मनमाने तरीके से कर दिया वेतन भुगतान अब Recovery की तैयारी

-Recovery को जिला कोषागार से शिक्षा अधिकारी को भेजा गया पत्र
-शासन ही नहीं कोर्ट के भी फैसले का उल्लंघन करने का आरोप

By: Ajay Chaturvedi

Published: 21 Aug 2021, 04:05 PM IST

कटनी/ बडवारा. सारे नियम कानून ताख पर रख कर एक स्कूल के हेडमास्टर साहब ने अपने साथ काम करने वाले संविदा शिक्षकों को नियत वेतन से ज्यादा का भुगतान करते रहे। लेकिन यह सब कोषागार ने पकड़ लिया। कोषाधिकारी ने जिला शिक्षा अधिकारी को पत्र भेज कर इसे वित्तीय अनियमितता करार दिया। अब Recovery की तैयारी चल रही है। हेडमास्टर साहब और शिक्षकों सभी परेशान हैं। ये मामला बड़वारा का है।

जानकारी के मुताबिक बड़वारा के 19 शिक्षकों को निर्धारित से ज्यादा वेतन भुगतान हुआ है। अब जिला कोषाधिकारी ने जिला शिक्षा अधिकारी को अधिक वेतन के मामले में डीडीओ को जिम्मेदार मानते हुए वसूली करने के लिए पत्र जारी किया है। जिला शिक्षा अधिकारी को लिखे पत्र में जिला कोषालय ने सर्वोच्च न्यायालय के निर्णय का हवाला दिया है। इसमें कहा गया कि वर्तमान सर्वोच्च न्यायालय के निर्देशानुसार यदि वेतन से अधिक भुगतान होता है तो डीडीओ व नियंत्रणकर्ता अधिकारी की जवाबदेही होगी और उनके वेतन से अधिक भुगतान की वसूली की जाएगी। लिहाजा यह निर्देशित किया जाता है कि आप संबंधित आहरण व संवितरण अधिकारी से तत्काल वसूली की कार्रवाई करें, अन्यथा की स्थिति में मध्य प्रदेश आचरण नियम के प्रावधान व कोषालय संहिता के प्रावधान के तहत प्रस्ताव शासन को भेजा जाएगा।

इस पत्र के संबंध में कहा गया है कि विकासखंड शिक्षा अधिकारी बड़वारा के अंतर्गत कार्यरत संविदा शिक्षकों को छठवें वेतनमान से अधिक का भुगतान किया गया है। ऐसी स्थिति में जिनको अधिक भुगतान हो रहा था। वो उच्च न्यायालय गए और स्टे लेकर आ गए हैं। ऐसे में संकुल प्रधानाध्यापक द्वारा अधिक भुगतान की वसूली नहीं की गई और अधिक वेतन का आधार 1 जुलाई 2016 व 1 जुलाई 2018 के हिसाब से वेतन निर्धारण किया गया। इससे संकुल प्रधानाध्यापक ने न वित्त विभाग के निर्देशों का पालन किया , न न्यायालय के स्थगित आदेश का पालन ही किया। लिहाजा संकुल प्रधानाध्यापक पर मनमानी पूर्ण कार्रवाई का आरोप लगा। कहा गया कि इससे शासन को वित्तीय क्षति हो रही है। इस मामले में डीईओ शशि बाला झा ने चुप्पी साध रखी है।

Show More
Ajay Chaturvedi
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned