तकनीकी कर्मचारियों ने धरना देकर किया प्रदर्शन, अनिश्चित कालीन धरना

हिण्डौनसिटी. विद्युत निगम के (Technical staff demonstrated by staging) सहायक अभियंता(ग्रामीण) पर बेवजह चार्जशीट थमाने व पदोन्नति रोकने का आरोप लगाते हुए तकनीकी कर्मचारियों ने मंगलवार को रीको औद्योगिक क्षेत्र स्थित जीएसएस में विरोध प्रदर्शन कर धरना दिया।

By: vinod sharma

Published: 03 Dec 2019, 09:58 PM IST

हिण्डौनसिटी. विद्युत निगम के (Technical staff demonstrated by staging) सहायक अभियंता(ग्रामीण) पर बेवजह चार्जशीट थमाने व पदोन्नति रोकने का आरोप लगाते हुए तकनीकी कर्मचारियों ने मंगलवार को रीको औद्योगिक क्षेत्र स्थित जीएसएस में विरोध प्रदर्शन कर धरना दिया। इसके बाद अधिशासी अभियंता रूपसिंह जाटव को ज्ञापन सौंप एईएन के तबादले की मांग की। इसी मामले में तकनीकी कर्मचारियों ने बुधवार से जीएसएस परिसर में अनिश्चित कालीन धरना शुरू करने का एलान भी किया है।
तकनीकी कर्मचारी सुबह करीब ११ बजे जीएसएस पहुंचे और एईएन कार्यालय के बाहर धरने पर बैठ गए। सूचना पर पहुंचे एक्सईएन ने समझाइश कर उनको शांत कराया। राजस्थान विद्युत तकनीकी कर्मचारी एसोसिएशन के जिलाध्यक्ष कर्मप्रकाश मीणा ने एक्सईएन को सौंपे ज्ञापन में बताया कि एईएन डीके शर्मा ने तकनीकी कर्मचारियों पर बेवजह दबाव बनाने के लिए चार्जशीट दी गई।
इससे कर्मचारियों का वेतन अपग्रेड नहीं हो पा रहा है। कार्मिकों ने बताया कि मंगलवार को एईएन ने लिपिक गौरव गोयल को एसई ऑफिस के लिए कार्यमुक्त कर दिया। कार्मिकों ने एईएन पर रुपए लेकर लोगों को ट्रांसफार्मर बेचने, आरोप-पत्र निरस्त करने के बदले कार्मिकों से रुपए मांगने, रीडिंग इन्सेन्टिव भुगतान नहीं करने समेत कई प्रकार के गंभीर आरोप लगाए हैं। कर्मचारियों ने एईएन का जल्द तबादला नहीं होने पर सामूहिक हड़ताल की चेतावनी दी है। इस दौरान लोकेश शर्मा समेत कई तकनीकी कर्मचारी मौजूद थे। इधर सहायक अभियंता डीके शर्मा ने बताया कि तकनीकी कर्मचारियों द्वारा लगाए सभी आरोप बेबुनियाद हैं। कार्यालय के लिपिक गौरव गोयल को रिकॉर्ड संधारण में अनियमितता बरतने पर करौली एसई ऑफिस के लिए कार्यमुक्त करने से से क्षुब्ध होकर कर्मचारियों द्वारा ऐसे आरोप लगाए जा रहे हैं। (पत्रिका संवाददाता)

vinod sharma
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned