कटनी शहर को स्वच्छता सर्वेक्षण में अव्वल लाने को जुटा प्रशासन

-शहर की सफाई को दुरुस्त रखने पर सारा जोर

By: Ajay Chaturvedi

Published: 20 Feb 2021, 05:43 PM IST

कटनी. स्वच्छत सर्वेक्षण-2021 में अव्वल आने के लिए कटनी जिला प्रशासन पूरी शिद्दत से जुट गया है। हर आला अधिकारी व्यक्तिगत तौर पर इसमें रुचि लेते हुए कोई कोर कसर नहीं रहने देना चाहता है। शहर की सफाई को लेकर नगर निगम को लगातार हिदायतें दी जा रही हैं। गणमान्य नागरिकों से फीडबैक भी लिया जा रहा है।

इसी कड़ी में आयुक्त नगर निगम ने निगम कार्यालय में स्वच्छत सर्वेक्षण-2021 की कार्रवाई के लिए नियुक्त नोडल अधिकारियों सहित निगम के अन्य अधिकारियों-कर्मचारियों की बैठक आयोजित की गई। बैठक में आयुक्त नगर निगम ने नगर की सफाई व्यवस्था को निर्धारित मापदंडों के अनुरूप सुचारू बनाए रखने के लिए मातहतों को कई टिप्स दिए साथ ही उन्हें अलग-अलग टास्क भी सौंपा। इस दौरान उन्होंने कहा कि स्वच्छता सर्वेक्षण - 2021 के विभिन्न बिंदुओं शत प्रतिशत सोर्स सेग्रीगेशन की कार्रवाई सुनिश्चित की जाए। सभी नोडल अधिकारी अपने-अपने वार्डो में होम कम्पोस्टिंग की संख्या चिन्हित कर वर्तमान स्थिति में प्रोग्रेस की विस्तृत रिपोर्ट प्रस्तुत करें। कार्यरत सफाई कर्मचारियों की उपस्थिति की जांच नियमित तौर पर हो और यह भी सुनिश्चित किया जाए कि कर्मचारी जैकेट पहनकर ही अपने कर्तव्य स्थल पर काम करे। सार्वजनिक स्थलों पर गंदगी फैलाने वालों के खिलाफ सख्त कार्रवाई हो, उनका चालान काटा जाए। नालियों में जाली लगाई जाय, बड़ी नालियों व नालों की रोजाना सफाई हो। मडपंप से सेप्टिक टेंक की सफाई कराकर मड एफएसटीपी प्लांट में भेजा जाए।

आयुक्त नगर निगम ने नगर की सुंदरता के मद्देनजर अवैध होर्डिग्स व बैनर पर नियमानुसार कार्रवाई करने, मुख्य मार्गो के डिवाइडरों के दोनों ओर की धूल एवं मिट्टी प्रतिदिन हटाने, पर्यावरण संरक्षण के दृष्टिगत डिवाइडर में स्थापित पौधों की रोजाना सिचाई कराने, मुख्य मार्गो के किनारे ग्रीनरी विकसित करने तथा आवागमन की सुविधा और हवा में धूल कण के स्तर को कम कराने के लिए गड्ढों की फिलिंग करने, सार्वजनिक मार्गो में निर्माण सामग्री रखे पाए जाने पर उसे जप्त करने की हिदायत दी।

उन्होंने कहा कि नगर के विभिन्ना जल संरचनाओं व स्रोतों के पास पर्याप्त सफाई रहे इसके लिए होर्डिग एवं लिटरबिन लगाकर नागरिकों को जल स्रोतों में अपशिष्ठ न डालनें के लिए प्रेरित किया जाए। ठोस अपशिष्ट को रोकने के लिए ट्रेश क्लीनर की व्यवस्था हो, अमानक प्लास्टिक पर प्रतिबंधात्मक कड़ाई से कार्रवाई जारी रहे। नाला-नालियो में ठोस अपशिष्ट तैरते हुए न दिखें, इसके लिए नियमानुसार कार्रवाई की जाय। उन्होंने कहा कि इन सभी बिंदुओं की रोजाना सतत निगरानी होनी ही चाहिए।

Ajay Chaturvedi
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned