लालच करने का परिणाम, बच्चों को भी पढ़ाएं ये रोचक कहानी

लालच करने का परिणाम, बच्चों को भी पढ़ाएं ये रोचक कहानी
लालच करने का परिणाम, बच्चों को भी पढ़ाएं ये रोचक कहानी

Amit Sharma | Updated: 17 Sep 2019, 07:00:00 AM (IST) Kasganj, Kasganj, Uttar Pradesh, India

लालच का सुख बड़ा खतरनाक होता है। पहले वह हमें प्रसन्नता देता है, फिर दुःख। अतः हमें पहले ही से उसका सुख नहीं उठाना चाहिए।

रामदास एक ग्वाले का बेटा था। रोज सुबह वह अपनी गायों को चराने जंगल में ले जाता। हर गाय के गले में एक-एक घंटी बँधी थी। जो गाय सबसे अधिक सुंदर थी उसके गले में घंटी भी अधिक कीमती बँधी थी।

एक दिन एक अजनबी जंगल से गुजर रहा था। वह उस गाय को देखकर रामदास के पास आया, ‘‘यह घंटी बड़ी प्यारी है! क्या कीमत है इसकी?’’

‘‘बीस रुपये।’’ रामदास ने उत्तर दिया।

‘‘बस, सिर्फ बीस रुपये! मैं तुम्हें इस घंटी के चालीस रुपये दे सकता हूँ।’’

यह भी पढ़ें- UP tourist Guide ताजमहल के शहर में अनूठा प्राकृतिक स्थल 'कीठम' , जहां सारी टेंशन भूल जाएंगे

सुनकर रामदास प्रसन्न हो उठा। झट से उसने घंटी उतारकर उस अजनबी के हाथ में थमा दी और पैसे अपनी जेब में रख लिये। अब गाय के गले में कोई घंटी नहीं थी। घंटी की टुनक से उसे अन्दाजा हो जाया करता था। अतः अब इसका अन्दाजा लगाना रामदास के लिए मुश्किल हो गया कि गाय इस वक्त कहाँ चर रही है। जब चरते-चरते गाय दूर निकल आई तो अजनबी को मौका मिल गया। वह गाय को अपने साथ लेकर चल पड़ा।

यह भी पढ़ें- ये एक ऐसी कहानी है जो आपको जीने का अंदाज सिखाएगी, जरूर पढ़ें

तभी रामदास ने उसे देखा। वह रोता हुआ घर पहुँचा और सारी घटना अपने पिता को सुनाई। उसने कहा, ‘‘मुझे तनिक भी अनुमान नहीं था कि वह अजनबी मुझे घंटी के इतने अच्छे पैसे देकर ठग ले जाएगा।’’

सीख
पिता ने कहा: लालच का सुख बड़ा खतरनाक होता है। पहले वह हमें प्रसन्नता देता है, फिर दुःख। अतः हमें पहले ही से उसका सुख नहीं उठाना चाहिए।
प्रस्तुतिः डॉ. आरके दीक्षित, सोरों

Show More
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned