scriptSlow move of 'Mission' to bring 'water' to the homes of the government | राजस्थान के इस शहर में सरकार के घरों तक 'जल' पहुंचाने के 'मिशन' की धीमी चाल | Patrika News

राजस्थान के इस शहर में सरकार के घरों तक 'जल' पहुंचाने के 'मिशन' की धीमी चाल

locationकरौलीPublished: Oct 01, 2022 09:47:53 pm

Submitted by:

Anil dattatrey

Slow move of 'Mission' to bring 'water' to the government's house in this city of Rajasthan

हिण्डौन में दूर की कौड़ी साबित हो रहा लक्ष्य

दो साल में हुए महज 3207 नल कनेक्शन

राजस्थान के इस शहर में सरकार के  घरों  तक 'जल' पहुंचाने के 'मिशन' की धीमी चाल
राजस्थान के इस शहर में सरकार के घरों तक 'जल' पहुंचाने के 'मिशन' की धीमी चाल
हिण्डौनसिटी. केन्द्र और राज्य की सरकारें मिलकर दूर-दराज की गांव-ढाणियों के लोगों के घरों तक नल से जल पहुंचाने के लिए भरसक प्रयत्न कर रहीं हंै, लेकिन जन स्वास्थ्य अभियांत्रिकी विभाग के अभियंताओं की अनदेखी और संवेदकों की ढिलाई की वजह से महत्वाकांक्षी जल जीवन मिशन (हर घर नल योजना) परवान नहीं चढ़ पा रहा है। हिण्डौन खण्ड इस मामले में फेल साबित हो रहा है। मिशन के अन्र्तगत खण्ड क्षेत्र में 42 हजार 870 नल कनेक्शनों का लक्ष्य रखा है, लेकिन अब तक केवल 3207 ही नल कनेक्शन हो पाए हैं। कार्य की धीमी रफ्तार के कारण दो साल से अधिक अवधि में महज 7.48 फीसदी ही कार्य हो पाया है। विशेष बात यह है कि कई योजनाओं के कार्य में सब स्टैण्डर्ड वर्क या निर्धारित मानदंडों से कम गुणवत्ता मिलने पर भी न तो संवेदकों पर कार्रवाई की जा रही और ना ही अभियंता कोई सबक ले रहे हैं।

जलदाय विभाग के अनुसार जल मिशन के तहत हर घर नल की शुरूआत 15 अगस्त 2019 को हुई थी। इसमें हिण्डौन खण्ड के 160 गांवों को चिन्हित कर 128 योजनाओं को स्वीकृत किया था। पहले चरण में विभाग द्वारा 135 गांवों में 39 हजार 393 घरों तक नल से जल पहुंचाने के लिए 110 योजनाएं स्वीकृ़त कर 148.82 करोड़ रुपए के कार्यादेश वर्ष 2019 और 2020 में जारी कर दिए गए। दो वर्ष से ज्यादा समय बीतने को है, लेकिन अब तक केवल 3207 ही नल कनेक्शन हो पाए हैं। जलदाय विभाग जिस कछुआ चाल से कनेक्शन करवा रहा है, उससे तो वर्ष 2024 तक लोगों के घरों तक पानी पहुंच ही नहीं पाएगा।

211 करोड़ रुपए की आएगी लागत
हिण्डौन खण्ड़ में जल मिशन के तहत हर घर नल कनेक्शन किए जा रहे हैं। इसके लिए सरकार ने कुल 211 करोड़ रुपए के बजट की वित्तीय एवं प्रशासनिक स्वीकृति की है। जिन 110 योजनाओं का कार्य महज सवा सात प्रतिशत की प्रगति पर है, इसके विपरीत विभाग संवेदकों को अब तक 50 करोड़ से अधिक भुगतान कर चुका है। हालांकि विभाग का तर्क है, कि 110 में 38 योजनाओं का कार्य लगभग 90 प्रतिशत पूर्ण हो चुका है, लेकिन जन सहयोग की 10 प्रतिशत राशि नहीं मिलने और ट्यूबवैलों के विद्युत कनेक्शन नहीं होने के कारण योजनाएं गति नहीं पकड़ पा रहीं हैं।

पानी की कमी से 24 योजना खटाई में-
खास बात यह है कि ट्यूबवैलों में पानी की कमी के कारण् स्वीकृत हुई 24 जल योजना खटाई में पड़ गई हैं। इनके अन्र्तगत आने वाले 30 गांवों को फिलहाल पानी नहीं मिल पाएगा। विभाग अब दुबारा से प्रस्ताव तैयार कर योजना को अमलीजामा पहनाने में लगा हैं। इसके साथ ही 26 योजनाओं के 40 गावों के लिए संशोधित प्रशासनिक व वित्तीय स्वीकृति जल्द जारी की जाएगी। 10 गांवों की 10 योजनाओं की निविदा भी प्रक्रियाधीन हैं। धीमी गति से रेंग रही योजना से इन गावों के लोग 2024 तक भी प्यासे ही रहेंगे।

इन गांवों में बंद पड़े हैं जेजेएम के कार्य-
जलदाय विभाग के अनुसार क्षेत्र के हाडौली, वमनपुरा गुर्जर, अटकोली, दुर्गसी, झिरना, सोमला व क्यारदा खुर्द गावों में जल जीवन मिशन के कार्य पूरी तरह से बंद पड़े हुए हैं। क्यारदा खुर्द के संवेदक के खिलाफ कार्रवाई के लिए विभाग ने जयपुर मुख्यालय को पत्र लिखा है। जबकि अन्य गावों में भूमि विवाद, चौथ वसूली व दबंगों के भय से काम ठप पड़े हैं। (पत्रिका संवाददाता)

इनका कहना है-

्रजेजेएम के कार्य को प्रगति देने के लिए अभियंताओं और संवेदकों से लगातार संपर्क साधा जा रहा है। कई जगहों पर भूमि और आपसी विवादों से काम शुरु होने में देरी हुई। अब बिजली कनेक्शन और जन सहयोग राशि के अभाव में कार्य अटका हुआ है।
- मुकेश कुमार मीणा, अधिशासी अभियंता, पीएचईडी, खण्ड-हिण्डौनसिटी।



फैक्ट फाइल......

42 हजार 870 है हिण्डौन खण्ड में जल जीवन मिशन में नल कनेक्शन का लक्ष्य ।

3207 नल कनेक्शन हुए दो वर्ष में।
15 अगस्त 2019 को हुआ जल जल जीवन मिशन का आगाज।

211 करोड़ रुपए का बजट हुआ स्वीकृत।

2024 तक पूरा होना है नल कनेक्शन कार्य।

160 गांवों में होने हैं नल कनेक्शन ।

7.48 प्रतिशत कार्य हुआ है अब तक।

सम्बधित खबरे

सबसे लोकप्रिय

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

Weather Update: राजस्थान में बारिश को लेकर मौसम विभाग का आया लेटेस्ट अपडेट, पढ़ें खबरTata Blackbird मचाएगी बाजार में धूम! एडवांस फीचर्स के चलते Creta को मिलेगी बड़ी टक्करजयपुर के करीब गांव में सात दिन से सो भी नहीं पा रहे ग्रामीण, रात भर जागकर दे रहे पहरासातवीं के छात्रों ने चिट्ठी में लिखा अपना दुःख, प्रिंसिपल से कहा लड़कियां class में करती हैं ऐसी हरकतेंनए रंग में पेश हुई Maruti की ये 28Km माइलेज़ देने वाली SUV, अगले महीने भारत में होगी लॉन्चGanesh Chaturthi 2022: गणेश चतुर्थी पर गणपति जी की मूर्ति स्थापना का सबसे शुभ मुहूर्त यहां देखेंJaipur में सनकी आशिक ने कर दी बड़ी वारदात, लड़की थाने पहुंची और सुनाई हैरान करने वाली कहानीOptical Illusion: उल्लुओं के बीच में छुपी है एक बिल्ली, आपकी नजर है तेज तो 20 सेकंड में ढूंढकर दिखाये

बड़ी खबरें

'गद्दार' विवाद के बाद पहली बार गहलोत और पायलट का हुआ आमना-सामना, देखें वीडियोगौतम अडानी ग्रुप को मिला धारावी रिडेवलपमेंट प्रोजेक्ट, 5 हजार करोड़ की लगाई थी बोलीगुजरात विधानसभा चुनाव के पहले चरण का प्रचार आज खत्म, 1 दिसम्बर को होगी वोटिंगउड़नपरी की एक और बड़ी उड़ानः भारतीय ओलंपिक संघ की पहली महिला अध्यक्ष बनीं पीटी उषासीएम की बहन व YSRTP प्रमुख वाईएस शर्मिला पुलिस हिरासत में, क्रेन से खींची कारगुजरात चुनाव में भाजपा के सबसे अधिक उम्मीदवार हैं करोड़पति, दूसरे पर कांग्रेसआरबीआई एक दिसंबर को लॉन्च करेगा रिटेल डिजिटल रुपयाGujarat Election 2022 : अहमदाबाद जिले में 2044 दिव्यांग एवं बुजुर्गों ने किया मतदान
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.