जन्माष्टमी पर श्रीकृष्ण शोभायात्रा को लेकर कासगंज में तनाव, छावनी बना शहर, देखें वीडियो

जन्माष्टमी पर श्रीकृष्ण शोभायात्रा को लेकर कासगंज में तनाव, छावनी बना शहर, देखें वीडियो

Bhanu Pratap Singh | Publish: Sep, 03 2018 12:02:02 PM (IST) Kasganj, Uttar Pradesh, India

यादव समाज शोभायात्रा निकालने पर अड़ा हुआ है। पुलिस ने अनुमति नहीं दी है। इससे तनाव बढ़ गया है।

कासगंज। भगवान श्रीकृष्ण के जन्मोत्सव को लेकर जहां देश भर में उत्सव मनाया जा रहा है, वहीं कासगंज में तनाव है। मामला है यादव समाज द्वारा निकालने जाने वाली श्रीकृष्ण जन्मोत्सव शोभायात्रा। पुलिस ने इसकी अनुमति नहीं दी है। इसके बाद भी आयोजक शोभायात्रा निकालने पर अड़े हुए हैं। इसी कारण तनाव की स्थिति बन रही है। कासगंज शहर को छावनी में तब्दील कर दिया गया है। पुलिस-प्रशासन हर स्थिति से निपटने के लिए तैयार है।

यह भी पढ़ें

जन्माष्टमी पर कृष्ण जन्म से पूर्व हुई विशेष आरती, देखें वीडियो

दावाः तीन डोला निकालने की मौखिक अनुमति

आयोजकों का दावा है कि शोभायात्रा में तीन डोला निकालने के जिलाधिकारी आरपी सिंह ने मौखिक रूप से सहमति दी है। सत्तार बैंड वाली गली स्थित बांके बिहारी मंदिर से मोहल्ला जयजयराम होती हुई सोरों गेट शीतला मंदिर पर समाप्त करने पर सहमति हुई है। इसके विपरीत पुलिस का कहना है कि शोभाय़ात्रा निकलने की अनुमति नहीं दी गई है।

यह भी पढ़ें

Krishna Janmashtami मथुरा में आज होगा अजन्मे का जन्म, यहां देखें पांच मंदिरों में क्या होने जा रहा

15 अगस्त को नहीं निकलने दी थी तिरंगा यात्रा

आपको बता दें कि 26 जनवरी, 2018 को कासगंज में तिरंगा यात्रा के बाद बवाल हो गया था। इस कारण जिला प्रशासन सुरक्षा व्यवस्था को लेकर कोई लापरवाही और चूक करना नहीं चाहता। इसी को लेकर जिला प्रशासन ने 15 अगस्त, 2018 को पर तिरंगा रैली निकालने पर प्रतिबंध लगा दिया था। इसके बाद सोमवार को भगवान योगीराज श्रीकृष्ण की शोभायात्रा पर भी रोक लगा दी। श्रीकृष्ण के भक्त मनमुताबिक शोभायात्रा नहीं निकाल पा रहे हैं।

यह भी पढ़ें

आज का राशिफलः तुला राशि वालों को मिल सकती है अच्छी खबर, जानिए कैसे रहेगा दिन

नाक का सवाल बनाया

यादव समाज द्वारा निकाली जाने वाली श्रीकृष्ण जन्मोत्सव शोभायात्रा की अभी तक कोई लिखित अनुमति नहीं मिली है। आयोजकों ने पुलिस से कहा है कि जिलाधिकारी ने मौखिक अनुमति दे दी है। पुलिस की नजर में मौखिक अनुमति का कोई मतलब नहीं है। इसके चलते पुलिस के सामने भी असमंजस की स्थिति है। फिलहाल पुलिस ने शोत्रायात्रा रोकने के लिए शहर में बड़ी संख्या में पुलिस वाले तैनात कर दिए हैं। पुलिस ने आयोजकों में से 11 लोगों को पाबंद कर दिया है। अगर कोई गड़बड़ी हुई तो उन्हें पांच-पांच लाख रुपये की जमानत देनी होगी। उधर, आयोजक शोभायात्रा की जोरदार तैयारी कर रहे हैं। सबकी नजर लगी हुई है कि शोत्रायात्रा निकाली जाएगा या नहीं। यादव समाज ने इसे नाक का सवाल बना लिया है।

यह भी पढ़ें

IPS अधिकारी ने Satta King को जेल में डाला, अब इन माफियाओं पर बड़ी कार्रवाई

 

 

Ad Block is Banned