scriptdhaankharidi ghotala | 8 करोड़ रुपए के धान खरीदी घोटाले में पहली छापेमारी के 26 दिन बाद भी पकड़ से बाहर 14 समिति | Patrika News

8 करोड़ रुपए के धान खरीदी घोटाले में पहली छापेमारी के 26 दिन बाद भी पकड़ से बाहर 14 समिति

कागजों में धान खरीदी बताकर समितियों ने मिलर्स को सप्लाई करना बताया, बड़े घोटाले में कार्रवाई को लेकर उच्चाधिकारियों की बेपरवाही आई सामने.

कटनी

Updated: March 04, 2022 03:37:05 pm

कटनी. बिना धान के कागजों में 8 करोड़ 31 लाख रुपए से ज्यादा की धान खरीदी घोटाले में सभी दोषियों तक पहुंचने में उच्चाधिकारियों की उदासीनता एक बार फिर सामने आई है। इस मामले में पहली छापामार कार्रवाई 5 फरवरी को हुई थी। और इस कार्रवाई के 26 दिन बाद भी 14 समितियों पर कार्रवाई नहीं हो सकी। बतादें कि घोटाले को अंजाम तक पहुंचाने में समितियों की बड़ी भूमिका रही है। समितियों के कर्ता-धर्ताओं ने बिना धान के धान खरीदी बताकर उसे सात मिलर्स तक सप्लाई करना बता दिया था। और जब जांच टीम मिल पहुंची तो कहीं धान नहीं भी धान नहीं मिली। इस मामले में 6 मिलर्स पर एफआइआर दर्ज करवाई गई है।

dhaankharidi ghotala
धान खरीदी के दौरान बोरे में लगाई जाने वाली टैग.,धान खरीदी के दौरान बोरे में लगाई जाने वाली टैग.,धान खरीदी घोटाला.

उबरा समिति के कर्मचारियों पर एफआइआर, 14 को भूले-
जांच टीम ने 8 करोड़ रुपए के धान खरीदी घोटाले में धान खरीदी केंद्र उबरा के दो कर्मचारियों पर तो एफआइआर दर्ज करवा दी, लेकिन 14 समितियों पर कार्रवाई करना भूल गए।

इन समितियों की भूमिका की होनी है जांच -
उबरा, पिपरियाकला, धरवारा, बचैया, हदरहटा, सिंगोड़ी, हथियागढ़, सिहुड़ी, बगैहा, सलैया कोठारी, विजयराघवगढ़, करेला, नन्हवारा अमेहटा, बरही व बड़वारा समिति की भूमिका की जांच होनी है। इस मामले में उबरा समिति पर एफआइआर दर्ज हुई है।

ऐसे दिया घोटाले को अंजाम -
धान खरीदी केंद्र से 3 फरवरी को जारी धान डिलेवरी आर्डर में 4286.7 मिट्रिक टन धान का परिवहन कर 7 मिलर्स (गुरूनानक इंडस्ट्रीज, जय श्रीकृष्णा इंडस्ट्रीज, प्रगति राइस मिल, रोहरा इंडस्ट्रीज, सियाराम इंडस्ट्रीज, सुमन सत्य नारायण व वरुण इंडस्ट्रीज) को भेजना बताया गया। मिलर्स ने धान प्राप्त करना स्वीकार कर लिया और नान से भुगतान की प्रक्रिया प्रारंभ हुई। बड़ी बात यह है कि 8 करोड़ 31 लाख रुपए के डीओ जारी होने के इस मामले में भौतिक रूप पर धान कहीं नहीं था और सीधे तौर पर सरकारी खजाने पर डाका डालने जैसा कृत्य किया गया।

इन मिलर्स की हुई थी जांच -
गुरूनानक इंडस्ट्रीज
जय श्रीकृष्ण इंडस्ट्रीज
प्रगति राइस मिल
रोहरा इंडस्ट्रीज
सियाराम इंडस्ट्रीज
सुमन सत्य नारायण
वरुण इंडस्ट्रीज

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

17 जनवरी 2023 तक 4 राशियों पर रहेगी 'शनि' की कृपा दृष्टि, जानें क्या मिलेगा लाभज्योतिष अनुसार घर में इस यंत्र को लगाने से व्यापार-नौकरी में जबरदस्त तरक्की मिलने की है मान्यतासूर्य-मंगल बैक-टू-बैक बदलेंगे राशि, जानें किन राशि वालों की होगी चांदी ही चांदीससुराल को स्वर्ग बनाकर रखती हैं इन 3 नाम वाली लड़कियां, मां लक्ष्मी का मानी जाती हैं रूपबंद हो गए 1, 2, 5 और 10 रुपए के सिक्के, लोग परेशान, अब क्या करें'दिलजले' के लिए अजय देवगन नहीं ये थे पहली पसंद, एक्टर ने दाढ़ी कटवाने की शर्त पर छोड़ी थी फिल्ममेष से मीन तक ये 4 राशियां होती हैं सबसे भाग्यशाली, जानें इनके बारे में खास बातेंरत्न ज्योतिष: इस लग्न या राशि के लोगों के लिए वरदान साबित होता है मोती रत्न, चमक उठती है किस्मत

बड़ी खबरें

दिल्ली में जारी आग का तांडव! मुंडका के बाद नरेला की चप्पल फैक्ट्री में लगी भीषण आग, मौके पर पहुंची 9 दमकल गाडि़यांबॉर्डर पर चीन की नई चाल, अरुणाचल सीमा पर तेजी से बुनियादी ढांचा बढ़ा रहा चीनSri Lanka में अब तक का सबसे बड़ा संकट, केवल एक दिन का बचा है पेट्रोलIAS अधिकारी ने भारत की थॉमस कप जीत पर मच्छर रोधी रैकेट की शेयर की तस्वीर, क्रिकेटर ने लगाई फटकार - 'ये तो है सरासर अपमान'ताजमहल के बंद 22 कमरों का खुल गया सीक्रेट, ASI ने फोटो जारी करते हुए बताई गंभीर बातेंकर्नाटक: हथियारों के साथ बजरंग दल कार्यकर्ताओं के ट्रेनिंग कैम्प की फोटोज वायरल, कांग्रेस ने उठाए सवालPM Modi Nepal Visit : नेपाल के बिना हमारे राम भी अधूरे हैं, नेपाल दौरे पर बोले पीएम मोदीमहबूबा मुफ्ती ने कहा इनको मस्जिद में ही मिलता है भगवान
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.