महज 85 पैसे के चलते इस शहर में बंद होने की कगार पर हैं दाल मिलें

महज 85 पैसे के चलते इस शहर में बंद होने की कगार पर हैं दाल मिलें
Tuvar dal

Sudhir Shrivas | Updated: 12 Oct 2019, 11:49:05 PM (IST) Katni, Katni, Madhya Pradesh, India

कच्चे माल की जगह दाल मंगवाने से दूसरे प्रदेश की बंद मिले हुईं चालू
एक साल पहले मिली छूट 2 माह से बंद

कटनी। दाल बनाने के लिए दूसरे राज्यों से मंगवाए जा रहे कच्चे माल में लगने वाले प्रतिकिलो 85 पैसे के मंडी टैक्स ने कटनी के दाल मिल मालिकों की कमर तोड़ दी है। यहां की दाल की बंगाल और बिहार सहित अन्य राज्यों में मांग अधिक है। इन राज्यों में छत्तीसगढ़ व महाराष्ट्र के दाल मिल मालिक मंडी टैक्स छूट का लाभ लेते हुए कम कीमत में दाल उपलब्ध करा रहे हैं।
नतीजतन बाजार की प्रतिस्पर्धा में कटनी के मिलर नहीं टिक पाने के कारण यहां की मिलें या तो लगातार बंद होती जा रही हैं या फिर कर्ज लेकर इकाई चलाने वाले मिल मालिकों की मुश्किलें बढ़ रही हैं। दूसरी ओर तुअर व दाल के लिए दूसरे राज्य से कच्चे माल की जगह सिर्फ दाल मंगवाने पर टैक्स नहीं लगने से यहां दाल डीलरों की संख्या बढ़ गई है। दाल मंगवाने वाले डीलरों की संख्या बढऩे से महाराष्ट्र के हिंगनघाट में बंद पड़ी इकाइयां भी चालू हो रही हैं। कटनी में दाल मिल बंद होने से सीधे तौर पर उन सैकड़ों परिवारों को आर्थिक संकट का सामना करना पड़ रहा है, जिन परिवारों के लोग इन मिलों में काम करते थे।
दाल के लिए दूसरे राज्यों से आयात होने वाले कच्चे माल में मंडी टैक्स मध्यप्रदेश में ही लग रहा है। 1994 से अब तक 35 साल के दौरान मंडी टैक्स में छूट के लिए 11 बार आदेश जारी किया गया। कई बार पंाच साल के लिए तो कई बार तीन साल और तीन महीने के लिए। जनवरी 2017 में छूट की अवधि समाप्त हुई तो 20 माह तक छूट नहीं मिली। विधानसभा चुनाव से पहले राज्य सरकार ने मंडी टैक्स में एक साल के लिए छूट दी। यह अवधि अगस्त 2019 में समाप्त हुई तो मिल मालिकों के तमाम प्रयास के बाद छूट का आदेश जारी नहीं हुआ।

मिल मालिकों ने कहा अजब है सरकार की नीति

कटनी दाल मिल एसोसिएशन के पदाधिकारी कहते हैं कि प्रदेश सरकार की नीति भी अजब है। यहां कच्चा माल मंगवाने पर टैक्स लगाया जा रहा है। कच्चे माल से दाल बनाने में लोगों के लिए रोजगार के अवसर बढ़ते हैं। दूसरी ओर दाल मंगवाने पर कोई टैक्स नहीं लग रहा है, जिससे दूसरे राज्य के दाल मिल फल-फूल रहे हैं।

इनका कहना है -दाल के लिए कच्चा माल मंगवाने पर मंडी टैक्स में छूट के लिए सरकार से आश्वासन मिला है, उम्मींद है कि छूट का आदेश जल्द आएगा। दो माह में दो मिल मालिकों ने मिल बंद कर एसोसिएशन की सूची से नाम कटवाया है। - झम्मटमल ठारवानी, अध्यक्ष माधवनगर उद्योग संघ

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned