विपदा में विश्वास, जिला अस्पताल में बड़ी संख्या में पहुंचे प्रसुता

जिला अस्पताल आने वालीं प्रसुताओं के मामले में नार्मल डिलवरी पर रहा फोकस, सीजर हुआ कम.

By: raghavendra chaturvedi

Published: 24 Sep 2020, 11:24 PM IST

कटनी. कोरोना के लगातार बढ़ते संक्रमण और लॉकडाउन व अनलॉक के बीच जब ज्यादातर लोग घरों से निकलना मुनासिफ नहीं समझ रहे थे, उस समय पर भी जिला अस्पताल में प्रसव को लेकर प्रसुताओं का विश्वास कम नहीं हुआ। जनवरी से अगस्त के बीच आठ माह में कोरोना वायरस संक्रमण का प्रभाव नहीं रहने और कम्यूनिटी ट्रांसमिशन जैसी स्थितियां निर्मित होने के बीच भी जिला अस्पताल में प्रसव के लिए आने वाले प्रसुताओं की संख्या बराबर बनी रही। इस बीच अस्पताल में चिकित्सक से लेकर नर्स और अन्य स्टॉफ लगातार ड्यूटी में रहे। यहां प्रसव के लिए आने वाले ज्यादा से ज्यादा प्रसुताओं का सामान्य प्रसव हुआ।

सिविल सर्जन डॉ. यशवंत वर्मा बताते हैं कि जिला अस्पताल में प्रसव और महिलाओं से जुड़ी बीमारियों के लिए चार अनुभवी महिला चिकित्सक हैं, जो चौबीसों घंटे सेवा में डटे रहते हैं। कुछ चिकित्सक तो कोरोना पॉजिटिव भी हो गए, लेकिन ठीक होते ही सेवा में जुट गए। नर्स और दूसरे स्टॉफ भी अनुभवी है। हाई रिस्क लेने में पीछे नहीं हटते। पूरी कोशिश होती है कि प्रसव सामान्य हो और ऑपरेशन की जरूरत पडऩे पर मना भी नहीं किया जाता। यही कारण है कि लोगों का विश्वास जिला अस्पताल पर बना हुआ है।

जिला अस्पताल में बीते आठ माह में हुए प्रसव पर नजर डालें तो कुल पसुता, सामान्य और सीजर के आंकड़े क्रमश: जनवरी में 449, 385 और 64, फरवरी 419, 350, 69, मार्च में 366, 312, 54, अप्रैल में 326, 263, 63 मई में 262, 210, 52 जून 313, 246 व 67 जुलाई 328, 259 व 69 और अगस्त माह में 405, 332 व 73 रही।

raghavendra chaturvedi Bureau Incharge
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned