समय पर नहीं मिलती बस, किराया भी दोगुना

कोरोना संकट काल में बस से सफर हुआ मुश्किल, बस मालिकों को भी सता रहा नुकसान का डर.

By: raghavendra chaturvedi

Published: 15 Sep 2020, 10:32 AM IST

कटनी. बस मालिक एसोसिएशन और सरकार के बीच टैक्स माफी का मसला सुलझने के बाद भी बस से सफर के मामले में यात्रियों की परेशानी दूर नहीं हो रही है। एक ओर सरकार ने पूरी क्षमता से बस परिचालन की बात कही थी, दूसरी ओर महज 25 प्रतिशत बसें ही सड़कों पर दौड़ रहीं हैं। बस से सफर करने वाले यात्रियों ने बताया कि कई बसों में दोगुना किराया लिया जा रहा है। दूसरी ओर गंतव्य तक जाने के लिए बसस्टैंड में भी घंटो इंतजार करना पड़ रहा है।

बस स्टैंड में गांव जाने के लिए बस के इंतजार में बैठे यात्रियों ने बताया कि पहले कैमोर के लिए हर पांच मिनट में बस जाती थी, अब एक बस ही चलती है तो तीन फेरे लगाती है। बहोरीबंद के लिए 15 से ज्यादा बसें थी, लेकिन इस मार्ग के लिए वर्तमान में महज एक बस है। रीठी के लिए पहले इस से ज्यादा बसों की संख्या घटकर दो रह गई है। यही स्थिति पन्ना, जबलपुर, रीवा व दूसरे बड़ी शहरों तक जाने वाली बसों की है।

कटनी के बस मालिक एसोसिएशन के अध्यक्ष सत्यप्रकाश मिश्रा बताते हैं कि कई बस मालिक बस नहीं चला रहे हैं। कारण है कि डीजल का खर्चा नहीं निकल रहा है। 25 प्रतिशत बसें ही सड़कों पर दौड़ रही हैं। एक ओर कोरोना बढ़ रहा है, दूसरी ओर न्यायालय, स्कूल व अन्य व्यापारिक प्रतिष्ठानों के बंद होने के कारण भी बस में यात्री नहीं मिल रहे हैं।

Corona virus
raghavendra chaturvedi Bureau Incharge
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned