अस्पताल में आधी रात ऑक्सीजन सिलेंडर के लिए मची अफरा-तफरी

सिंगरौली से कटनी पहुंचा ट्रक तो परिजन स्वयं ही ले गए सिलेंडर, सुबह स्टोरकीपर ने बताया कि 28 सिलेंडर का पता नहीं.

By: raghavendra chaturvedi

Published: 19 Apr 2021, 08:53 PM IST

Katni, Katni, Madhya Pradesh, India

कटनी. सांसों की टूटती डोर को थामने के लिए मरीजों के परिजनों ने शनिवार देररात जिला अस्पताल में जमकर हंगामा मचाया। कई मरीजों को जरूरत के बाद भी ऑक्सीजन सिलेंडर नहीं मिलने पर परिजन परेशान रहे। इस दौरान जनप्रतिनिधियों की उदासीनता पर भी गुस्सा दिखा।

जिला अस्पताल में शनिवार की आधी रात परिजन ऑक्सीजन सिलेंडर के लिए भटक रहे थे तभी सिंगरौली से 50 सिलेंडर लेकर एक ट्रक जिला अस्पताल पहुंचा। परिजन अपनों की सांसों की टूटती डोर को थामने के लिए सिलेंडर स्वयं ही ले गए। सुबह स्टोर कीपर ओंकार ने बताया कि 50 सिलेंडर में 28 लापता है।

जिला अस्पताल में रविवार को स्थिति यह रही यहां रात दस बजे तक का ही ऑक्सीजन सिलेंडर उपलब्ध रहा। खासबात यह है कि रात 10 बजे के बाद मरीजों के लिए क्या व्यवस्था की गई है, इस बारे में जानकारी देने से जिम्मेदार बचते रहे। कोविड-19 के गंभीर मरीजों की संख्या में इजाफा और ऑक्सीजन सिलेंडर की मारामारी के बीच रविवार को कटनी शहर निजी डीलर के दुकान में भी ऑक्सीजन सिलेंडर के लिए परिजनों की कतार लगी रही। लोगों ने कहा एक सिलेंडर भी मिल जाए तो अपनों की जान बचा लें।

गांधीगंज निवासी प्रेम गुप्ता ने बताया कि उनके चाचा कैलाश गुप्ता कोरोना संक्रमण लकवाग्रस्त होने के बाद जिला चिकित्साल में ऑक्सीजन के लिए परेशान रहे। वहीं एनकेजे निवासी जितेंद्र धुर्वे ने बताया कि गंभीर हालत में जिला अस्पताल पहुंचने के बाद ऑक्सीजन नहीं मिलने से परेशानी और बढ़ गई है।

ऑक्सीजन सिलेंडर पर लगा इमरजेंसी कानून
कलेक्टर प्रियंक मिश्रा ने जिले के सभी ऑक्सीजन सिलेंडर उद्योग और गैर उद्योग में उपयोग में लाए जाने सहित अन्य पर इंमरजेंसी कानून लगा दिया। रविवार रात आदेश जारी कर कलेक्टर ने सभी संबंधितों को निर्देश दिए कि वे अपने पास उपलब्ध ऑक्सीजन सिलेंडर की जानकारी नोडल अधिकारी अनिल जैन को मोबाइल नंबर 9098476121 पर दें। सिलेंडरों को कटनी से बाहर भेजना भी प्रतिबंधित कर दिया गया है।

Corona virus
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned