जानिए गेहूं खरीदी के अंतिम दो दिनों में किसानों के नाम कैसे हुआ करोड़ों का खेल

समर्थन मूल्य पर खरीदी: ऑनलाइन रिकार्ड में शो हो रहा केंद्र में गेहूं का स्टॉक, मौके पर नहीं मिल रहा एक दाना

By: raghavendra chaturvedi

Published: 07 Jun 2018, 10:40 AM IST

कटनी. गेहूं की सरकारी खरीदी में अंतिम दो दिनों के दौरान खरीदी केंद्रों में किसानों के नाम पर बड़ा फर्जीवाड़ा हुआ। खरीदी केंद्र प्रभारियों ने फर्जी तरीके से किसानों से गेहूं खरीदना बता दिया। ऑनलाइन रिकार्ड में भी इंट्री भी कर दी। 26 मई को गेहूं खरीदी समाप्त होने के बाद जब केंद्र से गेहूं का उठाव करने परिवहनकर्ता पहुंचे तो उन्हे केंद्र में गेहूं का एक दाना नहीं मिला। पूरा मामला कटनी कलेक्टर केवीएस चौधरी के संज्ञान में आया और जांच के निर्देश दिए। खरीदी केंद्र सलैया-पटोरी में 600 क्विंटल गेहूं का स्टॉक रिकार्ड में दर्ज है। जांच के दौरान यहां गेहूं नहीं मिला। जिलेभर के खरीदी केंद्रोंं से अभी 81 हजार 560 क्विंटल गेहूं का उठाव होना है। परिवहनकर्ता बता रहे हैं कि इसमें 50 हजार क्विंटल गेहूं केंद्र में नहीं है। यानी करीब 8 करोड़ रुपये का घोटाला। बतादें कि गेहूं खरीदी के दौरान केंद्र प्रभारी यह गड़बड़ी आसानी से दबा देते, अगर कलेक्टर ने पीडीएस के गेहूं सप्लाई पर रोक नहीं लगाई होती। कटनी कलेक्टर केवीएस चौधरी ने ६ मई को आदेश जारी कर राशन दुकानों में गरीब परिवारों को सप्लाई होने वाली गेहूं के परिवहन पर आगामी कुछ दिनों के लिए रोक लगा दी। इसके बाद से अब गेहूं खरीदी प्रभारियों की बेचैनी बढ़ गई है। दरअसल गेहूं खरीदी प्रभारी राशन दुकान से गरीब परिवारों को सप्लाई होने वाली इसी गेहूं को समर्थन मूल्य पर खरीदी बताकर वापस गोदाम भेजने की तैयारी में थे।

किसानों के घर ले गेहूं लाकर बचने का प्रयास
समर्थन मूल्य पर बोगस खरीदी के बाद अब खरीदी केंद्र प्रभारी किसानों के घर से उस गेहूं को केंद्र में ला रहे हैं, जिसे किसानों ने अपने सालभर के खाने के लिए रखा था। जानकारों का कहना है कि इस मामले में गुरुवार को सभी केंद्रों की स्केनिंग को जाए तो कई खरीदी केंद्र प्रभारियों की करतूत सामने आ जाएगी।

व्यापारी को दे दिया बारदाना
गेहूं खरीदी केंद्र सलैया-पटोरी में 6 सौ क्विंटल गेहूं अंतिम दिनों में खरीदी बताई गई। यहां औचक जांच के दौरान गेहूं का एक दाना नहीं मिला। खरीदी केंद्र प्रभारी कैलाश विश्वकर्मा ने बारदाने भी गांव के व्यापारी को दिया है। जिला आपूर्ति अधिकारी केपी श्रीवास्तव ने बताया कि सहायक आपूर्ति अधिकारी केपीएस भदौरिया द्वारा पूरे मामले की जांच की जा रही है।

इन केंद्रों में गड़बड़ी की आशंका
परिवहनकर्ता को रिकार्ड से कम गेहूं मिलने वाली खरीदी केंद्रों की संख्या जिलेभर में एक दर्जन से ज्यादा है। इसमें भजिया खरीदी केंद्र में 480 क्विंटल गेहूं का उठाव शेष है, लेकिन वहां गेहूं कम है। यही स्थिति विलायतकला, सिंगौड़ी, विजयराघवगढ़, बरही व खितौली सहित अन्य केंद्रों में हैं।

राशन का दुकान गेहूं मिलाने की थी साजिश
जानकारों का कहना है कि खरीदी केंद्र प्रभारी राशन दुकान में गरीब परिवारों के लिए सप्लाई होने वाली गेहूं को मिलाने की साजिश कर रहे थे। जिले से गेहूं का आबंटन हो जाने के बाद बुधवार से राशन दुकानों को भेजा जाना था। इसी गेहूं को खरीदी केंद्र प्रभारी समर्थन मूल्य पर खरीदी बताने वाले थे।

निरीक्षण दल की भूमिका भी सवालों में
जिले में बोगस गेहूं खरीदी रोकने के लिए कलेक्टर केवीएस चौधरी ने २५ मई को ही सभी केंद्र प्रभारियों को किसानों को टोकन देने कहा था। इसके साथ ही 26 मई को सभी केंद्र में खरीदी का जायजा लेने जिले के अधिकारियों का दल गठित किया था। ऐसे में गेहूं खरीदी की फर्जी आंकड़े फीड होने से निरीक्षण दल की भूमिका पर भी सवाल उठ रहे हैं। सलैया-पटोरी केंद्र का निरीक्षण के लिए कॉपरेटिव के गुप्ता और श्रम अधिकारी की ड्यूटी लगी थी।


पीडीएस गेहूं सप्लाई पर दो दिन की रोक
राशन दुकानों में सप्लाई होने वाली गेहूं की सप्लाई पर दो दिन के लिए रोक लगा दी है। राशन दुकानों में गेहूं तभी जाएगा जब वहां से समर्थन मूल्य पर खरीदी गई गेहूूं का उठाव कर गोदाम पहुंच जाएगा। कई खरीदी केंद्रों में बोगस खरीदी की जानकारी मिली है। हम पूरे मामले की जांच करवा रहे हैं। दोषियों पर कड़ी कार्रवाई होगी।
केवीएस चौधरी कलेक्टर

Patrika
raghavendra chaturvedi Bureau Incharge
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned