कोरोना संकटकाल में रेत खनन बेलगाम, माफिया कर रहा नदी का सीना छलनी

पर्यावरण मानकों की अनदेखी, पानी के अंदर से रेत खनन, ताक पर पीसीबी से जारी गाइडलाइन.

By: raghavendra chaturvedi

Updated: 21 Apr 2021, 10:39 AM IST

Katni, Katni, Madhya Pradesh, India

कटनी. बड़वारा थानाक्षेत्र के उमड़ेर नदी स्थित लोहरवारा घाट में रेत खनन के दौरान मनमानी की तस्वीरें मंगलवार को सामने आई। ग्रामीणों ने बताया कि कोरोना संकट काल में जब लोग कोविड-19 संक्रमण से अपनी जान बचाने की जद्दोजहद कर रहे हैं, तब रेत खनन में अवसर की तलाश में लोग जुटे हैं। यहां खुलेआम नदी का सीना छलनी कर पानी के अंदर से जेसीबी मशीन लगाकर रेत खनन किया जा रहा है। जिम्मेदारों की बेपरवाही से बेलगाम रेत खनन जारी है।

रेत खनन के दौरान मनमानी का आलम यह है कि नदियों में न तो खनन में गहराई की जांच हो रही ना ही भंडारण की तस्दीक की जा रही है। ग्रामीणों ने बताया कि यहां खनिज निरीक्षक जांच करने नहीं आते हैं। इस कारण भी रेत माफिया का हौसला बढ़ रहा है। रेत खनन के दौरान रात में ज्यादा मनमानी हो रही है। स्थानीयजनों ने बताया कि रेत घाट में रात भर मशीनें चलने की आवाजें आती है। सुबह मशीन को नदी से निकालकर नियत स्थान पर कहीं दूर खड़ी कर दी जाती है।

पर्यावरण मानको को ताक पर रखकर खनन और पानी के अंदर से रेत निकाले जाने मामले में प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड (पीसीबी) आरओ एसपी झा ने बताया कि टीम भेजकर जांच करवाएंगे। खनन में गड़बड़ी मिलती है तो कार्रवाई की जाएगी।

प्रभारी खनिज अधिकारी संतोष सिंह बताते हैं कि रेत खनन के दौरान नियमों का पालन नहीं हो रहा है तो कार्रवाई की जाएगी। खनिज निरीक्षकों को निर्देश दिए गए हैं। पता करवाते हैं। मनमानी पर ठोस कार्रवाई की जाएगी।

Show More
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned