वायु और मेघ ने ढाया कहर, छोड़ गए ये मंजर

बिजली के खंभे गिरे, पेड़ उखड़े और घरों के छप्पर तक उड़ गए, विद्युत आपूर्ति हुई बाधित, बारिश पूर्व मेंटेनेंस की खुली पोल

By: narendra shrivastava

Published: 15 Jun 2019, 10:56 PM IST

स्लीमनाबाद। प्री-मानसून ने दस्तक दे दिया है। इसी के साथ गुरुवार शाम को चली तेज आंधी के बाद बिजली लाइन में फाल्ट होने से 12 घंटे तक बहोरीबन्द तहसील के कई गांव में बिजली गुल रही। जिसके कारण लोग उमस भरी गर्मी में परेशान होते रहे। गुरुवार को शाम करीब साढ़े चार बजे से तेज आंधी चली। जिससे कई जगह विद्युत पोलो पर पेड़ व टहनियां गिरने से कई जगह लाइन में फाल्ट आने से बिजली सप्लाई बंद कर दी गई थी। 33 केवी लाइन के तार टूट जाने और इंसुलेटर भी बस्र्ट हो जाने से सप्लाई बंद रही। खडरा मार्ग पर पेड़ गिरने से आवागमन बंद रहा तो वही लाइन में फाल्ट हो गया। इसके अलावा छह खंभों के तार भी टूट गए थे। वहीं बुधनवारा फीडर में पिन इंसूलेटर बस्र्ट हो गए तो यही पर दो नंबर एलए भी बस्र्ट हुए। जगह-जगह हुए फाल्ट का पता करने के लिए बिजली कंपनी के कर्मचारियों के लिए काफी मशक्त करनी पड़ी। शुक्रवार को 11 बजे के लगभग बिजली सप्लाई शुरू हुई। गौरतलब है कि पहली आंधी बारिश में ही बिजली कंपनी का सिस्टम चरमरा गया है और इससे अंदाजा लगाया जा सकता है कि आने वाली बारिश में बिजली सप्लाई सुचारू रुप से कैसे होगी।
गुरुवार को आंधी तूफान बहोरीबन्द तहसील के 25 गाँवो से अधिक गांव अंधेरे में डूबे रहे। तहसील मुख्यालय बहोरीबन्द भी अंधेरे में डूबा रहा। यहां बिजलीं बाधित होने से लोगों को पानी के लिए भी मोहताज होना पड़ा। सरकारी कार्यालयों में भी दोपहर 12 के बाद ही कामकाज शुरू हो पाया।

बचैया में घरों से उड़े छप्पर
आंधी तूफान से तहसील की ग्राम पंचायत बचैया में तीन लोगों के घरों से टीन शेड के छप्पर उड़ गए। जिससे लोग रहने को मजबूर हो गए। बचैया के निवासी निम्मी लाल आदिवासी, मंगल झारिया के घर के छप्पर उड़ गए। जिससे ये तीनो की मेहनत पर पानी फिर गया। सरपंच ने बताया पंचनामा कारवाई कर नुकसानी राहत के प्रकरण तहसीलदार को भेजा जाएगा।

Show More
narendra shrivastava Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned