scriptThe news of CM's arrival caused sleep, officials rushed to prepare | सीएम के आने की खबर ने उड़ाई नींद, तैयारी में दौड़े अधिकारी | Patrika News

सीएम के आने की खबर ने उड़ाई नींद, तैयारी में दौड़े अधिकारी

The news of CM's arrival caused sleep, officials rushed to prepare

-18 नवम्बर को बाईजट्ट गांव में प्रस्तावित दौरे की तैयारी में जुटा प्रशासन

-मुख्यमंत्री जानेंगे प्रशासन गांवों के संग अभियान की हकीकत

करौली

Published: November 15, 2021 08:55:04 am

हिण्डौनसिटी. शहरों से लेकर गावों तक चल रहे शिविरों में भागदौड़ के बाद अवकाश के दिन थकान उतार रहे प्रशासनिक अधिकारियों की नींद चार दिन बाद मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के आगमन की सूचना ने उड़ा दी। रविवार को जयपुर से अचानक आई खबर के बाद जिला कलक्टर से लेकर पटवारी तक, जो जहां था, वहां से तत्काल ही तैयारियों के लिए दौड़ पड़े।
सीएम के आने की खबर ने उड़ाई नींद,  तैयारी में  दौड़े अधिकारी
सीएम के आने की खबर ने उड़ाई नींद, तैयारी में दौड़े अधिकारी

दरअसल, मुख्यमंत्री अशोक गहलोत का 18 नवम्बर को क्षेत्र की बाईजट्ट ग्राम पंचायत में आयोजित प्रशासन गावों के संग अभियान के शिविर में आने का कार्यक्रम प्रस्तावित हुआ है। सीएम के दौरे में कोई कमी नहीं रह जाए, इसी लिए अधिकारियों का लवाजमा रविवार दोपहर बाई जट्ट गांव पहुंच गया।
जिला कलक्टर सिद्धार्थ सिहाग ने राजकीय उच्च माध्यमिक विद्यालय में ग्रामीणों से सीएम के संभावित दौरे की तैयारियों पर चर्चा की। साथ ही समस्याएं जानकर मौके पर ही अधिकारियों को निराकरण के निर्देश प्रदान किए। अधिकारियों ने शिविर स्थल अटल सेवा केन्द्र के पास कृषि भूमि एवं जाटव बस्ती के राजकीय प्राथमिक विद्यालय परिसर का हेलीपैड़ बनाने के लिए मैदान का जायजा लिया।
शाम को पंचायत समिति में कलक्टर ने सीएम के साथ वीसी(वीडियो कान्फ्रेंस) में हिस्सा लिया। इस दौरान जिला परिषद मुख्य कार्यकारी अधिकारी महावीर प्रसाद नायक, एसडीएम अनूप सिंह, अतिरिक्त जिला पुलिस अधीक्षक प्रकाश चन्द, डीएसपी किशोरी लाल, तहसीलदार हेमेन्द्र कुमार, पंचायत समिति के विकास अधिकारी राजेन्द्र प्रसाद गुप्ता, सार्वजनिक निर्माण विभाग के अधिशासी अभियंता गजानंद मीणा, सूरौठ थानाप्रभारी बालकृष्ण चौधरी आदि मौजूद थे।
सीएम आए, तो क्या होगा?
सीएम अशोक गहलोत के 18 नवम्बर को प्रस्तावित दौरे की तैयारियों के लिए बाई जट्ट गांव पहुंचे कलक्टर समेत अन्य अधिकारियों को ग्रामीणों की समस्याओं से दो-चार होना पड़ा। अतिक्रमण होने से सिकुडी जर्जर सड़क पर धूल उड़ाती अधिकारियों की कारों का काफिला जिधर से गुजरा, उधर ग्रामीण सड़क किनारे खड़े हो गए। तंग रास्तों पर वाहनों को निकलने में भी परेशानी हुई। छोटे से लेकर बड़े अधिकारी चर्चा करते दिखे कि, मुख्यमंत्री यहां आए तो क्या होगा। उल्लेखनीय है कि मुख्यमंत्री स्वयं प्रशासन गांवों के संग अभियान की जमीनी हकीकत जानने और जनता से सीधा संवाद करने के लिए शिविरों में पहुंच रहे हैं। इससे संबंधित गांव के आधारभूत विकास को भी गति मिल रही है।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

बड़ी खबरें

Army Day 2022: सेना प्रमुख MM Naravane ने दी चीन को चेतावनी, कहा- हमारे धैर्य की परीक्षा न लेंUP Election 2022 : भाजपा उम्मीदवारों की पहली लिस्ट जारी, गोरखपुर से योगी व सिराथू से मौर्या लड़ेंगे चुनावUttar Pradesh Assembly Elections 2022: टूटेगी मायावती और अखिलेश की परंपरा, योगी आदित्यनाथ गोरखपुर से लड़ेंगे विधानसभा चुनावPunjab Assembly Election: कांग्रेस ने जारी की 86 उम्मीदवारों की पहली सूची, चमकोर से चन्नी, अमृतसर पूर्व से सिद्धू मैदान मेंअब हर साल 16 जनवरी को मनाया जाएगा National Start-up DayHaryana: सरकार का निर्देश, बिना वैक्सीन लगाए 15 से 18 वर्ष के बच्चों को स्कूल में नहीं मिलेगी एंट्रीUP Election: सपा RLD की दूसरी लिस्ट जारी, 7 प्रत्याशियों में किसी भी महिला को नहीं मिला टिकटजम्मू कश्मीर में Corona Weekend Lockdown की घोषणा, OPD सेवाएं भी रहेंगी बंद
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.