिलमिलाया पचमेड़ी धाम
गुढ़ाचन्द्रजी में पचमेड़ी धाम पर रात ११ सौ दीपक प्रज्वलित किए गए। श्रद्धालु हुकम प्रजापत ने बताया कि पचमेड़ी धाम स्थित नृसिंह भगवान मंदिर पर दीपकों से स्वास्तिक, रंगोली, मांडने बनाए गए। संत रामनिवासदास के सानिध्य में आयोजित कार्यंक्रम में भोलेनाथ, सिद्धेश्वर, सफेद झूले वाले, पीली चद्दर वाले बाबा पर दीपकों से रोशनी की गई। इससे मंदिर दीपकों की रोशनी से झिलमिला उठा। उल्लेखनीय है कि १८ मई से रामेश्वर धाम में शिवमहापुराण कथा होगी। जिसमें पचमेड़ी धाम से सैकड़ों लोग बसों से रवाना हुए। पदयात्रा में गुढ़ाचन्द्रजी सहित गंगापुरसिटी, हिण्डौन, सिकराय, दौसा, जयपुर , अलवर के कई लोग शामिल थे।

 

धर्म पर चलें मनुष्य
मंडरायल. यहां नीदर मोड़ के पास वनखंडी हनुमान मंदिर पर भक्तों की ओर से आयोजित भागवत कथा में सोमवार को काफी भीड़ रही। अमरगढ़ आश्रम के महंत रसिक बिहारी दास महाराज, मूडघुसा आश्रम के महंत लखन दास महाराज व वनखंडी हनुमान मंदिर के महंत गोपाल दास के सानिध्य में कथा का आयोजन हो रहा है।

 

आचार्यकुंजबिहारी शास्त्री ने अमर कथा, शुकदेवजी का जन्म, राजा परीक्षत का जन्म, भीष्म पितामह सहित अन्य प्रसंगों का वर्णन किया। उन्होंने कहा कि मनुष्य को धर्म पर चलना चाहिए।आचार्य ने कलियुग में गायों का महत्व बताते हुए गोसेवा करने पर जोर दिया।चम्बल मार्ग पर खांडेपुरा के समीप संचालित हरिओम श्रीराधे दिव्यांग गौशाला में हो गायों की सेवा की सराहना करते हुए एक ट्रॉली चारा पहुंचाने की घोषणा की।
...

Vijay ram
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned