जिला अस्पताल में बेड फुल, फर्श पर लेटकर इलाज को विवश मरीज

कोविड-19 के लगातार बढ़ रहे संक्रमण के बीच चरमरा रही व्यवस्थाएं.

By: raghavendra chaturvedi

Updated: 14 Apr 2021, 10:17 AM IST

कटनी. कोरोना संक्रमितों की संख्या में लगातार हो रहे इजाफे के बाद अब जिला अस्पताल में बिस्तर कम पडऩे लगे हैं। 13 अप्रैल को कोविड-19 के संभावित मरीजों के वार्ड में कई मरीज बिस्तर नहीं मिलने के बाद फर्श पर लेटकर ही इलाज को विवश रहे।

जिला अस्पताल में आइसोलेशन वार्ड, ऑक्सीजन सपोर्टेड बेड और आइसीयू मिलाकर 128 बिस्तरों की क्षमता है। मंगलवार सुबह तक तो आइसोलेशन वार्ड और ऑक्सीजन सपोर्टेड बेड में क्रमश: 4 और 6 बेड खाली रहे, लेकिन शाम होते तक स्थिति ऐसी हुई कि 140 से ज्यादा मरीज भर्ती हो गए और एक भी खाली बेड उपलब्ध नहीं होने के बाद कई मरीजों को फर्श पर लेटना पड़ा।

मंगलवार सुबह 9 बजे तक यह रही स्थिति
वार्ड- क्षमता- मरीज- खाली
आइसोलेशन बेड- 39- 35- 4
ऑक्सीजन सपोर्टेड बेड- 79- 73- 6
आइसीयू, एचडीयू- 10- 10- 0
(जिला अस्पताल में कोविड वार्ड के चिकित्सकों ने बताया कि आंकड़े सुबह के हैं, शाम तक 140 से ज्यादा मरीज भर्ती रहे और कई मरीजों को बेड उपलब्ध नहीं हो सका। )

मरीजों की संख्या बढऩे के बाद अब यह तैयारी
- आक्सीजन की कमीं नहीं हो इसके लिए जितने बेड हैं, उतने ऑक्सीन की व्यवस्था सुनिश्चित हो।
- जिला अस्पताल में बिस्तर कम पडऩे के बाद निजी अस्पताल अधिग्रहित कर मरीजों को सुविधा दिलाना।
- जिला अस्पताल में मरीजों की स्थिति में सुधार होने के बाद मॉनीटरिंग के लिए कोविड-केयर सेंटर भेजा जाएगा। जिससे अस्पताल में गंभीर मरीजों को इलाज मिले।

- कलेक्टर प्रियंक मिश्रा बताते हैं कि माधवशाह चिकित्सालय और डॉ. दीपक सक्सेना अस्पताल में 50-50 बिस्तर की व्यवस्था कोविड-19 मरीजों के लिए की जाएगी। प्रशासन की पूरी कोशिश है कि मरीजों को बेहतर से बेहतर इलाज मिले और वे जल्द स्वस्थ हों।

Corona virus
raghavendra chaturvedi Bureau Incharge
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned