कबाड़ की मशीन सुधारकर बचाए 50 लाख रुपए, बन रहे AK-47 के पार्ट्स

ओफके में रक्षा उत्पाद बनाने वाले इंजीनियरों ने कबाड़ पड़ी मशीन को सुधारा, 50 लाख रुपए बचाए, एके-47 और 5.56 कप के पार्ट्स बनाने में होगी आसानी..

By: Shailendra Sharma

Published: 13 Aug 2020, 03:26 PM IST

कटनी. देशभर में आत्मनिर्भरता की ओर बढ़ते कदम के बीच ऑर्डिनेंस फैक्ट्री कटनी (ओएफके) के इंजीनियर्स ने पहल की है। यहां एके-47 और 5.56 कप रक्षा यंत्र के लिए जरूरी पार्ट्स बनाने में जब मशीन की कमी महसूस हुई तो ओएफके के इंजीनियरों ने विदेश से आयात की गई एक पुरानी कबाड़ मशीन को ही सुधार लिया और उत्पादन लक्ष्य को प्राप्त किया। आत्मनिर्भरता की इस कहानी की खासियत यह है कि इस मशीन में लगने वाले पार्ट्स भी आयात नहीं किए गए, बल्कि ओएफके के इंजीनियरों ने स्थानीय स्तर पर ही पार्ट्स बनाकर इस उपकरण में लगाया और कबाड़ में रखी मशीन को चालू किया।

 

katni_02.jpg

AK-47 के बनेंगे पार्ट्स
ओएफके इंजीनियरों ने बताया कि कोरोना काल और लॉकडाउन के कारण एके-47 व 5.56 कप के कंपोनेंट का उत्पादन लक्ष्य प्रभावित हो रहा था। एक मशीन से निर्धारित समय सीमा में उत्पादन कार्य पूरा करने में मुश्किल हो रही थी। अपर महाप्रबंधक एन. इक्का, ज्वाईंट जीएम एसके यादव और ज्वाईंट जीएम अरूण कुमार के मार्गदर्शन में सीएस, मैकेनिकल और इलेक्ट्रिक मैंटनेंस की कुशल तकनीकी टीम ने एक पुरानी आयतित विदेशी मशीन को सेमी मेकेनाईज्ड कर पुन: उत्पादन योग्य बनाने में सफलता पाई।

katni_03.jpg

कबाड़ से बचा लिए 50 लाख रुपए
मशीन को चालू करने में आने वाली अनुमानित लागत में 50 लाख रूपए की बचत हुई हैं, जिसमे अधिकतर पार्ट्स विदेश से आयात करने होते हैं लेकिन इंजीनियर्स ने पार्ट्स को आयात करने की जगह खुद ही पार्ट्स बनाए और मशीन को चालू कर लिया। कबाड़ की मशीन को चालू कर 50 लाख रुपए की बचत करने वाली इंजीनियर्स की इस टीम में उमा दत्त गौतम, जेडब्यूएम, रेजीनाल्ड जेकब, नीरज गोटिया, वीरेंद्र वर्मा, विनय शर्मा, विनोद रजक, मनोज कुमार, सुरेश, हर्ष नारायण, मनीष सेन, राम प्रसाद, सुभाष शर्मा, सत्य नारायण लोहार, अंशुल तिवारी और रजनीश शर्मा शामिल हैं।

 

katni_04.jpg

पुरानी मशीन से किया सफल रक्षा उत्पादन
ऑर्डिनेंस फैक्ट्री कटनी के महाप्रबंधक वीपी मुंघाटे ने बताया कि आयुध निर्माणी कटनी में आत्मनिर्भर भारत सप्ताह की शुरूआत करते हुए भारतीय आयुध निर्माणियां मेक इन इंडिया और आत्मनिर्भर भारत के विजन को पूरा करने हेतु प्रतिबद्ध है। कटनी तैयार मशीन से आत्मनिर्भर भारत अभियान रक्षा उत्पादन उद्योग में तकनीक के नए प्रयोग अपनाने और दूसरों पर निर्भरता को कम करने में मददगार होगा इससे लागत कम होगी और देश की पूंजी भी बचेगी।

Show More
Shailendra Sharma
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned