दो सौ परिवारों को सुविधा युक्त मकान के सपने पर बिल्डर ने फेरा पानी

रहवासियों का आरोप, बिजली, नाली सड़क के पैसे लेकर मेसर्स शुभ बिल्डर्स विकास गुप्ता ने नहीं करवाया काम.

- 2019 में कलेक्टर के निर्देश पर डेढ़ साल में नगर निगम के अफसरों ने भी नहीं की कार्रवाई.

By: raghavendra chaturvedi

Published: 22 Jul 2021, 11:12 AM IST

कटनी. मेसर्स शुभ बिल्डर्स विकास गुप्ता कटनी ने माधवनगर में शुभसिटी कॉलोनी निर्माण में दो सौ परिवारों को सुविधायुक्त घर के सपने पर पानी फेर दिया। कॉलोनी के रहवासियों का आरोप है कि मकान बेचने के दौरान सड़क, बिजली और नाली निर्माण के एवज में पैसे लेने के बाद भी बिल्डर ने सुविधाएं मुहैया नहीं करवाई।

बुधवार को एसडीएम बलबीर रमण, नगर निगम आयुक्त सत्येंद्र धाकरे, तहसीलदार संदीप श्रीवास्तव के साथ राजस्व और नगर निगम के अन्य अधिकारी शुभसिटी कॉलोनी पहुंचे। सुविधायुक्त मकान के नाम पर लाखों रुपए देकर परेशानी झेल रहे परिवारों से बात की।

एसडीएम ने बताया कि बिल्डर विकास गुप्ता ने नागरिकों को जरुरी सुविधाएं मुहैया कराने में लगातार लापरवाही बरती है। बुधवार को भी मौके पर उपस्थित होने कहा, लेकिन बाहर जाने की बात कहकर नहीं आया। फिलहाल नगर निगम बंधक जमीन बेचकर यहां रह रहे लोगों के लिए मूलभूत सुविधाएं मुहैया करवाएगी। बाद में बिल्डर द्वारा की गई धोखाधड़ी पर कानूनी कार्रवाई की जाएगी।

खासबात यह है कि बिल्डर की मनमानी पर कार्रवाई के लिए 2019 में तत्कॉलीन कलेक्टर एसबी सिंह ने नगर निगम को कार्रवाई के निर्देश थे। कलेक्टर के इस निर्देश नगर निगम के अधिकारियों ने डेढ़ साल में ठोस कार्रवाई नहीं की।
एसडीएम बलबीर रमण ने बताया कि शुभसिटी कॉलोनी में 2 सौ परिवार बिल्डर विकास गुप्ता द्वारा बिजली, सड़क व नाली जैसे मूलभूत कार्य नहीं करवाए जाने से परेशान हैं। बुधवार को कॉलोनी का निरीक्षण किया गया। नगर निगम अब 20 बंधक प्लॉट बेचकर जरुरी निर्माण कार्य करवाएगी। बाद में रहवासियों से की गई धोखाधड़ी के मामले में बिल्डर विकास गुप्ता के खिलाफ एफआइआर दर्ज करवाई जाएगी।

मकान बेचकर करोड़ों रुपए लेने के बाद बिल्डर ने नहीं करवाए ये काम
- कॉलोनी में सबसे ज्यादा बिजली की समस्या है। अस्थाई कनेक्शन के भरोसे सैकड़ों परिवार लो वोल्टेज की समस्या से जूझ रहे हैं। 10 ट्रांसफार्मर लगवाने की बात कहकर मुश्किल से 3 लगाए, वो भी सही नहीं चल रहे।
- सड़क निर्माण, नाली निर्माण, जल प्रदाय, उद्यान, मल प्रवाह प्रणाली, छोटे पुलिया व नाला निर्माण के साथ ही आरसीसी ओव्हर हेड टैंक का निर्माण कार्य जरुरत अनुसार नहीं किया गया।
- 2012 से अबतक 80 प्रतिशत भवन, भूखण्डों का विक्रय बिलडर कर चुका है। कॉलोनी निर्माण के लिए नगर निगम से अनुबंध शर्तों का उलंघन करने पर नगर निगम की कार्रवाई नोटिस जारी करने तक ही सीमित रही।

raghavendra chaturvedi Bureau Incharge
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned