बीमार कर सकती हैं ये तरोताजा सब्जियां, यदि ऐसे पानी से हुई है सिंचाई

These fresh vegetables can make sick, if irrigation is done with such water
गंदे नाले के पानी से उगा रहे अनाज और सब्जियां
-कंजोलियान का पुरा के समीप डीजल पंपों से नाले का गंदा पानी निकाल खेतों में हो रही सिचाई

By: Anil dattatrey

Updated: 21 Jun 2021, 09:59 AM IST

हिण्डौनसिटी. उपखंड मुख्यालय पर नौकरशाह कोरोना वायरस की रोकथाम करने के तमाम दावे भर रहे हैं, लेकिन शहरी क्षेत्र के कंजोलियान का पुरा के पास खेतों में उगाई फसलों की खारी नाले के गंदे पानी से सिंचाई कर संक्रमण को बढ़ावा दिया जा रहा है। जी हां, आप और हम जिन सब्जियों का सेवन सेहतमंद होने के लिए कर रहें है, वे रसायनयुक्त दूषित पानी से तैयार की जा रहीं है।

लेकिन जिम्मेदारों का इस ओर कोई ध्यान नहीं है।
नाले के गंदे पानी से सींचकर उगाई जा रही सब्जियां और अनाज बाजार में बेची जा रही है। जो अपने साथ कैंसर समेत कई प्रकार घातक बीमारियों के जीवाणु लोगों के घरों तक पहुंचा रही हैं। हरी सब्जी से अच्छी सेहत की उम्मीद लगा रहे लोगों के लिए यह सब्जी घातक साबित हो सकती है।

नाले के पानी से सब्जी और अनाज उगाने का यह गोरखधंधा सालों से चल रहा है। लेकिन आज तक प्रशासन या संबंधित विभाग की नजर इस पर नहीं पड़ी है। नाले के किनारे खेती हो रही है। किसान नाले में पाइप लाइन डालकर डीजल पंप (इंजिन) के जरिए गंदे पानी को खींचकर फसलो की सिंचाई कर रहे हैं। जबकि कई किसान तो पाइप बिछाकर नाले के पानी को आधा किलोमीटर दूर तक ले जाते हैं। गंदे पानी से सब्जियों के साथ खेतों की मिट्टी भी दूषित हो रही है। जिससे मिट्टी की उर्वरक क्षमता घट रही है।


प्रशासन नहीं करता कार्रवाई-
प्रशासन ने भले ही नालों के पानी से हो रही सिंचाई के मामले में कानून बनाए, लेकिन अधिकारियों की उदासीनता के कारण नियय-कायदों का पालन नहीं हो पा रहा है। अब भी नाले के पानी से उगाई जा रही सब्जियां रोजाना सब्जी मंडियों में बिकने आ रही है। ऐसी सब्जियों को सलाद के रूप में खाना तो बेहद खतरनाक साबित हो सकता है।

किसान इसलिए करते हैं नाले के पानी से सिंचाई-
जिन लोगों की जमीनें नालों के आसपास हैं, उन्हें सालभर पानी की चिंता नहीं रहती। ऐसे में वे सालभर सब्जियों को उगाकर पैसा कमाते हैं। गर्मी के दिनों में भूजल स्तर कम होने के कारण बोरिंग कम पानी देते हैं, और गहराई से पानी खींचने में बिजली भी ज्यादा खर्च होती है। ऐसे में किसान निजी स्वार्थ के चलते नाले में डीजल पंप लगाकर व मोटर डालकर दूषित पानी से सब्जियां सींचते हैं। मल-मूत्र युक्त दूषित पानी से उगाई गई सब्जियां भले ही मानव शरीर के लिए घातक हों, लेकिन फसलों की पैदावार में यही दूषित पानी खाद का काम करता है। इससे किसानों को बाजार से खाद लाने में भी पैसा कम खर्च करना पड़ता है।

बाजार में बिक रही सब्जी-
नाले के आसपास किसानों द्वारा सब्जी की खेती की जा रही है। वर्तमान में यहां गोभी, बेंगन, टमाटर, पालक, हरी मिर्च आदि लगे होने की जानकारी है। यह सब्जी शहर के बाजार में बेची जाती है। जिसे लोग हरी और ताजी मानकर खरीदते हैं, जबकि इसमें गंदे पानी के तमाम अवगुण मिले होते हैं। नाले के पानी से कई तरह की बीमारियां होती हैं। इसके उपयोग से पैदा की जा रही सब्जियों से भी ऐसी घातक बीमारियां हो सकती हैं। ऐसी सब्जियां जो बिना पकाए सीधे खाई जाती हैं, उनसे अधिक खतरा रहता है। जैसे टमाटर, हरी मिर्च, प्याज आदि का उपयोग सलाद के रूप मे किया जाता है। ये सब्जियां अधिक नुकसान करती हैं।

बाजार में हरी, चमकदार सब्जियां भले ही आपको ताजा दिखाई दे रही हैं, लेकिन यह आपको बीमार बना सकती हैं। इन्हें उगाने में नाले के पानी का इस्तेमाल किया जा रहा है। गंदे नाले के किनारे वाले खेतों में ऐसे ही सिचाई की जा रही है। इससे इन सब्जियों में जहरीले तत्व पैदा हो जाते हैं। इस पर प्रशासन ध्यान नहीं दे रहा है।

प्रदूषित हो गया पानी-
विशेष बात यह है कि सालों से शहर की गंदगी को लेकर बहते आ रहे जहरीले खारी नाले के कारण इलाके का पानी भी प्रदूषित हो चुका है। बड़ी बात यह है कि लाने के आसपास बसी आबादी में नलों का पानी नाले के बीच से निकल रही पाइप लाइनों से सप्लाई हो रहा है। पाइप लाइनों में लीकेजों की वजह से गंदा और बदबूदार पानी आता है। इस कारण खरेटा रोड़, कंजोलियान का पुरा समेत अनेक मौहल्ले वासियों ने नलों का पानी पीना ही बंद कर दिया है। नाले के समीप की घनी आबादी में पानी के सेवन से लोग घातक बीमारियों का शिकार हो रहे हैं।(पत्रिका संवाददाता)

इनका कहना है-
सेहत के लिए नुकसान दायक है
गंदे पानी की सिंचाई से तैयार हुई सब्जियां व अनाज सेहत के लिए नुकसान दायक होता है। इनके खाने से हिपेटाईटिस-ए, हिपेटाइटिस-बी, डायरिया, पीलिया और टायफाईड जैसे रोग हो सकते हैं। कुए व नलकूप के भूगर्भित तक से सिंचित हरी सब्जियां ही लाभप्रद होती हैं। लोगों को गंदे पानी से तैयार हुए सब्जियों के प्रयोग से बचना चाहिए।
डॉ. आशीष शर्मा, फिजिशियन
राजकीय चिकित्सालय, हिण्डौनसिटी.

Anil dattatrey Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned