scriptWeather hit on Lasoda crop, gardeners upset due to low yield | लसोड़ा की फसल पर मौसम की मार, कम पैदावार से बागवान परेशान | Patrika News

लसोड़ा की फसल पर मौसम की मार, कम पैदावार से बागवान परेशान

Weather hit on Lasoda crop, gardeners upset due to low yield

पहले कोहरे की कमी,अब गर्मी से हुआ नुकसान

करौली

Published: June 28, 2022 10:54:12 am

हिण्डौनसिटी.
क्षेत्र में गिरते भूजल स्तर के चलते नवाचार कर शुष्क बागवानी कर रहे किसान इस बार मौसम की दोहरी मार से परेशान हैं। पहले सर्दी और अब गर्मी लसोड़े की फसल के अनुकूल नहीं होने से पेड़ों में फलोत्पादन नहीं हुआ है। कम पैदावार होने से बागों में पेड़ों से लसोडा की तुड़ाई किसानों की जेब पर भारी पड़ रही है।
लसोड़ा की फसल पर मौसम की मार, कम पैदावार से बागवान परेशान
लसोड़ा की फसल पर मौसम की मार, कम पैदावार से बागवान परेशान

बिना सिंचाई और कम खर्च के परम्परागत खेती से दोगुनी आमदनी के लिए जलसेन के पार स्थित फत्तूकापुरा, देवरेनियानकापुरा सहित कई ढाणियों के किसानों द्वारा शुष्क बागवानी के तहत कई बीघा खेतों लसोड़े के पौधे लगाए हुए हैं। लसोडों के पेड़ इन दिनों फल(लसोडे) से लकदक रहते थे। लेकिन इस बार पेड़ों में गत वर्ष की तुलना में 15-20 फीसदी ही फलोत्पादन हुआ है।
शुष्क बागवानी कर रहे किसान संतोष अग्रवाल व ओमप्रकाश धाकड़ ने बताया कि इस वर्ष के लसोड़े की बागवानी मौसम की दोपहर मार से पस्त हो गई है। सर्दियों कड़ाके की ठण्ड तो पड़ी लेकिन कोहरा अपेक्षाकृत कम छाने से पेड़ों में समय पर पतझड नहीं हुआ। वहीं गर्मियों में शुरुआत में अप्रेल मेंं ही तापमान के परवान चढऩे से गर्मी में फूलों के झड़ जाने से पेड़ों में फल (लसोड़े) नहीं बने। ऐसे में काफी कम फलोत्पादन होने किसान को लसोडे की तुलाई की महंगी मजदूरी दुगनी आय की बजाय खर्चे का सौदा साबित हो रही है।
दवा से कराया कृतिम पतझड़-
लसोड़े की बागवानी कर रहे संतोष अग्रवाल ने बताया कि जनवरी व फरवरी माह में अपेक्षित अवधि तक घना कोहरा नहीं छाने से पौधों में पतझड नहीं हुआ। ऐसे में दवाओं का छिडकाव पतझड़ कराया गया। जिससे पेड़ों में नई कोंपलों के फुटान के साथ फूल खिलने की प्रक्रिया शुरू हो सके। फूलों के सीजन में तेज धूप और तापमान के बढऩे से फूल झड़ गए।
एक पेड में होता 60 किलो फलोत्पादन-
किसानों ने बताया कि लसोडा़ को पौधा खेत में रोपई के दो वर्ष बाद फल देने लगता है। लसोडे का पेड़ का मई व जून माह में फल देता है। एक पेड़ में करीब 60 किलो लसोड़े लगते हैं। बाजार भाव औसतन 2200-2400 रुपए होता है। किसानों अनुसार दो बीघा भूमि में रोपे 200 पौधों से प्रति वर्ष सीजन में 90 से 100 क्विंटल लसोड़ा लगता है।
गुजरात व पुष्कर आ रहा लसोड़ा-
किसानों ने बताया कि स्थानीय बागों में कम फलोत्पादन होने से शहर की सब्जी ंमंडी में गुजरात व पुष्कर क्षेत्र से लसोड़ा आ रहा है। हालांकि बाहर का हरा लसोड़ा कम गूदा बड़ी गुठली होने कम गुणवत्ता का है। जबकि यहां बागों में कलम रोपन से तैयार किए पेड़ों पर भूरे रंग का लसोड़ा छोटी गुठली व अधिक गूदे का होता है। जो अचार के लिए ज्यादा उम्दा माना जाता है।

खर्चा न देखभाल की जरुरत
एक दशक से लसोड़े की बागवानी कर रहे किसान संतोष अग्रवाल ने बताया कि उन्होंने क्षेत्र में सबसे पहले लसोड़े का पौधे रोप बाग तैयार किया। सिंचाई, रखरखाब और सुरक्षा पर नाममात्र का खर्च होने से लसोडे की बागवानी से बिना मोटा खर्च किए बिना ही आय होती है। शुरु में लसोडे के पौधों के बीच गेहूं व चाना के छोटी फसलें की जाती है। बाद में पेड बडे होने पर खेत में जुताई नहीं होने से अन्य फसलें नहीं हो पाती हैं। फिलहाल इलाके में आधा दर्जन से अधिक किसानों ने 2-2 बीघा में लसाड़े का बाग लगाया हुआ है।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

Monsoon : राजस्थान में 3 अगस्त से बारिश का नया सिस्टम, पूरे प्रदेश में होगी झमाझमNSA डोभाल की मौजूदगी में बोले मुस्लिम धर्मगुरु- 'सर तन से जुदा' हमारा नारा नहीं, PFI पर प्रतिबंध की बनी सहमतिकीमत 4.63 लाख रुपये से शुरू और देती हैं 26Km का माइलेज! बड़ी फैमिली के परफेक्ट हैं ये सस्ती 7-सीटर MPV कारेंराजस्थान में भारी बारिश का दौर जारी, स्कूलों की तीन दिन की छुट्टी, आज इन जिलों में झमाझम की चेतावनीWeather Update: राजस्थान में झमाझम बारिश को लेकर अब आई ये खबरराजस्थान में आज यहां होगी बारिश, एक सप्ताह तक के लिए बदलेगा मौसमएमपी में 220 करोड़ से बनेगा 62 किमी लंबा बायपास, कम हो जाएगी कई शहरों की दूरी, जारी हो गए टेंडरसरकारी नौकरी लगवा देंगे कहकर 10 युवाओं को लगाई 75 लाख रुपए की चपत, 2 गिरफ्तार

बड़ी खबरें

पाकिस्तानी नौसेना का वॉरशिप भारतीय इलाके में घुसा, फिर भारतीय एयरक्राफ्ट ने सिखाया सबकNITI Aayog Meeting: NITI आयोग की बैठक में हुई शिक्षा नीति समेत कई मुद्दों पर चर्चा, जानें क्या रहा खासBihar News: RCP सिंह के इस्तीफे के बाद गरजे अजय आलोक, कहा - 'ये नीतीश कुमार नहीं, बल्कि नाश कुमार है बिहार के CM'ISRO का SSLV-D1 की लॉन्चिंग हुई फेल, कहा- सैटेलाइट अब किसी काम का नहींगुजरात विधानसभा चुनाव से पहले अरविंद केजरीवाल ने आदिवासियों से किए 6 वादे, कहा- ट्राईबल एडवाइजरी कमिटी का इसी समाज से होगा चेयरमैनदिल्ली रोहतक रेलवे लाइन पर मालगाड़ी के 8 डिब्बे पटरी से उतरे, रेलवे ट्रैक जामजम्मू-कश्मीर : श्रद्धालुओं के आगमन में भारी गिरावट के बीच अमरनाथ यात्रा स्थगितPM मोदी की पाकिस्तानी बहन जो 27 साल से बांध रही राखी, इस बार 2024 के आम चुनावों के लिए दी शुभकामनाएं
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.