अफसरों की बेपरवाही से 108 करोड़ के सीवर लाइन प्रोजेक्ट में मुसीबतों का पहाड़

सीवर लाइन निर्माण में बेपरवाही का साया, नागरिकों की परेशानी पर नोटिस तक सीमित नगर निगम की कार्रवाई.

- सीवर लाइन निर्माण में सुविधाओं की अनदेखी, मॉडल सड़क किनारे कीचड़ और जलभराव.

By: raghavendra chaturvedi

Published: 29 Jul 2021, 11:39 AM IST

कटनी. सीवर लाइन निर्माण के दौरान जनसुविधाओं की अनदेखी लगातार नागरिकों की मुसीबतें बढ़ा रही है। बसस्टैंड से पन्ना मोड के बीच मॉडल सड़क किनारे आलम यह है कि कीचड़ और कई स्थानों पर जलभराव के कारण लोगों का सड़क तक पहुंचना मुश्किल हो जा रहा है। शहर के नागरिक सीवर लाइन निर्माण के दौरान एजेंसी व ठेकेदार की बेपरवाही से परेशान हैं। खासबात यह है कि इस मामले में नगर निगम की कार्रवाई नोटिस देने तक ही सीमित होकर रह गया है।

इस बारे में नगर निगम आयुक्त सत्येंद्र धाकरे बताते हैं कि काम की गति बढ़ाने के लिए सीवर लाइन ठेकेदार को नोटिस दिया गया है। काम की गति आशानुरुप नहीं होने पर टर्मिनेशन तक का नोटिस दिया गया है। लगातार मॉनीटरिंग की जा रही है।

2020 में पूरा होने वाले प्रोजेक्ट में एक साल का विलंब, काम फिर भी 35 प्रतिशत-
सीवर लाइन निर्माण में लापरवाही का अंदाजा इसी से लगाया जा सकता है कि 108 करोड़ रुपए के इस प्रोजेक्ट के 2018 में शुरू होने के बाद 2020 में समाप्त हो जानी थी। इधर, एक साल विलंब के बाद भी महज 35 प्रतिशत काम ही हुआ है।

गति बढ़ाने अलग से एजेंसी, फिर भी परेशान नागरिक-
प्रदेश सरकार ने बड़ा प्रोजेक्ट होने के कारण काम की गति बढ़ाने अलग से एजेंसी नियुक्त की है। प्रोजेक्ट डेव्हलपमेंट मॉनीटरिंग कंसलटेंट (पीडीएमसी) की नियुक्ति
के बाद एजेंसी को इस बात की ही राशि दी जाती है कि काम के दौरान गुणवत्ता और गति बनी रहे। नागरिकों को परेशानी नहीं हो। इसके बाद भी शहर में सीवर लाइन प्रोजेक्ट से समस्या कम नहीं हो रही है।

raghavendra chaturvedi Bureau Incharge
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned