ड्यूटी को ड्यूटी समझा बन गए मिशाल

28 साल की शासकीय नौकरी, 20 बार मिला श्रेष्ठ कर्मचारी अवार्ड

By: raghavendra chaturvedi

Published: 26 Jan 2018, 08:25 PM IST

राघवेंद्र चतुर्वेदी.कटनी
रेलवे स्टेशन पर कड़कड़ाती ठंड से परेशान वृद्धा की खबर 22 दिसंबर 2017 की सुबह पढ़ते ही दीपक सिंह रेलवे स्टेशन पहुंच गए। व्हील चेयर का इंतजाम कर अस्पताल में भर्ती कराया। वृद्धा हिंदी नहीं जानती थी। द्विभाषिय का इंतजाम किया। पता चला वृद्धा नाम पार्वती है, हैदराबाद ओपली में ट्रेन में बैठाकर परिजन कहीं चले गए। वृद्धा कटनी पहुंच गई। बुखार से पीडि़त वृद्धा का अस्पताल में इलाज शुरु हो गया।१६ जनवरी को उन्हे एनकेजे में रहने वाले शिवम् की परेशानी पता चली। फौरन घर पहुंच गए। माँ ने बताया 13 साल से बेटा बिस्तर पर है, 16 माह से पेंशन नहीं मिली। दीपक वापस ऑफिस पहुंचे प्रमाण-पत्र बनवाई, कलेक्टर से दस्तखत करवाया और उसी दिन शिवम् को पेंशन मिला। अगले दिन वे सीपी चेयर लेकर शिवम के घर देने पहुंचे। माँ ने कहा ऐसा सरकारी कर्मचारी जीवन में नहीं देखा। अब बेटे को कुर्सी में बैठाकर बाहर की दुनिया दिखा सकूंगी। इतना ही नहीं शास्त्री कॉलोनी निवासी मंजू गुप्ता बेटे शिवा पोलियो से दिव्यांग हैं, सरकारी मदद नहीं मिल रही है। शिवा को मदद के लिए गुरुवार को पूरे दिन दीपक सिंह नगर निगम दफ्तर में बैठे रहे। सर्वर स्लो होने के कारण उनका पेंशन रिलीज नहीं हो सका। शिवा को पांच सौ रुपये बहु विकलांग और 3 सौ रुपये नि:शक्तता का मिलेगा। शासकीय सेवा में काम करने वाले सभी कर्मचारियों का दायित्व जनसेवा ही होता है। इनमें कुछ ही ऐसे होते हैं जो मिशाल बन जाते हैं। संस्थागत वित्त विभाग में सेवाएं दे रहे दीपक सिंह को चार माह पहले ही सामाजिक न्याय विभाग का अतिरिक्त प्रभार मिला। इसमें उन्होंने कई परिवारों की आशीष बटोर ली। ड्यूटी को ड्यूटी समझ कर काम करने वाले दीपक सिंह को 28 साल की नौकरी में 20 बार श्रेष्ठ कर्मचारी का पुरस्कार मिल चुका है। बेहतर और कम से कम समय में सटीक काम करने के लिए दीपक सिंह मिशाल बन गए हैं।

 


- सीधी जिले में 15 साल की नौकरी में 12 बार श्रेष्ठ कर्मचारी का अवार्ड मिला। कटनी में 13 साल की नौकरी में 8 बार हुए सम्मानित।
- अल्पबचत में उल्लेखनीय कार्य ऐसा कि संस्थागत वित्त विभाग में लक्ष्य से 375 प्रतिशत ज्यादा काम किया। श्रेष्ठ कर्मचारी अवार्ड मिला।
- जिले के बड़वारा विधानसभा में बीते वर्ष शहडोल लोकसभा संसदीय निर्वाचन के लिए मतदान हुआ। चुनाव सामग्री रखने के दौरान हर चीज को ध्यान में रखने के लिए अवार्ड मिला।

 

 

- पिताजी ने सिखाया है अपना काम सही तरीके से ईमानदारी से करना, और जितने लोंगो का हो सके परोपकार करना। सरकारी सेवा के माध्यम से प्रतिदिन ज्यादा से ज्यादा लोंगो को लाभ दिलाने का प्रयाश रहता है।
दीपक सिंह उपसंचालक सामाजिक न्याय विभाग कटनी

Patrika
raghavendra chaturvedi Bureau Incharge
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned