scriptWildlife counted in the forest amidst the moonlight of the full moon | पूर्णिमा की चांदनी रोशनी के बीच जिले के जंगल में गिने वन्यजीव | Patrika News

पूर्णिमा की चांदनी रोशनी के बीच जिले के जंगल में गिने वन्यजीव

पूर्णिमा की चांदनी रोशनी के बीच जिले के जंगल में गिने वन्यजीव


70 कार्मिकों ने 31 प्वांइटों पर की गिनती

 

करौली.

वैशाख शुक्ल पूर्णिमा की धवल चांदनी रोशनी के बीच जिले में वन विभाग की ओर से वन्य जीवों की वाटर हॉल पद्धति से गणना की गई। वाटर पॉइंटों पर तैनात वनकर्मियों ने 24 घण्टे की अवधि तक जंगल में वन्य जीवों को निहारते हुए उनकी गणना की। वन विभाग की ओर से वन्य जीवों की वार्षिक गणना के तहत पूर्णिमा पर वन्य जीवों की गणना शुरू की

करौली

Updated: May 18, 2022 11:21:11 am

पूर्णिमा की चांदनी रोशनी के बीच जिले के जंगल में गिने वन्यजीव


70 कार्मिकों ने 31 प्वांइटों पर की गिनती



करौली.

वैशाख शुक्ल पूर्णिमा की धवल चांदनी रोशनी के बीच जिले में वन विभाग की ओर से वन्य जीवों की वाटर हॉल पद्धति से गणना की गई। वाटर पॉइंटों पर तैनात वनकर्मियों ने 24 घण्टे की अवधि तक जंगल में वन्य जीवों को निहारते हुए उनकी गणना की। वन विभाग की ओर से वन्य जीवों की वार्षिक गणना के तहत पूर्णिमा पर हुई।
वन विभाग के उपवन संरक्षण सुमित बंसल ने बताया कि सोमवार सुबह 8 बजे से मंगलवार सुबह 8 बजे तक वन्य जीवों की वार्षिक गणना की गई। इस दौरान जिले के प्राकृतिक एवं कृत्रिम 31 जल स्रोतों पर गणना के लिए 70 वनकर्मियों को तैनात किया गया। वनकर्मियों ने मचान बनाकर एवं पेड़ों की डालियों पर बैठकर कार्मिकों ने वन्य जीवों की गणना की। इस दौरान जंगल में विभिन्न प्रकार के वन्य जीव नजर आए।
पूर्णिमा की चांदनी रोशनी के बीच जिले के जंगल में गिने वन्यजीव
पूर्णिमा की चांदनी रोशनी के बीच जिले के जंगल में गिने वन्यजीव
जंगल में बढ़े वन्यजीव, गणना हुई पूरी


गुढ़ाचंद्रजी. गुढ़ाचंद्रजी वन क्षेत्र में वैशाखी पूर्णिमा पर वाटरहाल पर हुई वन्यजीव गणना में वन्यजीवों की संख्या बढ़ी है। 2 वर्ष पहले हुई वन जीव गणना में 600 वन्य जीव पानी पीने आए थे। इस साल इनकी संख्या गणना में 824 तक पहुंची है। क्षेत्रीय वन अधिकारी मनोज शर्मा ने बताया कि सोमवार सुबह आठ बजे से मंगलवार सुबह आठ बजे तक वन्यजीव गणना की गई। वन क्षेत्र में गिदानी तलाई सहित सोण की डूंगरी, माताजी का बाग आमका जाहिरा, गढ़मोरा में कुंड के पास वन्यजीवों की गणना की। इस दौरान कई वन्यजीव ने तो अपनी आवाज से उपस्थिति दर्ज कराई। उल्लेखनीय है कि करीब 12 हजार 536.191 वर्ग हैक्टेयर भूमि में फैले गुढ़ाचंद्रजी वन क्षेत्र में गुढ़ाचंद्रजी सहित गढ़मोरा, टोडाभीम, बालघाट नाका आता है। क्षेत्रीय वन अधिकारी ने बताया कि वन्यजीवों की गणना का कार्य पूरा होने पर इसकी रिपोर्ट तैयार कर ली गई है। जो मुख्यालय भेजी जाएगी। इस दौरान जरख, सियार, रोजडे, जंगली सूअर, मोर, भेडिय़ा, कबर बिज्जू आदि की गणना की गई। गौरतलब है कि बुद्ध पूर्णिमा पर वन विभाग की ओर से क्षेत्र के वन्य जीवों की गणना करवाई जाती है।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

धन को आकर्षित करती है कछुआ अंगूठी, लेकिन इस तरह से पहनने की न करें गलतीज्योतिष: बुध का मिथुन राशि में गोचर 3 राशि के लोगों को बनाएगा धनवानपैसा कमाने में माहिर माने जाते हैं इस मूलांक के लोग, तुरंत निकलवा लेते हैं अपना कामजुलाई में चमकेगी इन 7 राशियों की किस्मत, अपार धन मिलने के प्रबल योगडेली ड्राइव के लिए बेस्ट हैं Maruti और Tata की ये सस्ती CNG कारें, कम खर्च में देती हैं 35Km तक का माइलेज़ज्योतिष: रिश्ते संभालने में बड़े कच्चे होते हैं इस राशि के लोगजान लीजिए तुलसी के इस पौधे को घर में लगाने से आती है सुख समृद्धिहाथ में इन निशान का होना मां लक्ष्मी की कृपा प्राप्त होने का माना जाता है संकेत

बड़ी खबरें

Maharashtra Political Crisis: फ्लोर टेस्ट के खिलाफ शिवसेना की अर्जी सुप्रीम कोर्ट में मंजूर, आज शाम 5 बजे होगी सुनवाईMaharashtra Political Crisis: 30 जून को फ्लोर टेस्ट के लिए मुंबई वापस पहुंचेगा शिंदे गुट, आज किए कामाख्या देवी के दर्शनMumbai News Live Updates: फ्लोर टेस्ट के खिलाफ शिवसेना की अर्जी सुप्रीम कोर्ट में मंजूर, आज ही होगी सुनवाईनवीन जिंदल को भी कन्हैया लाल की तरह जान से मारने की मिली धमकी, दिल्ली पुलिस से की शिकायतUdaipur Kanhaiya Lal Murder: बैकफुट पर गहलोत सरकार, अब मंत्री बोले, 'ऐसे लोगों को ठोके पुलिस' और दी जाए 'फांसी'Udaipur Murder Case: राजस्थान में एक माह तक धारा 144, पूरे उदयपुर में कर्फ्यू, जानिए अब तक की 10 बड़ी बातेंMohammed Zubair’s arrest: 'पत्रकारों को अभिव्यक्ति के लिए जेल भेजना गलत', ज़ुबैर की गिरफ्तारी पर बोले UN के प्रवक्ता1 जुलाई से बैन: अमूल, मदर डेयरी को नहीं मिली राहत, आपके घर से भी गायब होंगे ये समान
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.