scriptThe crocodile dragged the shepherd into Chambal river, did not know | चरवाहे को चम्बल नदी में खींच ले गया मगरमच्छ, नहीं चला पता | Patrika News

चरवाहे को चम्बल नदी में खींच ले गया मगरमच्छ, नहीं चला पता


चरवाहे को चम्बल नदी में खींच ले गया मगरमच्छ, नहीं चला पता

बकरियों को पानी पिलाने के दौरान हादसा

करौली जिले में डांग क्षेत्र में स्थित करणपुर कस्बे से 8 किलोमीटर दूर दाबर मीना बस्ती (डोंगरी) के समीप चम्बल नदी के अस्थल घाट पर बकरियों को पानी पिलाने के दौरान मगरमच्छ शुक्रवार शाम को एक चरवाहे को पकड़ कर नदी में ले गया। उसका देर शाम तक पता नहीं चल सका है। चम्बल नदी में मगरमच्छ का ये पहला हादसा नहीं है। इससे पहले भी बीते 10 साल में ऐसे एक दर्जन हादसे हो चुके हैं।

 

करौली

Published: April 23, 2022 11:11:24 am


चरवाहे को चम्बल नदी में खींच ले गया मगरमच्छ, नहीं चला पता

बकरियों को पानी पिलाने के दौरान हादसा

करौली जिले में डांग क्षेत्र में स्थित करणपुर कस्बे से 8 किलोमीटर दूर दाबर मीना बस्ती (डोंगरी) के समीप चम्बल नदी के अस्थल घाट पर बकरियों को पानी पिलाने के दौरान मगरमच्छ शुक्रवार शाम को एक चरवाहे को पकड़ कर नदी में ले गया। उसका देर शाम तक पता नहीं चल सका है। चम्बल नदी में मगरमच्छ का ये पहला हादसा नहीं है। इससे पहले भी बीते 10 साल में ऐसे एक दर्जन हादसे हो चुके हैं।
चरवाहे को चम्बल नदी में खींच ले गया मगरमच्छ, नहीं चला पता
चरवाहे को चम्बल नदी में खींच ले गया मगरमच्छ, नहीं चला पता
करणपुर थानाधिकारी लाल बहादुर सिंह ने बताया कि 35 वर्षीय हरिकेश पुत्र रामू मीना निवासी दाबर मीना बस्ती (डोंगरी) अपनी बकरियों को जंगल में लेकर गया था। लौटते समय शाम 5 बजे वह नदी में बकरियों को पानी पिलाने को ठहर गया। बकरियों के पानी पीने के दौरान नदी किनारे हरिकेश खड़ा हुआ था। तभी घात लगाकर बैठा मगरमच्छ उसे पकड़ कर नदी में गहरे पानी में खींच ले गया। पास में दूसरे चरवाहों ने देख शोर मचाया और हरिकेश के घर पर सूचना दी। सूचना पाकर थानाधिकारी लालबहादुर सिंह, वनकर्मी गणपति मीणा और पुलिस जाप्ते के साथ मौके पर पहुंचे। पुलिस ने ग्रामीणों की सहायता से नदी में हरिकेश की तलाश शुरू कराई लेकिन देर शाम तक उसका कोई पता नहीं चल सका था। रात हो जाने पर तलाशी अभियान को रोक दिया गया था। सुबह से फिर हरिकेश की नदी में गोताखोर तलाश कर रहे हैं। ग्रामीणों के कथन को सच मानें तो दो-तीन बार मगरमच्छ अपने जबड़े में हरिकेश को दबाए हुए नजर भी आया है। लेकिन ग्रामीणों के आगे बढऩे पर वह पानी में चला जाता है।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

बड़ी खबरें

द्वारकाधीश मंदिर में पूजा के साथ आज शुरू होगा BJP का मिशन गुजरात, मोदी के साथ-साथ अमित शाह भी पहुंच रहेRajasthan: एंटी करप्शन ब्यूरो की सक्रियता से टेंशन में Gehlot Govt, अब केंद्र की तरह जांच से पहले लेनी होगी अनुमतिVIP कल्चर पर पंजाब की मान सरकार का एक और वार, 424 वीआईपी को दी रही सुरक्षा व्यवस्था की खत्मओडिशा में "भ्रूण लिंग" जांच गिरोह का भंडाफोड़, 13 गिरफ्तारमां की खराब तबीयत के बावजूद बल्लेबाजों पर कहर बनकर टूटे ओबेड मैकॉय, संगकारा ने जमकर की तारीफRenault Kiger: फैमिली के लिए बेस्ट है ये किफायती सब-कॉम्पैक्ट SUV, कम दाम में बेहतर सेफ़्टी और महज 40 पैसे/Km का मेंटनेंस खर्चAnother Front of Inflation : अडानी समूह इंडोनेशिया से खरीद राजस्थान पहुंचाएगा तीन गुना महंगा कोयला, जेब कटना तयसुकन्या समृद्धि योजना में सरकार ने किए बड़े बदलाव, जानें क्या है नए नियम
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.