सीएम तक पहुंची शिकायत, स्थानीय प्रशासन की चुप्पी पर उठ रहे सवाल

- प्रशासन ने ग्रीनरी के नाम पर ढहाया गरीबों के आशियाने, भू-माफिया ने तान दिया सीट का भवन.

- लाल पहाड़ी पर भाजपा कार्यालय के लिए शासकीय जमीन हुआ था स्वीकृत, समीप में ही निजी जमीन बताकर हो रहा निर्माण.

 

By: raghavendra chaturvedi

Published: 06 Jul 2020, 03:45 PM IST

कटनी. लाल पहाड़ी पर 25 जून को एसडीएम, तहसीलदार, नगर निगम के इंजीनियर और सीएसपी ने खड़े होकर जिस स्थान पर गरीबों के आशियाने पर बुलडोजर चलवाए थे, वहां पर अब भू-माफिया ने सीट के कमरे का भवन खड़ा कर दिया है। नागरिकों ने बताया कि जिस स्थान पर यह मनमानी चल रही है वह लाल पहाड़ी बरगवां स्थित मुख्य मार्ग पर है। यहां से चौबीसो घंटे कलेक्टर, एसडीएम सहित अन्य अफसरों की आवाजाही रहती है। अफसरों को शिकायत के बाद भी कार्रवाई नहीं की जा रही है।

इधर इस पूरे मामले की शिकायत मुख्यमंत्री तक पहुंच गई है। स्थानीय नागरिक राजेश नायक सौरभ ने आरोप लगाया है कि पुराना नगर सुधार न्यास कार्यालय बरगवां के बगल में जिला प्रशासन एवं नगर निगम द्वारा सौदन्र्यीकरण के नाम पर गरीब फुटपाथी परिवारों को बेदखल कर सडक पर ला दिया गया है। अतिक्रमण हटाने के नाम पर कार्रवाई के बाद अब टीन शेड की अस्थाई दुकान बनाकर स्थाई रूप से कब्जा करवाया गया है। उन्होंने बताया कि 1940 से पहले के दस्तावेजों में जमीन शासकीय दर्ज बताई जा रही है। इसी भूमि के बगल से भारतीय जनता पार्टी जिला कटनी को कार्यालय निर्माण के लिए मध्यप्रदेश शासन द्वारा भूमि आबंटित की गई। इसके बाद भी समीप में खुलेआम कब्जा हो रहा है।

खासबात यह है कि इस पूरे मामले में एसडीएम व अन्य अधिकारी भी कार्रवाई से बच रहे हैं। एसडीएम बलबीर रमण 29 जून को मौके पर पहुंचकर निरीक्षण कर कार्रवाई की बात कही थी, लेकिन सात दिन बाद भी वे नहीं पहुंचे और कार्रवाई नहीं की गई। नागरिकों का आरोप है कि प्रशासन द्वारा भू-माफिया को कब्जा करने के लिए समय दिया जा रहा है।

raghavendra chaturvedi Bureau Incharge
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned