किसानों का ऐलान- जब तक सभी मांगें पूरी नहीं, करनाल मिनी सचिवालय का घेराव जारी रहेगा

महापंचायत के दौरान मंच पर से किसान नेता गुरनाम चढूनी ने किसानों से अपील करते हुए कहा कि कार्यक्रम के दौरान कोई भी किसी भी प्रकार का उपद्रव न करें।

By: सुनील शर्मा

Updated: 07 Sep 2021, 11:11 PM IST

चंडीगढ़। हरियाणा के करनाल में मंगलवार को किसानों ने मिनी सचिवालय के बाहर प्रदर्शन करने के बाद अब उसकी घेराबंदी कर ली है। इसके साथ ही किसान नेताओं ने ऐलान किया है कि जब तक हमारी सभी मांगें पूरी नहीं हो जातीं, हम इसका घेराव जारी रखेंगे। आलम यह है कि देर रात किसानों ने मिनी सचिवालय के बाहर लंगर भी लगा लिया और धरने पर बैठे हुए हैं। जबकि पुलिस-प्रशासन किसानों को मनाने में लगा हुआ है।

हरियाणा सरकार ने मिनी सचिवालय के घेराव के मुद्दे पर चर्चा के लिए किसानों की 11 सदस्यीय समिति को बुलाया था। मीटिंग में करनाल के मिनी सेक्रेटेरिएट का घेराव करने के मुद्दे पर बात की गई। मीटिंग के विफल होने के बाद पुलिस ने योगेन्द्र यादव तथा राकेश टिकैत सहित संयुक्त किसान मोर्चा के सभी नेताओं को हिरासत में ले लिया था। इस संबंध में योगेन्द्र यादव ने एक ट्वीट भी किया।

वहीं, किसानों के धरने के चलते विशेषकर करनाल में सुरक्षा व्यवस्था बढ़ा दी गई है। स्थिति से निपटने के लिए करनाल जिले के विभिन्न स्थानों पर 10 अर्धसैनिक बलों सहित अतिरिक्त बल की 40 कंपनियां तैनात की गई हैं।

हरियाणा सरकार ने कानून-व्यवस्था बनाए रखने के लिए करनाल जिले में सोमवार को दोपहर 12.30 बजे से मंगलवार (7 सितंबर) की रात 11.59 बजे तक मोबाइल इंटरनेट सेवाओं को निलंबित कर दिया है। हरियाणा के चार और जिलों कुरुक्षेत्र, कैथल, जींद और पानीपत में एसएमएस सहित इंटरनेट सेवाएं बंद रहेंगी।

ताजा अपडेट्सः

  • हरियाणा के करनाल में मिनी सचिवालय के बाहर प्रदर्शन कर रहे किसानों के लिए लंगर का आयोजन. उन्होंने आज शाम सचिवालय के गेट पर कब्जा कर लिया था।
  • हरियाणा के जींद के कंडेला गांव के निवासियों ने की नाकेबंदी. प्रदर्शनकारियों ने स्पष्ट कर दिया है कि जब तक एसकेएम ने वापसी का आह्वान नहीं किया, तब तक नाकेबंदी जारी रहेगी।
  • स्थानीय प्रशासन अभी भी आंदोलन कर रहे किसानों का पीछा कर रहा है. सचिवालय में बैठे नेताओं से पुलिस और नागरिक प्रशासन के वरिष्ठ अधिकारी संपर्क में हैं।
  • हरियाणा सरकार के मुताबिक देर रात तक करनाल में मिनी सचिवालय के गेट के सामने किसान बैठे रहे। डीसी निशांत कुमार यादव, आईजी ममता सिंह और एसपी गंगाराम पुनिया और अन्य वरिष्ठ अधिकारी अभी भी प्रदर्शनकारियों के साथ बातचीत कर रहे हैं ताकि कुछ सकारात्मक समाधान निकाला जा सके।
  • करनाल सचिवालय में किसानों के कब्जे के समर्थन में कंडेला वासियों द्वारा नाकेबंदी जारी है।
  • जब तक राज्य किसानों की सभी मांगें नहीं मान लेता तब तक मिनी सचिवालय का घेराव जारी रहेगा: किसान नेता
  • किसानों का कहना है कि करनाल एसडीएम आयुष सिन्हा को बर्खास्त करने से लेकर उनके निलंबन तक की मांग को कम करके जांच लंबित रहने तक पर भी विचार नहीं किया गया जिससे वे नाराज हो गए।
  • हरियाणा के करनाल में मिनी सचिवालय के आसपास किसानों का विरोध प्रदर्शन। बीकेयू नेता राकेश टिकैत ने कहा, "हमने गेट पर कब्जा कर लिया है, थोड़ा आराम करना चाहते हैं, बातचीत के लिए समय नहीं है, यह बाद में हो सकता है।"

इस बीच करनाल सहित पूरे हरियाणा में सुरक्षा व्यवस्था अत्यन्त कड़ी कर दी गई है। अकेले करनाल में ही पैरामिलिट्री की दस कंपनियों सहित 40 कंपनियां तैनात की गई हैं। महापंचायत के बाद किसानों ने पहले से तयशुदा कार्यक्रम के तहत करनाल के मिनी सेक्रेटेरिएट का घेराव करने के लिए मार्च किया। किसानों ने इसके लिए पुलिस बैरिकेड भी पार किए।

आज हरियाणा के करनाल में किसानों की महापंचायत हुई। महापंचायत में कई राज्यों से प्रदर्शनकारी किसान आए हुए हैं। किसानों ने आज लघु सचिवालय का घेराव करने की भी योजना भी बनाई थी। महापंचायत के दौरान मंच पर से किसान नेता गुरनाम चढूनी ने किसानों से अपील करते हुए कहा कि कार्यक्रम के दौरान कोई भी किसी भी प्रकार का उपद्रव न करें।

चढूनी ने प्रदर्शनकारियों से अपील करते हुए कहा कि पुलिस सभी नाकों को हटा रही है, किसी को भी कहीं नहीं रोका जाएगा, इसलिए सभी किसान शांतिपूर्ण तरीके से सभास्थल तक पहुंचे।

यह भी पढ़ें : करनाल में किसान महापंचायत से पहले पुलिस की 40 कंपनियां तैनात, मंगलवार रात तक इंटरनेट बंद

महापंचायत के दौरान क्षेत्र में सुरक्षा व्यवस्था को बनाए रखने के लिए सुरक्षा बलों की 40 कंपनियां तैनात की गई हैं और सोमवार से ही जिले में धारा 144 लागू कर दी गई हैं। इसके अलावा करनाल सहित निकट के चार जिलों जींद, कैथल, कुरुक्षेत्र, पानीपत में मंगलवार रात 12 बजे तक के लिए मोबाइल इंटरनेट सेवाओं पर रोक लगा दी गई हैं। हर जगह पुलिस को तैनात किया गया है।

किसानों की महापंचायत को देखते हुए चंडीगढ़-दिल्ली नेशनल हाईवे पर ट्रैफिक डायवर्ट किया गया है। दिल्ली से आने वाले ट्रैफिक को पानीपत और चंडीगढ़ से आने वाले ट्रैफिक को कुरुक्षेत्र से डायवर्ट किया जा रहा है। वाहनों के सुलभ आवागमन के लिए चार नए रूट बनाए गए हैं।

यह भी पढ़ें : महबूबा ने केन्द्र सरकार पर लगाया नजरबंद करने का आरोप, कहा- सरकार को हमारी नहीं अफगानियों की चिंता है

पुलिस ने उपद्रवी तत्वों को चेतावनी दी
हरियाणा पुलिस ने जानकारी देते हुए कहा कि कुछ उपद्रवी तत्व महापंचायत स्थल पर लाठी-डंडे और लोहे के रॉड लेकर पहुंचे हैं। स्थानीय प्रशासन और पुलिस ने उन सभी को शांति भंग करने पर कानूनी कार्रवाई की चेतावनी देते हुए कहा कि किसी भी तरह की गड़बड़ होने पर पुलिस सख्त कार्रवाई करेगी।

सुनील शर्मा
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned