बाजार में लौटी रौनक, सराफा में प्रतिदिन 20 लाख रुपए से ज्यादा का सोने की चूड़ी का कारोबार

अपना बाजार: गणेश चतुर्थी के पावन अवसर पर सोने चांदी के आभुषणों की खरीददारी बढ़ी.

By: raghavendra chaturvedi

Published: 10 Sep 2021, 01:08 PM IST

कटनी. कोरोना संक्रमण की चुनौती से निपटने के बाद बाजार अनलॉक हुआ तो धीरे-धीरे अब कारोबार भी पटरी पर आ रहा है। कटनी की परंपरागत सराफा बाजार में एक बार फिर रौनक लौटने लगी है। सुभाष चौक से झंडा बाजार गली की सराफा दुकानों से लेकर सराफा बाजार की दुकानों में ग्राहकों की भीड़ जुटने लगी है तो इन दिनों त्यौहार की खरीददारी का दौर भी चल रहा है। ज्यादातर दुकानों में सोने व चांदी की चुड़ी की खरीददारी ज्यादा हो रही है। हांलाकि दूसरे जेवरों की भी खरीददारी हो रही है, लेकिन सोने की चुडिय़ां महिलाओं की खास पसंद है।

सराफा एसोसिएशन के अध्यक्ष ओमप्रकाश सोनी बताते हैं कि फिलहाल बाजार बढिय़ा चल रहा है। शहर में ढाई सौ से ज्यादा सोने-चांदी की दुकानें हैं। इन दिनों प्रतिदिन 20 लाख रुपए से ज्यादा का कारोबार हो जा रहा है। सोने की चुडिय़ां महिलाओं को ज्यादा पसंद आ रही है। कटनी में आकर्षक जेवर भी बनाए जाते हैं, जिसकी खरीददारी के लिए आसपास जिले से भी फुटकर दुकानदार आते हैं।

कटनी में बनी आभूषणों की डिमांड
सोने-चांदी के जेवर के मामले में कटनी में बनी आभुषणों की डिमांड रहती है। यहां शहर व जिले के अलावा आसपास जिले से भी फुटकर दुकानदार खरीददारी के लिए आते हैं। इसमें उमरिया, दमोह व पन्ना सहित अन्य जिले शामिल हैं।

 

apna bajar news katni
सुभाष चौक स्थित मस्ताना फुल्की. IMAGE CREDIT: Raghavendra

खान-पान में ग्राहकों को लुभाने दुकानदारों की विशेष तैयारी, टेस्ट के साथ तकनीक का उपयोग

कोरोना संकट काल के बाद एक बार फिर लोग अपने पसंदीदा स्थान पर फुल्की का लुत्फ उठाने आ रहे हैं तो दुकानदार ने भी बदलने समय के साथ स्वाद के बीच तकनीक का सहारा लेने का निर्णय लिया है। सुभाष चौक स्थित मस्ताना मस्ताना फुल्की सेंटर के संचालक आनंद वर्मा बताते हैं कि इस बार फुल्की पानी मिक्स करने के लिए मशीन लगाने की तैयारी है। जिससे ज्यादा से ज्यादा उपभोक्ताओं की डिमांड कम समय में पूरी जा सके। उन्होंने बताया कि फिलहाल प्रतिदिन लगभग 7 हजार फुल्की बिक रही है, लेकिन यह संख्या बढऩे वाली है। इसके लिए तैयारी भी शुरू कर दी है। आनंद बताते हैं कि आगे अब ज्यादा से ज्यादा प्राकृतिक उत्पादों का उपयोग कर फुल्की का स्वाद और बेहतर बनाएंगे।

ये है व्यापारियों की मांग
पैसेंजर ट्रेनें और चले- कटनी के व्यापारियों की मांग है कि पैसेंजर से ट्रेनें और चलाईं जाएं। खासकर ट्रेनों की टाइमिंग ऐसी हो कि सभी दिशाओं से कटनी आने वाली पैसेंजर ट्रेनें यहां सुबह 10 से 11 के बीच पहुंचे और शाम को 4 से 5 बजे के बीच रवाना हों।

जाम की समस्या - शहर में जाम की समस्या भी व्यापार को नुकसान पहुंचाती है। इसके लिए जरुरी है कि जाम लगने वाले स्थान चिन्हित कर उसे दूर करने के प्रयास समय रहते किए जाएं। कोशिश हो कि जाम की समस्या से निजात दिलाने ठोस उपाय हों।

raghavendra chaturvedi Bureau Incharge
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned