सार्थक एप में हाजिरी लगाने गंभीर नहीं कर्मचारी, मॉनिटरिंग में भी लापरवाही

10 हजार कर्मचारी, 5886 ने किया पंजीयन, लॉगिन कर रहे 4 हजार कर्मचारी.

एप सरकारी, सुविधा नि:शुल्क, फिर भी अपनाने में परहेज.

कलेक्टर ने कहा दिसंबर का वेतन सार्थक एप के आधार पर होगा, नहीं हुआ पालन

कटनी. शासकीय कर्मचारी सेवा शर्तों के अनुसार ड्यूटी समय पर कार्यस्थल पर मौजूद हैं या नहीं इसके लिए जिला प्रशासन द्वारा लागू की गई डिजिटल मॉनीटरिंग सार्थक एप से हाजिरी की व्यवस्था दिखावा साबित हो रहा है। जिलेभर में अलग-अलग शासकीय विभागों में दस हजार से ज्यादा कर्मचारियों में 5 हजार 886 कर्मचारियों ने ही सार्थक एप में पंजीयन किया। सार्थक एप में उपस्थिती दर्ज करने के मामले में बेपरवाही का आलम यह है कि आधे से ज्यादा कर्मचारियों ने मोबाइल पर पंजीयन ही नहीं किया।

जिन कर्मचारियों ने पंजीयन किया है वे भी प्रतिदिन लॉगिन हाजिरी दर्ज नहीं करा रहे हैं। सोमवार को 4 हजार 258 कर्मचारियों ने ही लॉगिन किया। खासबात यह है सभी कर्मचारी सार्थक एप से डिजिटल उपस्थिति दर्ज कराएं इसके लिए कलेक्टर एसबी सिंह ने दिसंबर माह का वेतन सार्थक एप के आधार पर जारी करने के निर्देश दिए थे। इधर जनवरी माह में कर्मचारियों को मिलने वाले वेतन में कलेक्टर के इस निर्देश पर भी अमल नहीं हुआ।

शासकीय कर्मचारियों के डिजिटल मॉनीटरिंग के लिए कटनी में पहले भी निजी डेवलपर का लोक सेवक एप तत्कॉलीन कलेक्टर विशेष गढ़पाले ने लागू किया था। इस सुविधा में शुल्क को लेकर बात नहीं बनी थी। अब सार्थक एप सरकारी एप है। जिसे मध्यप्रदेश एजेंसी फॉर प्रमोशन एंड इंफार्मेशन टेक्नोलॉजी (मैपआइटी) ने तैयार किया है। 'सार्थक' नाम से तैयार इस एप का उपयोग नि:शुल्क है।

सार्थक एप को लेकर जिला पंचायत सीइओ जगदीश चंद्र गोमे बताते हैं कि सार्थक एप हमने जिला पंचायत में लागू की है। सभी कर्मचारी एप को स्वेच्छा से अपनाकर इसमें लॉगिन करें। ऐसी व्यवस्था की जाएगी।

यह भी जानें
- कृषि विभाग में अधिकारी को जारी एक आइडी के बाद अन्य कर्मचारियों ने दूसरी आइडी नहीं बनाई।
- नगर निगम में अब तक सार्थक एप से मॉनीटरिंग प्रारंभ नहीं हो सका है। यहां कर्मचारी ज्यादा लापरवाही बरतते हैं।
- फील्ड में काम करने वाले विभाग पीडब्ल्यूडी, जल संसाधन, आरइएस में क्रमश: 50, 43 व 16 कर्मचारियों ने पंजीयन किया है, लेकिन नियमित लॉगिन नहीं कर रहे।

raghavendra chaturvedi Bureau Incharge
और पढ़े

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned