सपोटरा में कैंसर मरीजों को चिन्हित करने में टालमटोल,कालागुड़ा में कैंसर से मौतों का मामला

ks
Hindi News: हिंदी समाचार, Latest News in Hindi, Live Breaking ...
h

By: vinod sharma

Published: 12 Oct 2018, 10:52 PM IST


करौली. जिले की सपोटरा तहसील के कालागुडा गांव में कैंसर रोगियों की जांच कर चिन्हित करने के मामले चिकित्सा विभाग के अफसर टालमटोल को रवैया अपना रहै हैं। ऐसे में उनको उपचार मिलना तो अभी दूर की बात मरीजों चिहिंत ही नहीं हो पा रहे हैं।
चिकित्सा एवं स्वास्थ्य विभाग के जिला स्तरीय अफसरों की इस गंभीर मामले में लापरवाही की बानगी यह है कि करौली चिकित्सालय के प्रमुख चिकित्सा अधिकारी बाबूलाल मीना ने भी सीएमएचओ को पत्र लिख कैंसर नोडल केन्द्र के माध्यम से कैंसर रोगियों की जांच कर पहचान कराने का आग्रह किया है लेकिन सीएमएचओ की ओर से जवाब में खामोशी ही रही है।
सूत्रों ने बताया कि करौली चिकित्सालय के पीएमओ कैंसर यूनिट के प्रभारी हैं। इस कारण उन्होंने कैंसर मामले में गंभीरता दर्शाते हुए मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी को पत्र भेजा है। इस पत्र में कालागुड़ा में कैंसर रोग के सर्वे का सुझाव दिया है। प्रमुख चिकित्सा अधिकारी के अनुसार सीएमएचओ कार्यालय से सपोटरा का फील्ड स्टॉफ व संसाधन मिल जाए तो कैंसर नोडल केन्द्र के माध्यम से सर्वे कराया जा सकता है। इसका जवाब नहीं मिलने से आगे कुछ कार्रवाई नहीं हो सकी है। प्रमुख चिकित्सा अधिकारी का कहना है कि रोगियों के चिहिंत होने के बाद ही पता चलेगा कि कितनी संख्या में लोग बीमारी से पीडि़त हैं जिनको तत्काल चिकित्सा सुविधा की दरकार है।
गौरतलब है कि राजस्थान पत्रिका में १० अक्टूबर को कालागुड़ा में काल बना कैंसर शीषर्क से समाचार प्रकाशित कर इस मामले को उठाया है।
स्क्रीनिंग कराने की जरूरत
करौली राजकीय सामान्य अस्पताल के फीजीशियन डॉ. कैलाश मीना ने बताया कि एक ही गांव कालागुड़ा से अधिक संख्या में कैंसर रोगी सामने आने के मामले पर गहन अनुसंधान की जरूरत है। जयपुर, दिल्ली के कैंसर इंस्सीट्यूट से इस पर रिसर्च करानी चाहिए। उन्होंने बताया कि तत्काल रूप से कालागुड़ा के मरीजों की स्क्रीनिंग कराई जाए। इससे यह पता चल सके कि उन्हें किस प्रकार का कैंसर है। पानी में भारी तत्वों से इस प्रकार की घातक बीमारी के चपेट में आने की आशंका रहती है।
पत्र लिखा है
सीएमएचओ कार्यालय को पत्र लिख है कि कालागुड़ा में मरीजों का चिन्हीकरण कैंसर नोडल केन्द्र के माध्यम से कराया जा सकता है। फील्ड स्टॉफ व संसाधन की जरूरत है। लेकिन अभी तक जवाब नहीं मिला है।
डॉ. बजलाल मीना पीएमओ करौली
टीम तैयार कर रहे हैं
कालागुड़ा के मामले में पीएमओ का पत्र मिला है, मामला गम्भीर है। इस कारण टीम तैयार करने में देरी हो रही है।
डॉ. हरफूल सीएमएचओ करौली

 

vinod sharma
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned