video: घर में रखा रहा शव और प्रशासन ने चलवा दिया बुलडोजर! हैरान कर देगा यह सच

कटनी के जिले के स्लीमनाबाद में जिला प्रशासन की कार्रवाई के बाद परिजनों ने लगाया आरोप.

कलेक्टर ने कहा शव नहीं दो दिन बाद तेरहवीं की दी थी जानकारी, अधिकारियों ने दिया था दो दिन की मोहलत.

By: raghavendra chaturvedi

Published: 03 Jan 2020, 12:44 PM IST

Katni, Katni, Madhya Pradesh, India

कटनी. ये वो गरीब है, जिनके मकान 28 दिसंबर को भूमाफियाओं के विरुद्ध कार्यवाही के नाम पर बुलडोजर चला कर जमीदोज कर दिए गए। ठिठुरन भरी ठंड में इन परिवारों को कटनी जिला प्रशासन ने पहले बेघर किया अब पेड़ के नीचे खुले आसमान में ये रात गुजार रहे हैं। इन लोंगो का हम हाल जानने पत्रिका की टीम पहुंची तो मुलाकात शकुन बाई चौधरी से हुई। उन्होंने जो बताया वह रौंगटे खड़े कर देने वाला सच था।

शकुन बाई ने आरोप लगाया कि जिस दिन प्रशासन घर तोडऩे पहुंचा था उस दिन उनकी सास का निधन हो गया था, शव घर पर ही रखा था। घर तोडऩे से मना करने के लिए बार-बार मिन्नते करते रहे बावजूद प्रशासन के अधिकारियों ने एक न सुनी। यहां कड़ाके की ठंड में परिवार के लोग पेड़ के नीचे आग जलाकर रात बिताते दिखाई दिए। सिर से छत तो टूट ही गई अब खाने के भी लाले पड़े हुए है, मासूम बच्चों की आंखे टकटकी लगाकर मदद का इंतजार कर रही है। प्रशासन ने बेघर किया लेकिन सामाजिक कार्यकर्ता, संगठन और राजनेता कोई भी इनके मदद में आगे नहीं आया। इस कार्रवाई के बाद माफिया दमन दल में प्रशासन की कार्रवाई में पक्षपात भी सामने आया।

28 दिसंबर को जब स्लीमनाबाद में घरौंदे तोड़े जा रहे थे, उसी दिन शहर में माधवनगर में पुनर्वास की जमीन पर अवैध रुप से बनी डर्बी होटल पर कार्रवाई करने पहुंचा माफिया दमन दल होटल तोडऩे के बजाए सीज कर ही लौट आया।

शकुन बाई ने आरोप लगाया कि उनकी सास का निधन हो गया था, घर पर शव रखा था और प्रशासन घर तोडऩे पहुंच गया। परेशानी बताई, कई बार मिन्नतें की, लेकिन प्रशासन के अधिकारियों ने एक न सुनी। घर का सभी समान तोड़ दिया। अब आम के पेड़ के नीचे रात कट रही है, पॉलीथीन लेने तक के पैसे नहीं है।
भूरा ने बताया कि वे और दूसरे परिवार के सदस्य बीस साल से यहां निवास कर रहे हैं। प्रशासन ने अचानक मकान तोड़ दिया। अब कुछ नहीं बचा। बारिश हो रही है, फिर भी खुले आसमान के नीचे गुजर बसर करने विवश हैं।
राकेश ने बताया कि इस तरह की ठंड में जब लोग घर के अंदर नहीं रह पा रहे हैं, तब यहां खुले आसमान में पेड़ के नीचे रहने विवश हैं।

बतादें कि कमलनाथ सरकार द्वारा भूमाफिया के खिलाफ चलाए जा रहे अभियान में कटनी जिला प्रशासन की कार्रवाई सवालों में है। कटनी में इस अभियान के दौरान हैरान करने वाली तस्वीरें सामने आई है। 28 दिसंबर को स्लीमनाबाद में अस्पताल की भूमि पर अतिक्रमण हटाने की कार्रवाई माफिया दमन दल ने की। इसमें 53 लोगोंं के घर तोड़े गए। पीडि़त परिवारों का कहना है कि वे मिन्नते करते रहे, लेकिन अधिकारियों ने उनकी एक न सुनी। घर पर शव रखा रहा और बुलडोजर चला दिया। इस पर कलेक्टर का कहना है कि शव नहीं दो दिन बाद तेरहवी की बात कही थी, अधिकारियों ने दो दिन का मोहलत दिया था।

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned