बच्चों से भरा ऑटो पलटा, हादसे में कई बच्चे घायल , चीखें सुन परिजनों के छलक पड़े आंसू

बच्चों से भरा ऑटो पलटा, हादसे में कई बच्चे घायल , चीखें सुन परिजनों के छलक पड़े आंसू

kamlesh sharma | Publish: Sep, 12 2018 05:14:28 PM (IST) | Updated: Sep, 12 2018 05:21:08 PM (IST) Karauli, Rajasthan, India

www.patrika.com/rajasthan-news/

करौली। निजी स्कूलों में ऑटो चालकों की लापरवाही बच्चों की जान पर भारी पड़ रही है। एक ऐसा ही मामला जिले के निजी स्कूल से निकलकर सामने आया है, जहां पर बच्चों से भरा टेंपो पलटने से 5 बच्चे घायल हो गए। घायलों को जिले के राजकीय जिला अस्पताल में भर्ती कराया गया है ।

 

चीखें सुनकर दौड़े राहगीर

अस्पताल-पुलिस से मिली जानकारी के अनुसार एक निजी स्कूल का ऑटो यूनियन एरिया से छात्र-छात्राओं को लेकर गुलाब बाग की तरफ जा रहा था। इस दौरान ऑटो अनियंत्रित हो गया और लहराते हुए पलटी खा गया । इस बीच हादसे के वक्त ऑटो में बैठे बच्चों में अफरा-तफरी मच गई। हादसे में 5 बच्चे घायल होने की खबर सामने आई है। घायलों की चीख-पुकार सुनकर लोग घटनास्थल की तरफ दौड़े, जहां बच्चों को ऑटो में फंसे देख उन्हें बाहर निकाला गया। वहीं घटना के बाद मौके पर लोगों की भीड़ जमा हो गई। इस दौरान राहगीरों व स्थानीय लोगों ने घायल बच्चों को अस्पताल पहुंचाया।

 

परिजनों की झलकी पीड़ा

घटनास्थल पर मौजूद लोगों ने हादसे की सूचना स्कूल प्रशासन और पुलिस को दी। सूचना के बाद पुलिस और स्कूल स्टाफ मौके पर पहुंचे। खबर सुनते ही बच्चों के परिजन भी हड़बड़ाहट में मौके पर पहुंच गए। कई परिजनों के अपने घायल बच्चों को देखकर आंसू छलक पड़े। फिलहाल बच्चों की तबीयत में सुधार है।

 

एेसे हो जाते हैं हादसे, लगे ब्रेक

निजी स्कूलों के ऑटो चालक अपनी मनमर्जी से बच्चों को आवश्यकता से ज्यादा ऑटो में भर लेते हैं। इससे हादसे की आशंका ज्यादा बढ़ जाती है। स्कूल प्रशासन भी लालच के चलते ऑटो में ज्यादा बच्चों के बैठाने पर चालकों पर कोई ठोस कदम नहीं उठा पाते हैं। वहीं पुलिस प्रशासन हादसों के वक्त ही ऐसे मामलों पर कार्रवाई कर पाती है। दुर्घटनाओं के बाद बच्चों से खचाखच भरे ऑटो चालकों की मनमर्जी का खेल ऐसे ही जारी रहता है। यदि पुलिस प्रशासन तेज रफ्तार और खचाखच भरे बच्चों से ऑटो पर सख्त कार्रवाई करे तो शायद काफी हद तक हादसों पर ब्रेक लग सकता है।

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

Ad Block is Banned