करौली जिले में कैलादेवी आस्थाधाम में लौटी रौनक, कोरोना संक्रमण को लेकर खतरा

कैलादेवी आस्थाधाम में लौटी रौनक, कोरोना संक्रमण को लेकर खतरा
शारदीय नवरात्र शुरू के साथ ही 7 महीने से करौली जिले के कैलादेवी आस्थाधाम में पसरा सन्नाटा खत्म हुआ है। यहां पर यात्रियों की लगातार आवक हो रही है। इस बार कोरोना महामारी के कारण चैत्र माह में भरना वाला उत्तर भारत प्रसिद्ध मेला नहीं हुआ था। इसके बाद भी माता के दर्शन बंद रहे। दर्शन खुले तो पहले श्राद्ध पक्ष तथा इसके बाद पुरुषोत्तम मास के कारण श्रद्धालुओं की आवक कम ही रही। अब नवरात्र शुरू होने के साथ ही दर्शनार्थियों की आवक बढ़ गई है।

By: Surendra

Published: 18 Oct 2020, 09:29 PM IST


करौली जिले में कैलादेवी आस्थाधाम में लौटी रौनक, कोरोना संक्रमण को लेकर खतरा
नहीं हो पा रही कोरोना गाइड लाइन की पालना
शारदीय नवरात्र शुरू होने के साथ ही 7 महीने से करौली जिले के कैलादेवी आस्थाधाम में पसरा सन्नाटा खत्म हुआ है। यहां पर यात्रियों की लगातार आवक हो रही है। इस बार कोरोना महामारी के कारण चैत्र माह में कैलादेवी के दर्शन बंद थे। इस कारण से चैत्र माह में भरना वाला उत्तर भारत प्रसिद्ध मेला आयोजित नहीं हुआ था। इसके बाद भी माता के दर्शन बंद रहे। बीते सात सितम्बर को दर्शन खुले तो पहले श्राद्ध पक्ष तथा इसके बाद पुरुषोत्तम मास के कारण श्रद्धालुओं की आवक कम ही रही। अब नवरात्र शुरू होने के साथ ही कैलादेवी के दर्शनार्थियों की आवक बढ़ गई है। इससे 7 माह से आस्थाधाम में पसरा सूनापन खत्म हुआ है। दुकानदारों के चेहरे भी खिल उठे हैं। हालांकि यात्रियों की अधिक आवक के कारण कोरोना संक्रमण से बचाव के लिए गाइड लाइन की आस्था धाम में पालना नहीं हो पा रही है। यात्रा बिना मास्क के और सोश्यल डिस्टेंस की अवहेलना करते हुए बाजार में घूम रहे हैं। मंदिर प्रांगन में भी यात्रियों की भीड़ के कारण कोरोना गाइड लाइन का उल्लंघन हो रहा है। ऐसे में कोरोना संक्रमण की आशंका से लोग चिंतित भी हैं।

Surendra Bureau Incharge
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned