PM मोदी की किसान नीति का चौरतरफा अनोखा विरोध

-शहरों में विरोध जताने को हल लेकर निकले किसान

By: Ajay Chaturvedi

Published: 15 Sep 2020, 02:02 PM IST

कटनी. PM नरेंद्र मोदी की किसान नीति का चौरतरफा विरोध दिखने लगा है। आलम यह है कि किसानों ने विरोध दर्ज कराने का नायाब तरीका निकाला है। वो हल के साथ सड़कों पर पैदल ही निकल पड़े हैं। हल को भी ऐसे कंधों पर रखा है मानों वो खुद बैल हों और खेतों की जुताई कर रहे हों। अब पक्की सड़क पर भला हल का क्या काम! ऐसे में जो भी देख रहा है दंग रह जा रहा है।

किसान नेताओं ने बताया कि पहले कानून के मुताबिक हर व्यापारी केवल मंडी से ही किसान की फसल खरीद सकता था। अब व्यापारी को इस कानून के तहत मंडी के बाहर से फसल खरीदने की छूट मिल जाएगी। अनाज, दाल, खाद्य तेल, प्याज, आलू आदि को आवश्यक वस्तु अधिनियम से बाहर करके इसकी स्टॉक सीमा समाप्त कर दी गई है। सरकार कांट्रेक्ट फॉर्मिंग को बढ़ावा देने की बात कह रही है। किसान इसी का विरोध कर रहे हैं।

इस मामले में किसान नेता एके खान ने बताया कि प्रधानमंत्री, किसानों के लिए जो अध्यादेश लाए हैं वह किसान विरोधी है। इससे किसान मजबूत नहीं होगा बल्कि उसकी कमर टूट जाएगी। चेतू पटेल ने भी केंद्र सरकार व मध्यप्रदेश की बीजेपी सरकार के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह की जमकर मुखालफत की। कहा कि इस लॉकडॉउन में किसानों व गरीबों को तो सरकार ने भूखा मार ही दिया, अब केंद्र सरकार के इस अध्यादेश से किसान और टूट जाएगा। उन्होंने कहा कि किसानों को खाद बीज भी नहीं मिल रहा है। इससे किसान परेशान है।

शहर के विभिन्न मार्गों से होते हुए किसान तहसीलदार कार्यालय पहुंचे। वहां उन्होंने ज्ञापन सौंपकर अध्यादेश वापस लिए जाने की मांग की।

PM Narendra Modi
Show More
Ajay Chaturvedi
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned