दो माह में 14 मिलर्स का 26 हजार क्विंटल चावल रिजेक्ट

सीएम के निर्देश पर बालाघाट और मंडला में इओडब्ल्यू की जांच शुरू होते ही कटनी में मचा हड़कंप.

By: raghavendra chaturvedi

Published: 07 Sep 2020, 11:35 PM IST

कटनी. राशन दुकान में गरीबों को जानवरों के खाने योग्य चावल दिए जाने का मामला बालाघाट और मंडला में सामने आने और मुख्यमंत्री के निर्देश के बाद ईओडब्ल्यू की जांच शुरू होने के बाद कटनी में हड़कंप की स्थिति है। यहां जुलाई और अगस्त माह में नागरिक आपूर्ति निगम (नान) के क्वालिटी इंस्पेक्टरों ने 14 मिलर्स का 26 हजार 680 क्विंटल चावल रिजेक्ट किया है। खासबात यह है कि रिजेक्ट चावल की यह वो मात्रा है जिसे मिलर्स ने अपने मानकों में सही ठहराया था और ट्रक में लोड कर गोदाम तक ले भी गए थे।

गोदाम पहुंचने के बाद इतनी बड़ी मात्रा में चावल का गुणवत्ता मानकों में खरा नहीं उतरने के बाद सीएमआर से चावल सप्लाई की पूरी प्रक्रिया सवालों में है। दूसरी ओर बालाघाट और मंडला में खराब चावल सप्लाई मामले में ईओडब्ल्यू की जांच शुरू होने के बाद कटनी में इस बात की कोशिशें तेज हो गई है कि जांच के दायरे में कटनी शामिल नहीं हो।

नागरिक आपूर्ति निगम कटनी के प्रबंधक पीयूष माली बताते हैं कि जुलाई माह में 14 हजार 790 क्विंटल और अगस्त माह में 11 हजार 890 क्विंटल चावल हमारे क्वालिटी इंस्पेक्टरों ने रिजेक्ट किया है। 14 मिलर्स द्वारा दिए गए चावल की इस मात्रा को लेकर आगे की कार्रवाई की जा रही है।

raghavendra chaturvedi Bureau Incharge
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned