अखिलेश यादव के रिश्तेदार सात लाख की ठगी के हुए शिकार, जानिए पूरा मामला!

पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव के रिश्तेदार सौरभ यादव ने तीन के खिलाफ मामला दर्ज कराया है।

By: suchita mishra

Published: 17 Feb 2020, 05:20 PM IST

कासगंज। पूर्व मुख्यमंत्री और समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव के रिश्तेदार सात लाख की ठगी के शिकार हो गए हैं। एक साल पहले हुई इस ठगी के मामले में जब जालसाजों ने धनराशि लौटाने और भूखंड का बैनामा करने से मना कर दिया तो पीड़ित सपा नेता ने कासगंज कोतवाली में तीन लोगों के खिलाफ मुकदमा दर्ज कराया है।

ये है मामला
कोतवाली सदर क्षेत्र के गांव कादरपुर निवासी सौरभ यादव पुत्र प्रेमपाल यादव उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव के नजदीकी रिश्तेदार हैं। वे गांव कादरपुर के प्रधान भी रह चुके हैं। उन्होंने कोतवाली सदर में मुकदमा दर्ज कराकर जमीन का बैनामा कराने के नाम पर ठगी का आरोप लगाया है। सपा नेता सौरभ यादव का आरोप है कि एक वर्ष पहले सहावर थाना क्षेत्र के गांव कुंवरपुर निवासी चिंटू उर्फ शैलेंद्र ने एक जमीन का सौदा कराया था। इसमें भूखंड मानपुर नगरिया के बाबर की मां फातिमा के नाम से था, जिसका आरोपियों ने सात लाख रुपये में बैनामा कराने की बात कही थी। लेकिन आरोपी बैनामा नहीं करा सके।

पुलिस ने जांच शुरू की
सौरभ यादव ने पुलिस को बताया कि उनके बहनोई सेना में कर्नल हैं जो असम में तैनात हैं। वे कासगंज में जमीन तलाश रहे थे। इसलिए उन्होंने अपने बहनोई के लिए जमीन का सौदा तय किया था। उन्होंने छह लाख रुपये चिंटू के खाते में डाले थे और एक लाख का भुगतान बाबर की मां के खाते में कर दिया था। आरोपी एक साल तक बैनामा के लिए टालते रहे। सौरभ यादव का आरोप है कि जब बैनामा कराने की या धनराशि वापस करने की बात कही तो आरोपियों ने दोनों ही बातों से इनकार कर दिया। इसके बाद उन्होंने आरोपियों के खिलाफ मामला दर्ज कराया है। फिलहाल पुलिस ने आरोपियों के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर जांच शुरू कर दी है।

suchita mishra
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned