सेना और पुलिस भर्ती में मैदान का अड़ंगा, गांव के युवाओं ने जताया आक्रोश

सरपंच-सचिव के खिलाफ की नारेबाजी, पंचायत भवन के सामने किया प्रदर्शन.

By: raghavendra chaturvedi

Published: 22 Nov 2020, 10:22 PM IST

Katni, Katni, Madhya Pradesh, India

कटनी. बहोरीबंद जनपद क्षेत्र अंतर्गत बाकल और समीपी गांव के आठ युवाओं का सेना में चयन के बाद गांव के दूसरे युवाओं ने सेना और पुलिस भर्ती में चयन की तैयारी जुटे। इस दौरान युवाओं को खेल मैदान की कमीं से जूझना पड़ा तो शनिवार को युवाओं ने पंचायत भवन के सामने सरपंच और सचिव के खिलाफ मोर्चा खोल दिया। युवाओं ने जनप्रतिनिधियों के खिलाफ जमकर नारेबाजी की और सरपंच के आश्वासन के बाद ही माने।

युवाओं ने बताया कि ग्राम पंचायत में खसरा नं. 2636 रकबा 2.98 हेक्टेयर चरनोई शासकीय मद में दर्ज है। अंशभाग पर पंचायत द्वारा खेलमैदान निर्माण कराया गया है, लेकिन उसमें पर्याप्त सुविधाएं नहीं हैं। राजस्व रिकॉर्ड में खेल मैदान दर्ज न होने के कारण विधायक एवं सांसद निधि से मदद नहीं मिल पा रही, जिससे खिलाडिय़ों के लिए सुविधाएं नहीं मिल पा रही है।

अभ्यास करने वाले गांव के युवा आमिल खान बताते हैं कि गांव में ग्राउंड आवश्यक रूप से होना चाहिए। सड़क पर दौड़कर युवक अभ्यास कर रहे हैं। आसपास के छोटे-छोटे गांव के बच्चे सड़क पर तैयारी करते हैं तो दुर्घटना होती है। एक युवक हाल ही में घायल हुआ है। लगातार मांग के बाद भी पंचायत और जिम्मेदार अधिकारियों द्वारा ध्यान नहीं दिया जा रहा।

खिलाड़ी सौरभ अग्रवाल बताते हैं कि पॉवर हाउस के सामने खेल मैदान बना है वह जमीन खेल मैदान में दर्ज नहीं है। यहां पर 40 से 50 युवक आर्मी और पुलिस सहित अन्य विभाग में जाने के लिए तैयारी कर रहे हैं। सरपंच ने आश्वासन ने दिया है कि एनओसी दी जाएगी। आवश्यक मद का मांगपत्र राजस्व विभाग में जमा किया जाएगा।

स्थानीय निवासी विकास सोनी के अनुसार युवक मैदान की मांग कर रहे हैं। यहां पर युवक योग, अभ्यास, पुलिस, आर्मी में भर्ती के लिए तैयारी कर रहे हैं। 70 से 80 युवक प्रतिदिन तैयारी करते हैं। यहां से 8 युवा आर्मी में सिलेक्ट हुए हैं। इससे और उत्साह बढ़ा है। इसलिए सुर्व सुविधायुक्त खेल मैदान का होना आवश्यक है।

सरपंच उमारानी सराफ बताती हैं कि गांव के बच्चों की मांग है कि जो खेल मैदान है उसे खेल मद में दर्ज कराया दिया जाए। युवाओं की इस मांग के संबंध में नायब तहसीलदार से चर्चा कर एनओसी आदि के लिए पहल की जाएगी। ताकि खिलाडिय़ों को हमेशा के लिए मैदान मिल सके।

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned