33 हजार 236 प्रवासी मजदूरों में से 28 हजार 385 को मिलेगा मनरेगा का काम

-11568 श्रमिकों के 4812 नए जॉबकार्ड जारी
-8 हजार 901 श्रमिकों के 4263 जॉबकार्ड रिन्यू

By: Ajay Chaturvedi

Updated: 30 Jun 2020, 03:31 PM IST

कटनी. कोरोना संक्रमण को फैलने से रोकने के लिए लागू लॉकडाउन के चलते जिले में 33 हजार 236 प्रवासी मजदूर लौटे। इन सभी को इनके मुताबिक काम देना प्रशासन के लिए चुनौतीपूर्ण कार्य रहा। लेकिन इसी बीच केंद्र सरकार के स्तर से शुरू गरीब कल्याण रोजगार अभियान ने काफी सहूलियत प्रदान की। इस अभियान के जरिए प्रशासन अब मजदूरों को काम पर लगाने में जुट गया है।

बताया जा रहा है कि ग्रामीण क्षेत्रों में अभियान के तहत 15050 कार्य प्रगति पर हैं जबकि 15 हजार 806 कार्य प्रस्तावित हैं। रोजगार सेतु पोर्टल पर विभिन्ना ट्रेड में हुनरमंद 16 हजार 491 प्रवासी मजदूरों ने पंजीयन कराया है। इनमें 5680 श्रमिक मनरेगा में कार्यरत हैं। जिले में बाहर से आए 33 हजार 236 मजदूरों में से 28 हजार 385 मजदूर जॉबकार्ड के पात्र रहे हैं। अभी तक 11568 श्रमिकों के 4812 नए जॉबकार्ड जारी किए गए हैं जबकि 8 हजार 901 श्रमिकों के 4263 जॉबकार्ड रिन्यू किए गए हैं। श्रमसिद्घि अभियान में बाहर से आए 16 हजार 72 श्रमिक और 89 हजार 303 स्थानीय श्रमिकों को नियोजित किया गया है।

जिला प्रशासन का दावा है कि लॉकडाउन में अन्य राज्यों से लौटे प्रवासी मजदूरों को स्थानीय रोजगार के लिए जिले में लागू गरीब कल्याण रोजगार अभियान में 25 तरह के रोजगार मूलक कार्य लागू किए जाएंगे। सीईओ जिला पंचायत जगदीश चंद्र गोमे के मुताबिक देश के 116 जिलों सहित कटनी में लागू गरीब कल्याण रोजगार अभियान के तहत विभिन्ना विभागों से संबंधित 25 तरह के निर्माण कार्य शुरू कर प्रवासी मजदूरों को कम से कम 125 दिन का रोजगार दिया जा रहा है।

Show More
Ajay Chaturvedi
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned