कमिश्नर के आदेश पर भी नहीं मिल रहा मछली पालन के लिए जलाशय, जिला सीइओ को लोगों ने बताई समस्या

मछली पालन के लिए जलाशय दिए जाने की मांग को लेकर जिला पंचायत सीइओ के पास पहुंचे समिति के सदस्य, बताई समस्या

By: balmeek pandey

Published: 02 Sep 2020, 07:53 PM IST

कटनी. जिला पंचायत सीइओ जगदीशचंद्र गोमे के पास शुक्रवार को ग्राम ठरका व ग्राम अमेहटा से समिति के सदस्य पहुंचे, उन्होंने कहा कि उन्हें मछली पालन के लिए तलाब दिया जाए। कमिश्नर से आदेश होने के बाद भी उन्हें मछली पालन के लिए तालाब नहीं दिया जा रहा। यही हाल ठरका जलाशय का भी है। समिति को नहीं दिया जा रहा। आदिवासी मछुआ सहकारी समिति पौनिया विकासखंड ढीमरखेड़ा के सदस्य रामलाल कोल, रामचरण कोल, रज्जूराम कोल, विधरी कोल, शिवहरी कोल, प्यारे कोल, प्यारे सिंह गोंड़, प्यारी बाई, सिया बाई कोल, मोहन कोल, अशोक कोल आदि ने सीइओ से की गई शिकायत में बताया कि अमेहटा जलाशय को मछुहा सहकारी समिति को 10 वर्ष के लिए पट्टे पर दिए जाने के लिए संभागायुक्त से निर्देश हैं। विज्ञप्ति बुलाने कहा गया है। एक माह से ज्यादा का समय बीत जाने के बाद भी मत्सय विभाग द्वारा कोई कार्रवाई नहीं की गई।

इन्होंने भी की शिकायत
ठरका जलाशय के लिए पहुंचे सदस्य सुशील कुमार कोल, दयाली ठाकुर, गुलशेर अहमद, छोटेलाल, सुनील, श्याम आदि ने कहा कि यहां पर सिंघनपुरी व भनपुरा नं. 2 समिति हैं। अभी किसी को भी जलाशय नहीं दिया गया। यहां पर अवैध व मनमाने तरीके से मछली पकड़ी जा रही हैं। इतना ही नहीं डायनामाइट से मछली मारी जा रही हंै, एकदम से विस्फोट होने पर जलाशय की मेड़ को नुकसान होने की आशंका है। इसकी शिकायत भी मत्स्य विभाग से की गई, लेकिन उप संचालन ध्यान देने को तैयार नहीं हैं। सदस्यों ने सीइओ से शीघ्र ही उचित कार्रवाई करने मांग की है।

balmeek pandey
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned