हिण्डौनसिटी.
तौकते चक्रवाती तूफान का खासा प्रभाव बुधवार को उपखंड मुख्यालय पर देखा गया। दो दिनों से चल रही बारिश ने शहर की सरकार (नगरपरिषद) को आइना दिखा दिया। सीवरेज के लिए खोदी गई सड़कें मरम्मत नहीं होने से गड्ढ़ों में धंस गई। जिससे अलग-अलग स्थानों पर कई वाहन फंस गए। इसके साथ ही बारिश ने सफाई व्यवस्था की कलई खोल कर रख दी। शहर के अधिकांश मोहल्लों में कचरे से अटी नालियां चॉक हो गई। कीचडय़ुक्त गंदा पानी व कूड़ा बह कर सड़कोंं पर आ गया। जगह-जगह जलभराव होने से लोगों को आवागमन में परेशानी उठानी पड़ी। मोहन नगर स्थित राजकीय चिकित्सालय परिसर में भी पानी भरने से स्टाफ कर्मियों व आमजनों को परेशानी हुई। नगरपरिषद प्रशासन ने मडपंप से टेंकर में पानी खींच राह आसान की।
क्षेत्र में सोमवार शाम को शुरू हुई बारिश का दौर बुधवार रात तक जारी रहने से शहर के हालात बदले-बदले नजर आए। स्टेशन रोड़ पर विधायक भरोसी लाल जाटव के आवास के सामने, करौली रोड़ पर कोतवाली थाने के समीप, बयाना रोड़ पर आनंद विहार कॉलोनी के पास हर बार की भांति पानी भर गया। यहां से निकलने में वाहन चालकों व राहगीरों को सर्वाधिक परेशानी हुई। इसके अलावा शीतला चौराहा, दिलसुख टाल वाली गली, हाई स्कूल के सामने, जगदम्बा मार्केट, कटरा बाजार, सुखदेव पुरा, चौबे पाड़ा, दुब्बे पाडा, मनीराम पार्क के पास, अस्पताल रोड़, ब्राह्मण धर्मशाला के पास सहित अधिकांश क्षेत्रों में जलभराव हो गया। नालियां के जाम होने से कीचड़ व पॉलिथीन का कचरा सड़क पर फैल गया।

धंसी सड़कें,गड्ढ़ों में फंसे वाहन-
शीतला बाजार से रामद्वारे तक लंबे समय से सफाई व सड़क निर्माण नहीं होने से सामान्य बारिश में ही जलभराव हो जाता है। नालियों की नियमित सफाई नहीं होने से दो दिन तक बरसाती पानी की निकासी नहीं हो पाती है। ऐसे में प्रमुख बाजार और शहर का मुख्य मार्ग होने के चलते लोगों को काफी परेशानी का सामना करना पड़ता है। मनीराम पार्क से अस्पताल रोड़ चौराहा तक हालात ठीक नहीं है। दो दिनों से हो रही तौकते की बारिश ने यहां की दशा ही बिगाड़ दी। जर्जर नाली और सीवरेज निर्माण से क्षतिग्रस्त सड़क की वजह से यहां बरसात के पानी की निकासी नहीं हो पाई। सड़क गड्ढों में धंस गई। कई ट्रेक्टर-ट्रॉली, टेम्पो, बाइकों के अलावा अन्य वाहन गड्ढ़ों में फंस गए। कई राहगीरों को फिसलने की वजह से चोटिल होना पड़ा। कुल मिलाकर लोगों को खासी परेशानी हुई।

मोर्रम डाल भरे सड़कों के घाव, नालियों की कराई सफाई-
दोपहर बाद बारिश थमी तो नगरपरिषद का अमला हरकत में आया, और मोर्रम डलवा कर सड़कों के गड्ढ़ों को दुरुस्त किया गया। मलबे के कारण चोक पड़ी नालियों की सफाई के लिए कई स्थानों पर सड़कों की खुदाई की गई। तब कहीं जाकर आहत हुए लोगों को राहत मिल पाई।

सीवरेज कार्य ने बढ़ाई परेशानी-
शहर में जगह-जगह सीवरेज का काम चलने व अधूरे काम के कारण कई वाहन सड़कों में फंस गए। उन्हें निकालने के लिए वाहन चालकों को परेशानी हुई। वहीं सीवरेज के काम में लगी जेसीबी भी फंस गई थी।

खफा दिखे शहर वासी-
शहर की सफाई व्यवस्था माकूल नहीं होने से लोग नगर परिषद प्रशासन से खफा दिखे। लोगों का कहना था कि लॉकडाउन होने से बाजार बंद हैं, फिर भी शहर की सरकार ना तो जर्जर सड़कों की मरम्मत करा पाई है, और ना ही कचरे से अटी नालियों की सफाई हो सकी है। चक्रवाती तूफान की बारिश ने ही इंतजामोंं की पोल खोल दी, तो मानसून की बारिश का झटका कैसे झेल पाएंगे।

250 सदस्यों की पांच टीम गठित-
तौकते चक्रवात को देखते हुए नगरपरिषद की ओर से नियंत्रण कक्ष की स्थापना की गई है। इसके फोन नंबर ०७४६९-२३२९८९ है। आपदा प्रबंधन को देखते हुए अधिकारियों से लेकर अभियंता, सफाईकर्मी व फायर स्टॉफ समेत करीब 250कार्मिकों को शामिल कर पांच टीमें गठित की हैं। ये टीमें पांच जोनों में विभक्त शहर की सफाई व्यवस्था से लेकर हरेक आपात स्थिति पर नजर रखेंगी।(पत्रिका संवाददाता)

एलएण्डटी कपंनी को किया पाबंद-
बारिश को देखते हुए सुबह से ही शहर का दौरा करके पूरा सफाई कर्मचारियों को लगाकर जहां भी गंदगी थी, उसे साफ कराया गया है। सीवरेज निर्माण के कारण क्षतिग्रस्त हुई सड़कों की मरम्मत भी तुरंत प्रभाव से कराई गई। इसके साथ ही निर्माण कम्पनी एलएण्डटी को पाबंद किया है, कि जहां से भी सड़क में गड्ढ़ों की सूचना आए, तत्काल प्रभाव से मरम्मत कराई जाए। शहरवासियों को परेशानी न हो इसके लिए २५० कार्मिकों सदस्यों की पांच टीम बनाकर काम शुरू करवा दिया है।

-कीर्ति कुमारी कुमावत, आयुक्त, नगर परिषद, हिण्डौनसिटी।

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned