पांच सौ मीटर जीआइ तार में फैला था करंट, चपेट में आकर आठ बंदरों की मौत

समीप में ही पुलिस चौकी, स्कूल और बसस्टेंड, करंट की चपेट में आकर आठ बंदरों की मौत के बाद मचा हड़कंप, वन विभाग ने दर्ज किया प्रकरण.

By: raghavendra chaturvedi

Updated: 27 Nov 2020, 10:36 PM IST

Katni, Katni, Madhya Pradesh, India

कटनी. रीठी वनपरिक्षेत्र अंतर्गत बिलहरी बसस्टेंड में पांच सौ मीटर लंबी जीआइ तार में फैले करंट की चपेट में आकर आठ बंदरों की मौत के बाद हड़कंप मच गया। शुक्रवार सुबह जैसे ही ग्रामीणों ने बंदरों का शव देखा तो हड़कंप मच गया। आनन फानन में वन विभाग को सूचना दी गई। मौके पर पहुंची वन विभाग की टीम ने जांच के बाद आरोपी विनोद गुप्ता के खिलाफ वन्यप्राणी संरक्षण अधिनियम 1972 की धारा 2, 9, 29 और 51 पर प्रकरण दर्ज किया है।

रीठी रेंजर बहादुर सिंह ने बताया कि जिस स्थान पर जीआइ तार में करंट फैलाया गया था, वहां समीप में ही पुलिस चौकी, बसस्टेंड और स्कूल है। इस तरह की लापरवाही से गंभीर हादसा हो सकता था। प्रथमदृष्टया जांच में मिले तथ्यों के आधार पर कह सकते हैं कि आरोपी ने बंदरों को मारने के लिए करंट फैलाया था। वहीं ग्रामीणों ने बताया कि हादसा मनोज नायक के खेत में हुआ है। बंदरों की मौत के बाद वन्यप्राणी पे्रमियों में आक्रोश है।

इस संबंध में डीएफओ रमेश चंद्र विश्वकर्मा का कहना है कि बिलहरी में मनोज नायक के खेत में बंदरों की मौत मामले में करंट फैलाने के आरोपी विनोद गुप्ता पर वन्यप्राणी संरक्षण अधिनियम की विभिन्न धाराओं में प्रकरण दर्ज कर कार्रवाई की जा रही है।

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned