कहीं बीमार न कर दे हैंडपंप, ट्यूबवेलों का पानी

कहीं बीमार न कर दे हैंडपंप, ट्यूबवेलों का पानी
पीएचई कार्यालय।

Dharmendra Pandey | Updated: 11 Jul 2019, 11:40:55 AM (IST) Katni, Katni, Madhya Pradesh, India

10 हजार हैंडपंप व 290 ट्यूबवेलों में नहीं डाली गईं दवाई, बारिश में संक्रमण का खतरा

-पीएचई विभाग के जिम्मेदारों की लापरवाही, डायरिया, पीलिया जैसी गंभीर बीमारियों का शिकार हो सकते हैं ग्रामीण

 

कटनी. जिले के 10 हजार हैंडपंप व ग्राम पंचायतों के 290 ट्यूबवेलों में पीएचई विभाग के जिम्मेदारों ने बारिश पूर्व संक्रमण से बचाव के लिए दवाई डालने का काम अभी तक नहीं कराया है। जिससे डायरिया, पीलिया जैसी गंभीर बीमारियों का खतरा ग्रामीणों पर मंडरा रहा है। जिले में मानसून पूरी तरह से सक्रिय हो गया है। बरसात का पानी रिसकर हैंडपंप, ट्यूबवेल व कुओं में पहुंच रहा है। उसी पानी को ग्रामीणों द्वारा पीने में उपयोग किया जा रहा है। इससे संक्रमण का खतरा बढ़ गया है। बारिश शुरू होते ही पीएचई विभाग द्वारा हैंडपंप, ट़्यूबवेलों व कुआं में दवाइयां डलवाने का काम शुरू कराया जाता हैं, लेकिन जिले में अब तक क्लोरीनेशन का काम शुरू नहीं हो पाया हैं।

डॉक्टर में पढ़ाई का ऐसा जुनून कि उम्र के अंतिम पड़ाव में कर डाली आठ विषयों से मास्टर डिग्री, देखें वीडियोhttps://www.patrika.com/katni-news/at-the-age-of-76-the-doctor-made-a-master-s-degree-from-eight-subject-4817201/

 

पांच दिन से रखा दवाओं का स्टॉक
बरसात के पानी के उपयोग से होने वाली बीमारियों से लोगों को बचाने के लिए कलेक्टर ने पीएचई अमले को क्लोरीनेशन का काम पूरा करने के निर्देश दिए थे। विभाग के पास दवाएं आ गई हैं और पिछले पांच दिन से स्टॉक रखा हुआ लेकिन उसके बाद भी काम प्रारंभ नहीं हो सका है।

-बारिश के दौरान हैंडपंपों व नलजल योजना के तहत हुए ट्यूबवेलों मेंं दवाई डालने का निर्देश दिया गया है। मैकेनिक की कमीं की वजह से लेट लतीफी हो रही है। जल्द ही दवाई डलवाने का काम पूरा कराया जाएगा।
ईएस बघेल, कार्यपालन यंत्री, पीएचइ

-बारिश के मौसम में अधिकांश लोग पीलिया, हैजा, टाइफाइड, डेंगू सहित अन्य कई प्रकार की बीमारियों का शिकार होते है। पीलिया व हैजा की बीमारी दूषित पानी पीने से होती है।
डॉ. संजय निगम, चिकित्सक।

 

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned