scriptaction taken on buses in katni | बगैर फिटनेस व परमिट के दौड़ रही थी बस ऑपरेटर एसोसिएशन के अध्यक्ष की पुरानी बस, मचा हड़कंप | Patrika News

बगैर फिटनेस व परमिट के दौड़ रही थी बस ऑपरेटर एसोसिएशन के अध्यक्ष की पुरानी बस, मचा हड़कंप

locationकटनीPublished: Dec 30, 2023 09:26:51 pm

Submitted by:

balmeek pandey

कांग्रेस नेता का भतीजा है एसोसिएशन का अध्यक्ष, सडक़ों पर उतरे अफसर तो सामने आई कारगुजारी, पूर्व में एक ही परमिट पर दौड़ते मिलीं थी दो बसें
गुना हादसे के बाद चेते अफसर, सडक़ों पर उतरकर की जांच, अधिकांश बसों में मिली खामियां

बगैर फिटनेस व परमिट के दौड़ रही थी बस ऑपरेटर एसोसिएशन के अध्यक्ष की पुरानी बस, मचा हड़कंप
बगैर फिटनेस व परमिट के दौड़ रही थी बस ऑपरेटर एसोसिएशन के अध्यक्ष की पुरानी बस, मचा हड़कंप,बगैर फिटनेस व परमिट के दौड़ रही थी बस ऑपरेटर एसोसिएशन के अध्यक्ष की पुरानी बस, मचा हड़कंप,बगैर फिटनेस व परमिट के दौड़ रही थी बस ऑपरेटर एसोसिएशन के अध्यक्ष की पुरानी बस, मचा हड़कंप

कटनी. गुना में हृदय विदारक बस हादसा सामने आने के बाद जिले के अफसरों की नींद खुली, शुक्रवार को सडक़ों पर परिवहन विभाग का अमला उतरा तो बसों की हकीकत सामने आई। इस जांच में कटनी बस ऑपरेटर एसोसिएशन के अध्यक्ष की 19 साल पुरानी कबाड़ बस को जब्त किया गया है, यह बस बिना फिटनेस व परमिट के यात्रियों की जान जोखिम में डालकर चल रही थी। अफसरों ने बस के दस्तावेज देखे तो सख्ते में आ गए और आनन-फानन में बस को जब्त कराया। एसोसिएशन अध्यक्ष शुभ मिश्रा कटनी नगर निगम के पूर्व महापौर व कांग्रेस नेता विजेंद्र मिश्रा के भतीजे हैं। कहा जा रहा है कि राजनीतिक रसूख के चलते पुलिस व परिवहन विभाग के अधिकारी लंबे समय से कार्रवाई करने से कतरा रहे थे।
शुक्रवार को बसों की हीकीकत परखने व यात्रियों की जान से खिलवाड़ ना हो, इसके लिए परिवहन विभाग, यातायात पुलिस ने जांच की। जांच के दौरान बड़ी खामियां सामने आईं। शहर से होकर लगभग 125 बसें लोकल तो बाहर की मिलाकर 350 बसें फर्राटे भरती हैं। परिवहन विभाग ने 22 बसों की जांच में दो को जब्त किया, 6 में खामी पाते हुए जुर्माने की कार्रवाई की है। इसके अलावा यातायात पुलिस ने 80 बसों में जांच के दौरान 37 बसों में खामी पाई, जिनपर जुर्माना लगाया गया है।

बगैर परमिट-फिटनेस के दौड़ रही थी बस
जांच-कार्रवाई के दौरान टीम ने बस क्रमांक एमपी 07 एफ 2055 को रोककर जांच की। चालक-परिचालक से दस्तावेज दिखाने कहा। जब देखा तो बस बगैर परमिट एवं फिटनेस बीमा के संचालित होना पाई गई। परिवहन विभाग ने कार्रवाई करते हुए बस को जब्त कर कुठला थाने में खड़ा कराया। उक्त बस का फिटनेस 28 अपे्रल को खत्म हो गया था, इसके बाद भी फर्राटे भर रही थी।

98 हजार रुपए का लगा जुर्माना
अतिरिक्त क्षेत्रीय परिवहन अधिकारी विमलेश गुप्ता ने बताया कि बस क्रमांक एमपी 07 एफ 2055 बिना परमिट एवं फिटनेस बीमा के संचालित पाए जाने पर थाना कुठला में जब्त कराकर वाहन संचालक शुभ मिश्रा से 33 हजार 48 रुपए मोटर यान कर एवं 65 हजार 800 रुपए समन शुल्क जमा कराया गया। इसी तरह बस क्रमांक एमपी 12 पी 0336 पर कार्रवाई की गई है। मौके पर 1 लाख 4 हजार 572 रुपए मोटरयान कर जमा कराते हुए कार्यवाही के दौरान मोटरयान शुल्क के रूप में कुल 1 लाख 31 हजार 622 रुपए, समन शुल्क के रूप में 71 हजार 800 रुपए जमा कराए गए हैं। इस मामले में शुभ मिश्रा का कहना है कि किसी भी ऑपरेटर की अनफिर गाडिय़ां सडक़ पर न दौड़ें यह पहल की जाएगी। परिवहन विभाग द्वारा भी प्रभावी कार्रवाई की जा रही है। हमारी बस बारात से लौट रही थी, उसका परमिट था, लेकिन विभाग ने छापेमारी में पकड़ लिया है।

पूर्व में भी हो चुकी है कार्रवाई
तीन साल पहले भी प्रशासन द्वारा विजय ट्रेवल्स की बस पर बड़ी कार्रवाई की गई थी। एक ही परमिट नंबर की दो बसें चल रहीं थीं, जिन्हें जब्त कराया गया था। उक्त कार्रवाई तत्कालीन कलेक्टर प्रियंक मिश्रा के नेतृत्व में आधीरात छापेमार कार्रवाई कराते हुए की गई थी। इस दौरान बड़ी मात्रा में इनके कृषि उपज मंडी के पीछे स्थित गैरिज से केरोसिन का भंडार भी पकड़ा गया था। हैरानी की बात तो यह है कि बस ऑपरेटर एसोसिएशन के अध्यक्ष द्वारा ही इस कदर मनमानी की जा रही है तो फिर अन्य लोगों का क्या हाल होगा, इसी से अंदाजा लगाया जा सकता है।

80 बसों की ट्रैफिक पुलिस ने की जांच
यातायात थाना प्रभारी राहुल पांडेय के नेतृत्व में बसों के लिए चैकिंग अभियान झिंझरी में चलाया गया। सूबेदार संजीव रावत, एएसआई अशोक चौहान, मनीष बर्मन, संदीप बाल्मीक के साथ बसों की जांच की गई। जांच के दौरान कई बसों में खामी मिली। दो बसों को थाने में जब्त कराया गया। जांच के दौरान कई बसों में खामी मिली। थाना प्रभारी ने बताया कि 80 बसों की जांच की गई। चालक-परिचालक से दस्तावेज मांगे गए। कई बसों में नियमों का पालन नहीं हो रहा था। 37 बसों पर चालानी कार्रवाई की गई। 29 हजार 100 रुपए शमन शुल्क वसूल किया गया।

बगैर फिटनेस व परमिट के दौड़ रही थी बस ऑपरेटर एसोसिएशन के अध्यक्ष की पुरानी बस, मचा हड़कंप

हे भगवान! बाइक में सवार थे 6 लोग, कटा चालान
यातायात पुलिस के द्वारा यातायात थाने के सामने झिंझरी में जांच-कार्रवाई की जा रही थी। इस दौरान फरकान अंसारी पीरबाबा से लौट रहे थे। मोटर साइकिल में पत्नी सहित चार बच्चों को बैठाए हुए थे। दो लोगों के लिए निर्धारित वाहन में छह लोग सवार होने पर पुलिस ने रोका। इस दौरान ट्रैफिक टीआई राहुल पांडेय ने हिदायत देते हुए दोबारा ऐसी गलती न करने की समझाइश दी। मोटर वीकल एक्ट के तहत 500 रुपए की चालानी कार्रवाई की गई। इस दौरान परिवार को इ-रिक्शा में बैठाकर भिजवाया गया।

जर्जर बसों के थमे रहे पहिये
परिवहन विभाग व यातायात पुलिस द्वारा की जा रही जांच कार्रवाई से बचने के लिए कई ऑपरेटर ने जर्जर बसों को सुरक्षित स्थान पर खड़ा करा दिया था। कई बसें तो बस स्टैंड में ही खड़ी रहीं जो जर्जर हालात में हैं। पूरे जिले में नियमों को ताक में रखकर बसें ऑपरेटर दौड़ रहे हैं। ओवरलोडिंग चरम पर है। वाहन चालकों, परिचालकों व क्लीनरों का ना तो वैरीफिकेशन हो रहा और ना ही कोई जांच। बसों में पेनिक बटन, स्पीड गर्वनर, इमरजेंसी खिडक़ी, हेल्पलाइन नंबर, वर्दी, नेमप्लेट आदि का अता-पता नहीं है। जांच के दौरान बसों के बीमा, परमिट, फिटनेस, लायसेंस, प्रदूषण प्रमाण पत्र सहित ओव्हरलोडिंग आदि से संबंधित दस्तावेजों का परीक्षण किया गया। समन शुल्क के रूप में 2 लाख 3 हजार 422 रुपए का जुर्माना किया गया।

वर्जन
जिले में बसों का नियमानुसार संचालन हो, इसके लिए समय-समय पर जांच की जाती है। अब अभियान चलाकर जांच की जा रही है। नियमों का उल्लंघन करने वालों के खिलाफ वैधानिक कार्रवाई की जा रही है। अभियान निरंतर जारी रहेगा।
विमलेश गुप्ता, आरटीओ।

ट्रेंडिंग वीडियो