वाणिज्यकर अधिकारी के पत्र से मचा बवाल, जानिए क्यों

पेट्रोल पंप संचालन के मामले में वाणिज्यकर अधिकारी के पत्र से बवाल मच गया है, अधिकारी और संचालक के बीच विवाद की भी चर्चा

कटनी. कटनी वृत एक के वाणिज्यकर अधिकारी मनीष महारणवर के द्वारा कलेक्टर व सहायक आयुक्त वाणिज्य कर के नाम लिखे गए पत्र से हड़कंप मच गया है। इस पत्र में एक पेट्रोल पंप मालिक द्वारा कार्यालय में घुसकर धमकी की बात कही गई है। बताया गया कि पेट्रोल पंप संचालक द्वारा भवन से कूदकर आत्महत्या कर लेने और कार्य में बाधा पहुंचाने की बात कही गई। हालांकि पेट्रोल पंप मालिक ने इस तरह की किसी भी घटना से इंकार किया है।

इस पूरे मामले को लेकर 22 जनवरी को आरटीआइ से सार्वजनिक हुए पत्र में वाणिज्यकर अधिकारी मनीष महारणवर ने कहा है कि 26 नवंबर 2019 की दोपहर पंप मालिक नीलेश चौदहा कार्यालय पहुंचे और पंप के मामले में सूचना के अधिकार अधिनियम के तहत आवेदक को आपत्ति के बाद भी जानकारी देने पर कार्यालय भवन से कूदकर जान देने और कक्ष के सामने जहर खाकर कागज में वाणिज्यकर अधिकारी को दोषी बताने की धमकी दी है।

दूसरी ओर इस पूरे मामले को लेकर पेट्रोल पंप संचालक नीलेश चौदहा का कहना है कि इस तरह की कोई भी बात उनके द्वारा वाणिज्यकर अधिकारी से नहीं कही गई है। बताया जा रहा है कि पेट्रोल पंप संचालन के दौरान वित्तीय मामलों से यह विवाद जुड़ा है। इसमें पेट्रोल पंप संचालक और वाणिज्य कर अधिकारी दोनों की भूमिका सवालों में है।

raghavendra chaturvedi Bureau Incharge
और पढ़े

MP/CG लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned